गुरुवार, जून 09, 2011

आज कल के हालात पर चंद शेर


जमीं तो बाँट ली हमने अब आसमाँ की बारी है ,
संभल जाओ ए चाँद और सूरज अब खैर नहीं तुम्हारी है |

अँधेरे आजकल  बदनाम होने  से यूँ बच गए,
अब तो दिन दहाड़े ही गुनाहों का खेल जारी है |

अब तो  सरेआम लुट रहीं हैं अस्मतें बाज़ार में,
मगर अदालतों में वकीलों की गवाहों से ज़िरह जारी है |

 शहर में आजकल चोर डाकुओं का खौफ़ कुछ भी नहीं ,
 बस सफ़ेद टोपियों और खाकी वर्दियों का कहर जारी है |

उधर सरहद पर मर रहें है दो चार लोग रोज़ ,
इधर दोस्ताना माहौल में दोस्ती की बातचीत जारी है |

यह कैसी  बिसात बिछी है सियासत के मैदानों में ,
कि बाज़ी कोई भी जीते पर हार तो हमारी है |


    

48 टिप्‍पणियां:

  1. andhere badnam hone se bach ...............
    lajavab sher

    ...........
    har to hamari hai
    nihshbad hoon
    sunder
    badhai
    rachana

    उत्तर देंहटाएं
  2. बहुत बढ़िया ...सटीक हैं आज के हालात पर आपके शेर..... उम्दा प्रस्तुति

    उत्तर देंहटाएं
  3. वाह वाह लाज़वाब कर दिया !आज के विरूप स्थिति का चित्रांकन शब्दों में ।
    उधर सरहद पर मर रहें हैं दो चार लोग रोज़ ,

    इधर दोस्ताना माहौल में दोस्ती की बात ज़ारी है .

    उत्तर देंहटाएं
  4. आज के परिप्रेक्ष्य में एकदम सटीक रचना। आभार।

    उत्तर देंहटाएं
  5. सच ... बहुत ही सार्थक लेखन ... आज के दौर का सफल चित्रण है ये रचना ...

    उत्तर देंहटाएं
  6. मौजूदा दौर की वास्‍तविकता को उजागर करती रचना

    बहुत ही उम्‍दा और प्रभावी
    शुभकामनाए आपको

    उत्तर देंहटाएं
  7. उधर सरहद पर मर रहें है दो चार लोग रोज़ ,
    इधर दोस्ताना माहौल में दोस्ती की बातचीत जारी है |


    बहुत सुन्दर गज़ल ..हर शेर अहम बात कहता हुआ .

    उत्तर देंहटाएं
  8. सुंदर गज़ल !बिलकुल सटीक चित्रण ...सूरज का अभी कह नहीं सकते लेकिन आगे चलकर चाँद का बंटवारा तो हो ही जाएगा लगता है !!

    उत्तर देंहटाएं
  9. आज के हालात का जायजा लेती एक बेबाक प्रस्तुति !

    उत्तर देंहटाएं
  10. वंदना जी का सन्देश --

    आपकी रचना यहां भ्रमण पर है आप भी घूमते हुए आइये स्‍वागत है
    http://tetalaa.blogspot.com/

    उत्तर देंहटाएं
  11. बहुत सशक्त और शानदार गज़ल्।

    उत्तर देंहटाएं
  12. सुन्दर सार्थक अभिव्यक्ति्…..

    उत्तर देंहटाएं
  13. आपकी उम्दा प्रस्तुति कल शनिवार (11.06.2011) को "चर्चा मंच" पर प्रस्तुत की गयी है।आप आये और आकर अपने विचारों से हमे अवगत कराये......"ॐ साई राम" at http://charchamanch.blogspot.com/
    चर्चाकार:Er. सत्यम शिवम (शनिवासरीय चर्चा)

    उत्तर देंहटाएं
  14. आजकल के हालात और सरकार की अकर्मण्यता का सटीक चित्रण।

    उत्तर देंहटाएं
  15. बहुत अच्‍छा लिखा.

    http://www.mydunali.blogspot.com/

    उत्तर देंहटाएं
  16. उधर सरहद पर मर रहें है दो चार लोग रोज़ ,
    इधर दोस्ताना माहौल में दोस्ती की बातचीत जारी है |

    ........बहुत सुन्दर गज़ल

    उत्तर देंहटाएं
  17. कुछ व्यक्तिगत कारणों से पिछले 15 दिनों से ब्लॉग से दूर था
    इसी कारण ब्लॉग पर नहीं आ सका !
    http://sanjaybhaskar.blogspot.com/2011/06/blog-post_10.html

    उत्तर देंहटाएं
  18. बहुत लाज़वाब गज़ल...हरेक शेर आज की अवस्था पर सटीक टिप्पणी..

    उत्तर देंहटाएं
  19. आजकल के हालात पर सटीक टिप्पणी.

    उत्तर देंहटाएं
  20. जहाँ इतने प्रखर साधक ,संवेदनशील प्रहरी हों मौलिकता को आंच नहीं आ सकती ,लेखनी की धार कहती है ,आप प्यार के सिवा कुछ भी बांटने नहीं देंगे जी /सुंदर शिल्प ,व शिल्पकार को बधाई ...

    उत्तर देंहटाएं
  21. बहुत सुन्दर भाव और अभिव्यक्ति के साथ लाजवाब रचना लिखा है आपने! प्रशंग्सनीय प्रस्तुती!

    उत्तर देंहटाएं
  22. इस टिप्पणी को लेखक द्वारा हटा दिया गया है.

    उत्तर देंहटाएं
  23. देश समाज की समसामयिक हालात पर बहुत सुन्दर रचना ! और आपने सही कहा कि इधर कितना भी लढाई हो रहा हो राजनेता बस शांति का ढोंग रचाते रहेंगे ...

    उत्तर देंहटाएं
  24. बहुत लाजवाब शेर ... आईना दिखा रहे हैं सब शेर समाज को ...

    उत्तर देंहटाएं
  25. जमीन भी जायेगी, इज्जत भी जायेगी,
    उसके बाद बचेगा क्या?

    उत्तर देंहटाएं
  26. क्या व्यंग्य किया है साहब इनके आगे चोर डाकू तो बेचारे कुछ भी नहीं हेै। अगला शेर भी शानदार कडा बिरोधपत्र न जाने कब से चल रहा है ,सही है जनता तो बेचारी हारी हुई ही है जीत कोई भी जाय । शानदार

    उत्तर देंहटाएं
  27. आज का चित्रण इससे बेहतर कैसे हो सकता है।बेहतरीन रचना है यह आपकी

    उत्तर देंहटाएं
  28. मौजूदा परिस्थिति की तो आपने पोल खोल दी है . शानदार रचना

    उत्तर देंहटाएं
  29. आज का सच है ये .....अच्छा लिखा ....

    उत्तर देंहटाएं
  30. सही लिखा....
    बाजी कोई भी जीते पर हार हमारी है।

    उत्तर देंहटाएं