बुधवार, जून 08, 2011

आज कुछ अलग सा ..........


कभी- कभी  हम बड़े होने के बाद भी अपने अन्दर छिपे बचपन को 
बाहर आने से नहीं रोक पाते हम यह चाहते हैं की हम अपने पिता 
के कंधे पर चढ़ जाएँ या अपनी माँ की गोद  में लेट जाएँ | कभी किसी 
मेले में जाकर बच्चों वाले झूले  पर बैठ कर जोर जोर से चिल्लाएं ,
और आते समय पीं पीं की अवाज करने वाला बाजा बजाते हुए हाँथ 
में गुब्बारे लेकर  घर आयें | कभी कभी हम ऐसा करते भी है | 
यह  दिल की आवाज होती है  .
आज मैं कुछ बड़ों की बच्चों जैसी  सोंच पर  बनायी गयी पेंटिंग ,कृति 
पेश कर रहा हूँ |
क्योंकि दिल तो बच्चा है जी .....


कुमारी कृष्णा राठौड़   ,स्नातक डिग्री इलेक्ट्रोनिक एंड कम्युनिकेसन ,
परमाणु उर्जा विभाग के नाभिकीय  ईधन समिश्र , हैदराबाद में वैज्ञानिक 
अधिकारी के पद पर कार्यरत है |







                        शिवांगी श्रीवास्तव , इलेक्ट्रनिक एंड कम्प्यूटर में स्नातक डिग्री और 
      कॉग्निजेंट   टेक्नोलोजी सोल्यूशन  में  प्रोग्रामर  अनालिस्ट  ट्रेनी  के पद पर नियुक्त है |
                                                                              
                 









              


23 टिप्‍पणियां:

  1. sunil ji ...aapke dwaara rakhi gayi kritya bahut sunder hai.....ye dil kabhi bhi bada hona hi nahi chahta ji


    sach mei ye dil tho baccha hai

    उत्तर देंहटाएं
  2. सच है कई बार बच्चा बन जाने का मन करने लगता है। बहुत सुन्दर चित्र बनाये हैं।

    उत्तर देंहटाएं
  3. बहुत खूबसूरत कृतियाँ। बधाई।

    उत्तर देंहटाएं
  4. सुंदर कलाकृतियां, जिन पर एक प्रदर्षिनी आयोजित होनी चाहिए॥

    उत्तर देंहटाएं
  5. सुंदर कोल्लेक्टिओं ढूंढ निकाला. आखिर दिल तो बच्चा है जी.

    उत्तर देंहटाएं
  6. आपका स्वागत है "नयी पुरानी हलचल" पर...यहाँ आपके पोस्ट की है हलचल...जानिये आपका कौन सा पुराना या नया पोस्ट है यहाँ पर कल ...........
    नयी-पुरानी हलचल

    उत्तर देंहटाएं
  7. सभी चित्र बड़ों के दिल का बचपना ही दर्शा रहें हैं ।

    सभी में उम्र के बावजूद "बचपना" बना रहे ,इससे अच्छी बात और कोई नही हो सकती ।

    उत्तर देंहटाएं
  8. मनमोहक चित्र ....सही कहा आपने बचपना उम्रभर लुभाता है.....

    उत्तर देंहटाएं
  9. सुन्दर चित्र बनाये हैं....अच्छा है-दिल तो बच्चा ही रहना चाहिये.

    उत्तर देंहटाएं
  10. सही कहा बचपन कैसे भूल सकते हैं..दिल तो हमेशा बच्चा ही रहता है .. सुन्दर चित्र

    उत्तर देंहटाएं
  11. superbb....vakai dil bahaut hi chota sa baacha hota hai Sunilji...jisko hum zabardasti bada banane ki koshish karte hain.....hah...pata hai main bhi aksar...balki hamesha bahaut zor zor se chilati hun apne baachon ke saath jhula jhulte hue....aur khub masti bhi karti hun

    उत्तर देंहटाएं