बुधवार, सितंबर 07, 2011

एक अहसास.......




समुन्दर के किनारे 
 रेत पर  बैठ कर , 
एक ज्वारभाटे का इंतजार 
अपनी फंसी हुई ,
कश्ती को निकलने का |
मगर यह सोंच कर
डर  जाता  हूँ 
कि क्या होगा ,
उन कश्तियों का
जो खेल रही हैं 
समुन्द्र की लहरों से 
होकर निश्चिन्त |
अचानक एक अहसास 
अपने स्वार्थी होने का 
बहा ले गया 
मुझे गहरे समुन्द्र में |

  

33 टिप्‍पणियां:

  1. वाह...लाजवाब पोस्ट...शब्दों से जो तिलस्म आपने रचा है वो कमाल है...अद्भुत लेखन...

    नीरज

    उत्तर देंहटाएं
  2. अहसास ही महत्वपूर्ण है! स्वार्थ के कारागार से आत्मा को मुक्त तो होना ही है!

    उत्तर देंहटाएं
  3. बहुत संवेदन भरा अहसास सुंदर कविता में ढल गया॥

    उत्तर देंहटाएं
  4. लाजवाब! रचना के भाव अपने साथ बहा ले जाते हैं। बहुत सुंदर

    उत्तर देंहटाएं
  5. क्या होगा ,
    उन कश्तियों का
    जो खेल रही हैं
    समुन्द्र की लहरों से
    होकर निश्चिन्त |
    अचानक एक अहसास
    अपने स्वार्थी होने का
    बहा ले गया
    मुझे गहरे समुन्द्र में |
    behad achhi rachna

    उत्तर देंहटाएं
  6. लहरें कहाँ आती हैं किसी के वश में?

    उत्तर देंहटाएं
  7. सुन्दर भावपूर्ण,किश्तिया समुद्र का मर्म नहीं पहचानती न ही समुद्र किस्तियों की चाल.

    उत्तर देंहटाएं
  8. लहरें हैं लहरों का क्या ....लेकिन जीवन की भावना रूपी लहरों की तो कीमत है ना....!

    उत्तर देंहटाएं
  9. संवेदनशील भावों की गहन अभिव्यक्ति....

    उत्तर देंहटाएं
  10. बहुत ही सुन्दर और सार्थक कविता , शब्दों में अपनापन सा लगता है

    उत्तर देंहटाएं
  11. अचानक एक अहसास
    अपने स्वार्थी होने का
    बहा ले गया
    मुझे गहरे समुन्द्र में .....

    आप सकुशल तो हैं न .....?

    :))

    उत्तर देंहटाएं
  12. सदा की तरह एक सुंदर संदेश देती हुई कविता... बहुत बहुत बधाई!

    उत्तर देंहटाएं
  13. अचानक एक अहसास
    अपने स्वार्थी होने का
    बहा ले गया
    मुझे गहरे समुन्द्र में...

    ये अहसास ही है, जो हमे स्वार्थी होने से रोकता है...सुंदर संदेश देती कविता...

    उत्तर देंहटाएं
  14. रचना के भाव ही अपने साथ बहा लेजाते है। और आँखों के सामने जैसे एक चल चित्र सा उभरने लगता है ....बहुत बढ़िया वा गहन अभिव्यक्ति धन्यवाद......

    उत्तर देंहटाएं
  15. समय मिले तो आयेगा मेरी पोस्ट पर आपका स्वागत है।
    http://mhare-anubhav.blogspot.com/

    उत्तर देंहटाएं
  16. बहुत ही सुन्दर और गहन अभिव्यक्ति...

    उत्तर देंहटाएं
  17. अचानक एक अहसास
    अपने स्वार्थी होने का
    बहा ले गया
    मुझे गहरे समुन्द्र में |

    काश हर व्यक्ति इस अहसास से एक बार गुजरे तो भ्रष्टाचार तो खत्म होता ही दिखेगा

    उत्तर देंहटाएं
  18. जीवन के प्रति रचनाकार के दृष्टिकोण को दर्शाती हुई सुंदर रचना.

    उत्तर देंहटाएं
  19. गहन भावों की सुन्दर प्रस्तुति ....

    उत्तर देंहटाएं
  20. अहसासों ते भरी सुंदर कविता....

    उत्तर देंहटाएं
  21. सुनील जी,
    बहुत अच्छी लगी रचना !

    उत्तर देंहटाएं
  22. यह अहसास ही हमें एक अच्छा और निडर इन्सान बनाता है ।
    आप मेरे ब्लॉग पर आये धन्यवाद, स्नेह बनाये रखें ।

    उत्तर देंहटाएं
  23. प्रेरक पोस्ट !बधाई .अति सूक्ष्म बारेक बात कहते हो दोस्त !बेहद प्रतीकात्मक होते जा रहे हो रचनाओं में भाव में .

    उत्तर देंहटाएं
  24. बहुत ही अच्छी रचना और कल्पना।
    आपके दिये सुझाव का पालन अवश्य
    करूँगी। लिंक करने का जो सुझाव
    आपने दिया था वो भी कोशिश करुँगी।
    वैसे एक बात बताऊँ मुझे ज्यादा
    जानकारी नही है ब्लाँग के बारे में।धन्यवाद।

    उत्तर देंहटाएं
  25. aaj pahli baar aapke blog par aayi hun....behtreen rachnayen hain aapki....aabhar

    उत्तर देंहटाएं