मंगलवार, नवंबर 01, 2011

टुकड़ों -टुकड़ों में बँटी हुई ज़िन्दगी......


टुकड़ों -टुकड़ों में 
बँटी हुई यह जिन्दगी |
हर एक  टुकड़ा 
मांगता है अपना हिसाब 
मजबूर हूँ तलाशने को ,
उनके लिए रोज़ , 
नये नये जबाब| 
अपने दायित्वों का, 
बोझ में बदल जाना |
जिन्दगी की रफ़्तार को 
कुछ और कम कर जाना |
थकें मांदें सूरज का 
झूठा आश्वासन 
कल नया सूरज देगा, 
एक नया जीवन |
अब बन चुका है 
एक  चक्र ,
मन के सन्नाटे में, 
गूंजता है केवल एक प्रश्न |
क्या यही है जीवन ?
सुनाई पड़ती है प्रतिध्वनि
हाँ यही है जीवन ..............



46 टिप्‍पणियां:

  1. bemisaal ---टुकड़ों -टुकड़ों में
    बँटी हुई यह जिन्दगी |
    हर एक टुकड़ा
    मांगता है अपना हिसाब
    मजबूर हूँ तलाशने को ,
    उनके लिए रोज़ ,
    नये नये जबाब|

    उत्तर देंहटाएं
  2. मन के सन्नाटे में,
    गूंजता है केवल एक प्रश्न |
    क्या यही है जीवन ?
    सुनाई पड़ती है प्रतिध्वनि
    हाँ यही है जीवन ...

    हाँ यही तो है जीवन ...लाजवाब रचना

    उत्तर देंहटाएं
  3. जीवन का निरूपण बहुत अच्छे से किया है आपने,सुनील जी.
    सुन्दर अभिव्यक्ति के लिए आभार.

    समय मिलने पर मेरे ब्लॉग पर आईयेगा.

    उत्तर देंहटाएं
  4. बहुत ही सधे हुए शब्दों में आपने रचना को लिखा है ...........हर शब्द बयां कर रहा है कटु सत्य...........
    नये नये जबाब|
    अपने दायित्वों का,
    बोझ में बदल जाना |
    जिन्दगी की रफ़्तार को
    कुछ और कम कर जाना |..................बहुत खूब ........दिल हो छु गए ये शब्द , सच्चाई बयां करते हुए ..बधाई .


    http/sapne-shashi.blogspot.com

    उत्तर देंहटाएं
  5. हाँ यही है जीवन ..............
    बहुत खूब कहा है आपने ।

    उत्तर देंहटाएं
  6. मन के सन्नाटे में,
    गूंजता है केवल एक प्रश्न |
    क्या यही है जीवन ?

    सच कहा सुनील जी, जीवन शायद इसी का नाम है. सुंदर रचना.

    उत्तर देंहटाएं
  7. हाँ यही है जीवन ..............
    जीवन का सत्य यही है | अति सुन्दर !

    उत्तर देंहटाएं
  8. सुनील जी..कल नया सूरज देगा,एक नया जीवन.क्या खूब लिखा,..
    जीवन की सच्चाई यही है..अति सुंदर रचना...

    उत्तर देंहटाएं
  9. बहुत सुन्दर प्रस्तुति!
    छठपूजा की शुभकामनाएँ!

    उत्तर देंहटाएं
  10. मन के सन्नाटे में,
    गूंजता है केवल एक प्रश्न |
    क्या यही है जीवन ?
    सुनाई पड़ती है प्रतिध्वनि
    हाँ यही है जीवन ..............
    Wah!

    उत्तर देंहटाएं
  11. हर एक टुकड़ा
    मांगता है अपना हिसाब.
    जीवन की सच्चाई यही है.

    उत्तर देंहटाएं
  12. कुछ पहेलियों में उलझते रहना सुलझते रहना ...यही तो जीवन है !

