गुरुवार, जून 02, 2011

आशा और निराशा


जब जब दस्तक देती मेरे ,
मन के दरवाजे पर आशा |
खुलते पट जब दरवाजों के
मिलती सामने उसे निराशा |



नहीं किया निराश कभी मैंने ,
चौखट पर खड़ी हवाओं को
जला दिए है दीप अश्क के ,
बस उनके लिए बुझाने को |



27 टिप्‍पणियां:

  1. खुलते पट जब दरवाजे के
    मिलती सामने उसे निराशा !
    बिलकुल सही कहा है !
    achi rachna .......

    उत्तर देंहटाएं
  2. आपकी आशावादी सोच को सलाम ........बहुत खूब

    उत्तर देंहटाएं
  3. सकारात्मक सोच के साथ सुन्दर कविता.

    उत्तर देंहटाएं
  4. खुबसुरत भावों से सजी बेहतरीन रचना। आभार।

    उत्तर देंहटाएं
  5. सकारात्मक भावनाओं का बहुत सुंदर चित्रण . ...बधाई.

    उत्तर देंहटाएं
  6. आशा की आशा ही फिजूल है.. आगंतुक के लिए पट खोलें और आगत का स्वागत करें.. निराशा भी आशा में बदल जायेगी!!

    उत्तर देंहटाएं
  7. आशावादी सोच को संचारित करते भाव.....सुंदर पंक्तियाँ

    उत्तर देंहटाएं
  8. हम्म...अपनी सहज सकारात्मक्ता को नहीं छोड़ना चाहिये..उम्दा विचार ..बढ़िया रचना.

    उत्तर देंहटाएं
  9. आशा का दामन कभी भी नहीं छोड़ना चाहिए , अच्छी रचना बधाई

    उत्तर देंहटाएं
  10. bhut ashavaadi apki panktiya... jivan me ek nayi asha bharti apki rachna... bhut khub..

    उत्तर देंहटाएं
  11. सुंदर पंक्तियां है , बहुत खूबसूरत

    उत्तर देंहटाएं
  12. बहुत सुन्दर रचना है ऐसे ही लिखते रहें

    उत्तर देंहटाएं
  13. बहुत सुंदर प्रस्तुति जी धन्यवाद

    उत्तर देंहटाएं
  14. दीप जलाए जा आशा का
    तम मिटेगा निराशा का :)

    उत्तर देंहटाएं
  15. sunil bhai ji
    aaj subsh subsh aapki komal v aashhvaadita se bhat ati sunadar rachna padhne ko mili.
    sach! bahut hi suhdar bhavo ko samete hue hai aapki kacita
    ssadar naman
    vbadhai ke saath
    poonam

    उत्तर देंहटाएं
  16. जला दिए हैं दीप अश्क के, उनके लिए बुझाने को ...

    बहुत खूब इस लय में आनंद आ गया ! शुभकामनायें आपको !

    उत्तर देंहटाएं
  17. सुनील भाई, दूसरा कता बहुत प्‍यारा बन पडा है, मजा आ गया पढकर।

    एक छोटी सी सलाह देना चाहूंगा, कॉमा और फुलस्‍टाप के पहले स्‍पेस न छोडा करें, बहुत भद्दा लगता है देखने में।

    ---------
    कौमार्य के प्रमाण पत्र की ज़रूरत?
    ब्‍लॉग समीक्षा का 17वाँ एपीसोड।

    उत्तर देंहटाएं
  18. नहीं किया निराश कभी मैंने ,
    चौखट पर कड़ी हवाओं को ,
    बेहतरीन शब्द प्रयोग ,सुन्दर भाव ,रागों का विस्तार .बधाई , साभार .

    उत्तर देंहटाएं