शनिवार, जुलाई 09, 2011

लगेगी उम्र तुम्हें हमको भूल जाने में .............चंद शेर



नहीं मिलेगा  कोई  मुझसा तुम्हें ज़माने में, 
लगेगी  एक उम्र  तुम्हें, हमको भूल जाने में|

है रूठना, तो तुम रूठो मगर यह याद रखो, 
कहीं गुजर ना जाये यह रात बस  मनाने में|

चलो आँधियों  से कहें  कि रास्ता बदलो,
लगी है उम्र  हमें  बस  एक घर बनाने में|


यह कौन मेरे दर पे देके दस्तक चला गया ,
उसे  कुछ और, लगेगा वक्त मुझको  भुलाने में|   

31 टिप्‍पणियां:

  1. भैय्या, ज़रा केयरफ़ुल रहना
    कहीं बात न पहुंच जाए ज़नाने में :)

    उत्तर देंहटाएं
  2. चलो आंधियों से कहें की रास्ता बदलो,
    लगी है उम्र हमें एक घर बनाने में।

    वशीर साहब कहते हैं

    लोग टूट जाते हैं, एक घर बनाने में
    तुम तरस नहीं खाते, बस्तियां जलाने में।

    उत्तर देंहटाएं
  3. गज़ब के शेर गज़ब की गज़ल्………बधाई।

    उत्तर देंहटाएं
  4. ला-जवाब" जबर्दस्त!!गज़ब के शेर
    ...... बहुत खूब .......

    उत्तर देंहटाएं
  5.  अस्वस्थता के कारण करीब 20 दिनों से ब्लॉगजगत से दूर था
    आप तक बहुत दिनों के बाद आ सका हूँ,

    उत्तर देंहटाएं
  6. वो जायेंगे भूल, मगर, भूली हुई सामान की रपट
    लिखने आप न चले जाएँ थाने में
    __________
    वन्स मोर !

    उत्तर देंहटाएं
  7. सुन्दर भावाभिव्यक्ति ||
    बधाई ||

    उत्तर देंहटाएं
  8. यह कौन मेरे दर पे देके दस्तक चला गया ,
    उसे कुछ और, लगेगा वक्त मुझको भुलाने में|

    वाह ..बहुत खूबसूरत गज़ल ...

    उत्तर देंहटाएं
  9. चलो आंधियों से कहें की रास्ता बदलो,
    लगी है उम्र हमें एक घर बनाने में।

    वाह..बहुत खूबसूरत........

    उत्तर देंहटाएं
  10. है रूठना तो तुम रूठो मगर यह याद रखो,
    कहीं गुजर ना जाये यह रात बस मनाने में।

    बहुत अच्छी ग़ज़ल।

    उत्तर देंहटाएं
  11. क्या बात करते हैं सुनील बाबू!
    तुमको न भूल पाएंगे!!

    उत्तर देंहटाएं
  12. दिल की बातें दिल से लिखी है ...

    उत्तर देंहटाएं
  13. लाज़वाब गज़ल..हरेक शेर बहुत उम्दा और दिल को छू जाता है..

    उत्तर देंहटाएं
  14. वाह ! दिल से निकले चंद बहुत उम्दा अशयार !

    उत्तर देंहटाएं
  15. चलो आंधियों से कहें की रास्ता बदलो
    लगी है उम्र हमें एक घर बनाने में
    लाजवाब प्रस्‍तुति
    ,
    हर शेर दमदार।
    शुभकामनाएं आपको..........

    उत्तर देंहटाएं
  16. है रूठना तो तुम रूठो मगर यह याद रखो,
    कहीं गुजर ना जाये umr बस मनाने में।
    behatrin

    उत्तर देंहटाएं
  17. सुनील जी,
    हमें लगा है काफी वक़्त आपकी ग़ज़ल से बाहर आने में
    क्या पता ऐसे कितने और शेर हैं आपके गज़लखाने में...
    बधाई हो!!!!

    उत्तर देंहटाएं
  18. उम्दा, आँधियों से कहना ही पड़ेगा।

    उत्तर देंहटाएं
  19. चारों शेर एक से बढ़ कर एक है, भावाभिव्यक्ति मे दमदार हैं.

    उत्तर देंहटाएं