रविवार, सितंबर 04, 2011

सियासत के बदलते रंग ..


पिछले दिनों अन्ना जी के आन्दोलन से हिली सरकार अब थोड़ा संभलने लगी हैं |
और देश के नेता भी अपने रंग में आ गए है | यानि आरोप प्रत्यारोप के रंग में या 
यूँ कहें की अपने असली रंग में बयान बदलने में तो यह कितने माहिर है | यह तो
आप  जानते ही हैं | मगर अपने इस व्यवहार से कुछ लोगों को परेशान करते हैं |
अगर आपके पास इनका जबाब हैं तो जरुर दीजियेगा ........

वक्त बदला तो रंग बदला, अब यह अपने बयान बदल रहे है|
मगर अपनी इस हरकत से गिरगिटों को परेशान कर रहे है |
सब गिरगिटों ने मिल कर मुझसे आज  एक सवाल  किया है  |
कि रंग तो तुम भी बदलते हो ,फिर हमें क्यों बदनाम किया है |   

...

25 टिप्‍पणियां:

  1. आजकल आदमी इतने रंग बदलने लगा है कि उसे देख कर गिरगिट भी हैरानी में है।

    सुंदर कविता।

    ------
    नमक इश्‍क का हो या..
    इसी बहाने बन गया- एक और मील का पत्‍थर।

    उत्तर देंहटाएं
  2. सटीक प्रश्न कर दिया है गिरगिटों ने ..

    उत्तर देंहटाएं
  3. आपकी रचनात्मक ,खूबसूरत और भावमयी
    प्रस्तुति आज के तेताला का आकर्षण बनी है
    तेताला पर अपनी पोस्ट देखियेगा और अपने विचारों से
    अवगत कराइयेगा ।

    http://tetalaa.blogspot.com/

    उत्तर देंहटाएं
  4. वाह! जी वाह!
    बहुत सुन्दर.
    गिरगिटों ने बहुत अच्छा सवाल किया है.
    सुनील जी,फिर आपने क्या जबाब दिया?

    उत्तर देंहटाएं
  5. अभी तक तो गिरगिट रंग ही बदलते थे अब मुंह भी खोल दिया है... जब गिरगिटो का शातिर पना बढ़ सकता है तो फिर क्या सोचना ....

    उत्तर देंहटाएं
  6. बहुत सुन्दर प्रस्तुति ||

    सादर --

    बधाई |

    उत्तर देंहटाएं
  7. सटीक प्रश्न कर दिया है गिरगिटों ने

    उत्तर देंहटाएं
  8. गिरगिट से सीखो सदा रंग बदलना
    नेता से सीखो मुखौटे पहनना
    अन्ना के उपदेश सुनते ही क्यों हो
    ज्ञानी मनुज से सदा बच के रहना

    करो पाप लेकिन घड़ा भी बड़ा हो
    मरने से पहले कहीं भर न जाय।

    उत्तर देंहटाएं
  9. ab girgit kahte honge kya netaon ki tarah rang badal rahe ho...sarthak sawal ..badhayee aaur apne blog per aane ke nimantran ke sath

    उत्तर देंहटाएं
  10. लगता है अब सरकार के पतन के दिन आ गए हैं। ऐसे में ही सरकार में अहंकार आ जाता है और वह पागल हाथी की तरह रौंदने दौडता है॥

    उत्तर देंहटाएं
  11. वक्त बदला तो रंग बदला, अब यह अपने बयान बदल रहे है|
    मगर अपनी इस हरकत से गिरगिटों को परेशान कर रहे है |
    सब गिरगिटों ने मिल कर मुझसे आज एक सवाल किया है |
    कि रंग तो तुम भी बदलते हो ,फिर हमें क्यों बदनाम किया है |
    सचमुच ये प्रतीक बदलने चाहिए ,उपमेय और उपमान बदलने चाहिए .जैसे मनीष तिवारी अपने बयाँ बदलतें हैं वैसे ही गिरगिट अपने परिवेश की आहट के अनुरूप हिफाज़त के तौर पर रंग बदलतें हैं .

    उत्तर देंहटाएं
  12. girgito me ek nayi prajati aa gayi hai ye bata dije
    vo bhi maahir nahi is khel me ye samjha dije.
    aage aage dekhe vo ki hota hai kya ?
    ye baap kahlayenge aur vo kotar me chhup jayengi
    ye kahlwa dije.

    (waise ye prajati nayi nahi hai)

    उत्तर देंहटाएं
  13. सच है, इंसान ने तो जानवरों को भी शर्मसार कर दिया है ...

    उत्तर देंहटाएं
  14. रंग बदलना तो सियासतदारों कि असल पहचान है।

    उत्तर देंहटाएं
  15. सच कहा है गिरगिट ने ... वो बेचारी तो जनता की तरह पिस रही है ..

    उत्तर देंहटाएं
  16. बहुत खूब सुन्दर पर्स्तुती

    उत्तर देंहटाएं