शनिवार, सितंबर 24, 2011

जीने का यह अंदाज़.........


जो अपने उसूलों पर, 
अपनी जिन्दगी जी रहा होगा |
जरुर उसका दोस्ताना भी, 
मुफ़लिसी से रहा  होगा |

जब वह इन्सान बनने की,
कोशिश कर रहा होगा| 
जरुर कोई इसको उसका,
पागलपन कह रहा होगा |


51 टिप्‍पणियां:

  1. क्या बात है. जीवन की तल्ख़ सच्चाइयों को क्या खूब अभिव्यक्त किया है.

    उत्तर देंहटाएं
  2. यह प्रयास इसी नाम से जाना जाता है।

    उत्तर देंहटाएं
  3. उसूल और मुफ़लिसी का तो चोली-दामन का साथ है। बढिया विचार सुनिल भाई॥

    उत्तर देंहटाएं
  4. jeevan ki sacchchai ko ujagar karati aapki ye panktiya ............

    abhaar

    उत्तर देंहटाएं
  5. उसूलों का निर्बाह कितना मुश्किल है यह आपकी कविता से साफ़ झलक रहा है. सुंदर भावपूर्ण कविता.

    उत्तर देंहटाएं
  6. बेहद सशक्त पंक्तियाँ ।

    उत्तर देंहटाएं
  7. आपके इस सुन्दर प्रविष्टि की चर्चा दिनांक 26-09-2011 को सोमवासरीय चर्चा मंच पर भी होगी। सूचनार्थ

    उत्तर देंहटाएं
  8. बेहद सटीक और सशक्त अभिव्यक्ति...

    उत्तर देंहटाएं
  9. बढि़या भाव, अच्छी पंक्तियां।

    ये चाहा कि इंसा बनूं मैं तभी से,
    सभी की नज़र से गिरा लग रहा था।

    उत्तर देंहटाएं
  10. बहुत ही सशक्त यथार्थ, शुभकामनाएं.

    रामराम.

    उत्तर देंहटाएं
  11. बहुत प्रभावी पंक्तियाँ ...

    उत्तर देंहटाएं
  12. दुरुस्त फ़रमाया अपने,भाई..

    उत्तर देंहटाएं
  13. जो अपने उसूलों पर,
    अपनी जिन्दगी जी रहा होगा |
    जरुर उसका दोस्ताना भी,
    मुफ़लिसी से रहा होगा |
    इश्क बादल पैमाने से हटके समाज की सामाजिक नव्ज़ से जुडी ग़ज़ल .

    उत्तर देंहटाएं
  14. दो शेरों में पूरा जीवन दर्शन .......

    बेहतरीन................

    उत्तर देंहटाएं
  15. वाह! क्या बात है! कम शब्दों में जीवन का सार कह दिया।

    उत्तर देंहटाएं
  16. जब वह इन्सान बनने की,
    कोशिश कर रहा होगा|
    जरुर कोई इसको उसका,
    पागलपन कह रहा होगा |
    sachmuch

    उत्तर देंहटाएं
  17. जो इंसान है उसे बदलने की कोशिशें कर रहा है कोई....!
    या खुदा, ऐसा भी पागलपन न कर डाले कोई...!!

    बधाई...
    इतने सुन्दर शेर हैं की बस...!

    उत्तर देंहटाएं
  18. जब वह इन्सान बनने की,
    कोशिश कर रहा होगा|
    जरुर कोई इसको उसका,
    पागलपन कह रहा होगा |
    बहुत सही कहा है.. मगर पागल हुए बिना गल भी तो नहीं पाई जाती

    उत्तर देंहटाएं
  19. जब वह इन्सान बनने की,
    कोशिश कर रहा होगा|
    जरुर कोई इसको उसका,
    पागलपन कह रहा होगा |

    प्रभावित करती पंक्तियाँ...सही कहा है...

    उत्तर देंहटाएं
  20. जब वह इन्सान बनने की,
    कोशिश कर रहा होगा|
    जरुर कोई इसको उसका,
    पागलपन कह रहा होगा |


    एक अलग ही भाव-संसार में ले जाती जीवन से जुड़ी सुन्दर रचना.

    उत्तर देंहटाएं
  21. बहुत बढ़िया लगा! बेहतरीन प्रस्तुती!
    मेरे नए पोस्ट पर आपका स्वागत है-
    http://seawave-babli.blogspot.com/
    http://ek-jhalak-urmi-ki-kavitayen.blogspot.com/

    उत्तर देंहटाएं
  22. सुनील जी! बहुत बढ़िया और सशक्त अभिव्यक्ति!

    उत्तर देंहटाएं
  23. जीवन की विडम्बना का शब्दों से रेखांकन ......

    उत्तर देंहटाएं
  24. आपको मेरी तरफ से नवरात्री की ढेरों शुभकामनाएं.. माता सबों को खुश और आबाद रखे..
    जय माता दी..

    उत्तर देंहटाएं
  25. शक्ति-स्वरूपा माँ आपमें स्वयं अवस्थित हों .शुभकामनाएं.क्या खूब अन्दाज़ है..

    उत्तर देंहटाएं
  26. सुन्द भाव, अच्छी पंक्तियां। आभार

    उत्तर देंहटाएं
  27. इंसान बन्ने की कोशिश को आज पागलपन ही कहते हैं ...

    उत्तर देंहटाएं
  28. उसूलों पर चलती ज़िंदगी का हश्र शायद आज के ख़ौफ़नाक़ दौर में इससे भी भयानक हो सकता है....बहरहाल आदमी के आदमी बनने की ख़्वाहिश को पागलपन का नाम जबरिया दिया जाये तो भी ग़ुरेज नहीं....चंद पंक्तियों में सागर सी गहराई नज़र आ गयी सुनील जी...बेहतरीन.....

    उत्तर देंहटाएं




  29. जब वह इन्सान बनने की
    कोशिश कर रहा होगा
    जरुर कोई इसको उसका
    पागलपन कह रहा होगा


    वाह सुनील जी , बहुत अच्छा लिखा है …


    आपको सपरिवार
    नवरात्रि पर्व की बधाई और शुभकामनाएं-मंगलकामनाएं !

    -राजेन्द्र स्वर्णकार

    उत्तर देंहटाएं
  30. आपको एवं आपके परिवार को नवरात्रि पर्व की हार्दिक बधाइयाँ एवं शुभकामनायें !

    उत्तर देंहटाएं
  31. जो अपने उसूलों पर,
    अपनी जिन्दगी जी रहा होगा |
    जरुर उसका दोस्ताना भी,
    मुफ़लिसी से रहा होगा |
    kya sunder likha hai man khush hogaya .baat ekdam sahi hai aesa hi hota hai
    saader
    rachana

    उत्तर देंहटाएं
  32. uttam
    sunil ji aapne kaha tha aani rachnao ko agregator se jode plz detail me batane ka kasht karen mujhe jyada jaankari nahi hai k agreegator se kaise jodu
    dhanyawaad

    उत्तर देंहटाएं