शुक्रवार, मार्च 30, 2012

गर्मी की छुट्टी ....(.बाल कविता)

लो हुई छुटियाँ बंद स्कुल 
चिंटू अब  है बिलकुल कूल

दिन भर मस्ती करता रहता ।
सुबह देर से सो कर उठता  ।

पापा कहते कुछ तो  पढ़ लो
मम्मी कहतीं होम वर्क कर लो ।

चिंटू भगवान् से करता प्रार्थना ।
अगला महीना कभी ना आना।


28 टिप्‍पणियां:

  1. sach hai kaun chahega ki chhutiyan khatm hon.achchhi bal kavita.aabhar.

    जवाब देंहटाएं
  2. उत्तर
    1. सच मच सुन्दर रचना नै ज़मीन तोड़ी आपने इस नए क्षेत्र में प्रवेश किया .

      हटाएं
  3. सच है बच्चों को छुट्टियों सा आनंद कब मिलता है....

    जवाब देंहटाएं
  4. आह छुट्टियाँ ....वाह छुट्टियाँ

    जवाब देंहटाएं
  5. :-)

    सच्ची....हम भी अगर बच्चे होते...
    हमारी भी छुट्टियाँ आतीं...

    सादर.

    जवाब देंहटाएं
  6. मेरी टिप्पणी स्पाम से निकालिए सर......

    जवाब देंहटाएं
  7. अब तो छुट्टियां मिलती ही बड़ी कम हैं.

    जवाब देंहटाएं
  8. ह्म्म्म बच्चे भी खुश कि सुनील अंकल हमारा ख्याल रखते हैं। सुंदर कविता।

    जवाब देंहटाएं
  9. वाह छुट्टियाँ...अति सुन्दर लिखा है

    जवाब देंहटाएं
  10. सही है छुट्टियों में कैसा होम वर्क कैसी पढाई...
    सुन्दर रचना...

    जवाब देंहटाएं
  11. चलो जी छुट्टियाँ भी खतम

    जवाब देंहटाएं
  12. हा हा ... सब बच्चे चिंटू के साथ हैं ...

    जवाब देंहटाएं
  13. अब कहां रही छुट्टियां। होमवर्क के बोझ तले दबे हैं बच्चे।

    जवाब देंहटाएं
  14. बहुत बढ़िया रचना...अपने पोते को सुनाऊँगा. :)

    जवाब देंहटाएं