मंगलवार, जुलाई 26, 2011

यह क्या है .......



क्यों  बदल गयी यकायक हवाओं की खुशबू ,
शायद तेरे घर की आज  खिड़की खुली  होगी |

क्यों  गुम हो गयी यकायक आसमां से चाँदनी, 
शायद एक जुल्फ तेरे चेहरे पर आ गयी होगी |

बेजान दिल ने फिर से धड़कना भी शुरू कर दिया, 
शायद तेरे क़दमों की आहट, दिल को आ गयी होगी | 

32 टिप्‍पणियां:

  1. क्या बात है ..बहुत रुमानियत भरी रचना

    उत्तर देंहटाएं
  2. Wah! Behad roomani rachana...harek shabd khoobsoorat,harek pankti lubhawni hai!

    उत्तर देंहटाएं
  3. Apki is rachna par hum kya kahen,
    jo khud gulab ho use gulab kya kahen.......

    Lajwaab rachna... Subha subha hi esi rachna padhne ko mili, maja aa gya......

    Jai hind jai bharatApki is rachna par hum kya kahen,
    jo khud gulab ho use gulab kya kahen.......

    Lajwaab rachna... Subha subha hi esi rachna padhne ko mili, maja aa gya......

    Jai hind jai bharat

    उत्तर देंहटाएं
  4. बहुत खूब.
    सुन्दर प्रस्तुति.
    आभार.

    उत्तर देंहटाएं
  5. बहुत खुबसूरत भाव सुनील भाई ....आनंद आ गया ! शुभकामनायें आपको !

    उत्तर देंहटाएं
  6. बहुत ही खूबसूरती से कोमल एहसास को प्रस्तुत किया आपने...

    उत्तर देंहटाएं
  7. क्या बात है, बहुत सुंदर

    क्यों गुम हो गयी यकायक आसमां से चाँदनी,
    शायद एक जुल्फ तेरे चेहरे पर आ गयी होगी |

    उत्तर देंहटाएं
  8. शेर वाकई बहुत अच्छे हैं।

    उत्तर देंहटाएं
  9. खुशबू सी आ रही है कहीं ज़ाफ़रान की,
    खिड़की खुली हुई है फिर उसके मकान की! (नीरज)

    उत्तर देंहटाएं
  10. कोमल एहसास को प्रस्तुत किया आपने...बहुत ही सुन्दर रचना
    नई पोस्ट पर आपका स्वागत है
    सुनील जी

    उत्तर देंहटाएं
  11. are wah...kya baat hai......?

    cha gayee ye rachana..........

    उत्तर देंहटाएं
  12. खूब सूरत अंदाज़े बयाँ.भाव सौन्दर्य प्रधान रचना .

    उत्तर देंहटाएं
  13. वाह क्या बात और अंदाजे बयां है :)

    उत्तर देंहटाएं
  14. बहुत सुन्दर रचना लिखा है आपने !दिल को छू गई हर एक पंक्तियाँ! उम्दा प्रस्तुती!
    मेरे नए पोस्ट पर आपका स्वागत है-
    http://ek-jhalak-urmi-ki-kavitayen.blogspot.com/

    उत्तर देंहटाएं