गुरुवार, मार्च 31, 2011

हास्य कवि और उनकी कविता



अक्सर हास्य कवियों पर यह आरोप लगते है कि वह लतीफों को पंक्तिबद्ध 
करके रचनाएँ लिखते है | मगर मेरा मानना है कि हास्य कवि दोहरी भूमिका 
निभाता है | इस व्यथित समाज को हँसाने के साथ  साथ सन्देश भी देता है |
चलिए एक आरोप और लगा दीजिये |



एक पत्र, एक संपादक को
बहुत परेशान कर रहा था |
क्योंकि एक पाठक  बार बार
पृष्ठों की संख्या और आकार
बढ़ाने का आग्रह कर रहा था |
संपादक ने विनम्रता से पूछा  
 हे सरस्वती पुत्र  साहित्य प्रेमी 
 हम आपका सम्मान करते है | 
मगर यह तो बताएं ?
की आप साहित्य की किस ,
विधा में सृजन कार्य करते है |   
उसने कहा  श्रीमान जी ,
मेरा साहित्य से  कोई नहीं सरोकार है |
मेरा तो लिफाफे बनाने का कारोबार  है |





26 टिप्‍पणियां:

  1. एक सार्थक सन्देश का सम्प्रेषण

    जवाब देंहटाएं
  2. यह भी खूब कही सुनील जी. हास्य भी आवश्यक अंग है जीवन का.

    जवाब देंहटाएं
  3. व्यंग में भी एक सन्देश... इस सुन्दर रचना के लिए आपका बहुत - बहुत आभार..

    जवाब देंहटाएं
  4. हा हा!! उसका फायदा इसी में है. :)

    जवाब देंहटाएं
  5. बहुत सटीक टिप्पणी की है आपने !

    कुछ रद्दी होकर छप जाता है
    कुछ छपकर रद्दी बन जाता है

    जवाब देंहटाएं
  6. हा..हा...हा...हा...
    आनंद आ गया भैया यहाँ क्या मासूमियत है :-)

    जवाब देंहटाएं
  7. हा --हा --हा---हा --
    वाह !सुनीलजी ,क्या कविता रचित की है --भाई आनंद आ गया --बेचारे लिफ़ाफ़े बनाने वाले को साहित्य से क्या लेना देना हा --हा --?

    जवाब देंहटाएं
  8. लिफाफे वाला अपनी दुकान चलाने का सार्थक प्रयास कर रहा है . किसी विज्ञापन कंपनी को स्लोगन के रूप में प्रेषित करे सहज स्वीकार हो जायेगा

    जवाब देंहटाएं
  9. हा हा हा
    उसके लिए तो लिफाफा निर्माण ही साहित्य सर्जना है

    जवाब देंहटाएं
  10. Sunil jee, utsukta jab hansi me badal jaye to pet me bal par jata hai...ha!ha!ha!....bahut achchhi lagi...aage v pratiksha hai..

    जवाब देंहटाएं
  11. हँसाना कहाँ आसान काम होता है ....भोजीपुरा अरे आप तो मेरे जन्मस्थान के पडोसी निकले ...किच्छा तो जरुर सुना होगा आपने ...

    जवाब देंहटाएं
  12. ये भी ठीक कही ... सबका अपना अपना राग ...

    जवाब देंहटाएं