    उत्तर देंहटाएं
  13. बिलकुल सच कहा है आपने. जिंदगी बेहद उलझी हुई होती है

    उत्तर देंहटाएं
  14. कभी किसी को मुकम्मल जहां नहीं मिलता ॥

    उत्तर देंहटाएं
  15. सच हे तो कहा है आपने क्या कहूँ और कौन सी लाइनों को चुनू पूरी कविता ही लाजवाब है।
    "इंसान कि ख्वाइश कि कोई इंतेहा नहीं
    दो गज़ ज़मीन चाहिए दो गज़ कफन के बाद"

    उत्तर देंहटाएं
  16. जिंदगी तो उलझी हुई होती है पर जो इन उलझनों से निकल जाए उसी का जीवन सफल है....
    बहरहाल, अच्‍छी प्रस्‍तुति।

    उत्तर देंहटाएं
  17. मन के सन्नाटे में,
    गूंजता है केवल एक प्रश्न |
    क्या यही है जीवन ?
    सुनाई पड़ती है प्रतिध्वनि
    हाँ यही है जीवन ........

    यही चक्र चलता रहता है जीवन भर

    उत्तर देंहटाएं
  18. प्रश्न की प्रतिध्वनि ही उत्तर बन कर आती है, बहुत बढ़िया अनुभव.

    उत्तर देंहटाएं
  19. सच में हिस्सों में बटा है जीवन ...... सुंदर रचना

    उत्तर देंहटाएं
  20. यह अच्छा हुआ कि आपको ज़वाब जल्द मिल गया वर्ना यहाँ तो पूरी उमर बीत जाती है ज़वाब पाने में !

    उत्तर देंहटाएं
  21. नहीं,जीवन यह तो नहीं है। चौरासी लाख योनियों से इसलिए तो नहीं गुजरता कोई।

    उत्तर देंहटाएं
  22. बहुत सुन्दर व सटीक चित्रण किया है।

    उत्तर देंहटाएं
  23. हाँ यही है जीवन...sachhayi se bharput rachna aapki

    उत्तर देंहटाएं
  24. कभी हुश्न को गुलाब देते-देते
    कभी आईने को शवाब देते-देते
    यूँ ही बीत गया हर लम्हा
    अपनी जिंदगी को हिसाब देते-देते.

    सुन्दर जज्बात.

    उत्तर देंहटाएं
  25. नहीं, यही तो जीवन नहीं... जीवन तो फूल की तरह खिलने में है...हवा और धूप की तरह बिखरने में है... झरने की तरह बहने में है...और न जाने क्या क्या है...

    उत्तर देंहटाएं
  26. aaj tak hame bhi samajh me nahi aaya jeevan...
    jai hind jai bharat

    उत्तर देंहटाएं
  27. थकें मांदें सूरज का
    झूठा आश्वासन
    कल नया सूरज देगा,
    एक नया जीवन ......
    और इसी उम्मीद पर हम चलते चले जाते हैं . खालीपन का सटीक चित्रण .

    उत्तर देंहटाएं
  28. जन्म हमें मिला ही हुआ है
    आओं जीवन हम निर्मित करते है !

    उत्तर देंहटाएं
  29. औसत आदमी ऐसा ही जीवन जीता है।

    उत्तर देंहटाएं
  30. बहुत सुन्दर भावो से भरी पोस्ट......शानदार |

    उत्तर देंहटाएं
  31. भावों की बहुत ख़ूबसूरत अभिव्यक्ति...बहुत बढि़या

    उत्तर देंहटाएं
  32. सुंदर मन की सुंदर प्रस्तुति । मेरे पोस्ट पर आपका स्वागत है । धन्यवाद ।

    उत्तर देंहटाएं
  33. मन के सन्नाटे में,
    गूंजता है केवल एक प्रश्न |
    क्या यही है जीवन ?
    सुनाई पड़ती है प्रतिध्वनि
    हाँ यही है जीवन ........
    .बहुत बढि़या.

    उत्तर देंहटाएं