बुधवार, दिसंबर 28, 2011

चंद शेर इधर उधर से......

जब कभी भी आँधियों का ज़िक्र  आयेगा |
तब टूटे हुए  गुंचे भी याद आयेंगे |


जिस बज़्म में वफ़ा का ज़िक्र हो रहा होगा |
उस वक्त हम भी ज़रूर याद  आयेंगे |

रुख से नकाब हटाने से क्या फायदा होगा |
चाँद शरमा कर छुप जायेगा अँधेरे छा जायेंगे 

लचकती साख पर जो ज़ोर आजमा रहा होगा |
नाम उनके कमजोर की फ़ेहरिस्त में आयेंगे |

32 टिप्‍पणियां:

  1. लचकती साख पर जो ज़ोर आजमा रहा होगा |
    नाम उनके कमजोर की फ़ेहरिस्त में आयेंगे |


    वाह! बहुत सुन्दर सुनील जी.

    आनेवाले नववर्ष की हार्दिक शुभकामनाएँ.

    मेरे ब्लॉग पर आईयेगा.

    उत्तर देंहटाएं
  2. गुंचे जब भी दिखें, हमें भी याद कर लेना :)

    उत्तर देंहटाएं
  3. रुख से नकाब हटाने से क्या फायदा होगा |
    चाँद शरमा कर छुप जायेगा अँधेरे छा जायेंगे
    बहुत सुंदर सुनील जी,...अच्छी पन्तियाँ,....

    नए पोस्ट पर स्वागत,

    उत्तर देंहटाएं
  4. लचकती साख पर जो ज़ोर आजमा रहा होगा |
    नाम उनके कमजोर की फ़ेहरिस्त में आयेंगे |


    बहुत खूब ...

    उत्तर देंहटाएं
  5. गजब के शेर......


    नए साल की शुभकामनाएं.....

    उत्तर देंहटाएं
  6. सुन्दर भाव... बेहतरीन ग़ज़ल!

    उत्तर देंहटाएं
  7. लचकती साख पर जो ज़ोर आजमा रहा होगा |
    नाम उनके कमजोर की फ़ेहरिस्त में आयेंगे |
    badhiya ....

    उत्तर देंहटाएं
  8. लचकती साख पर जो ज़ोर आजमा रहा होगा |
    नाम उनके कमजोर की फ़ेहरिस्त में आयेंगे
    बेहतरीन !

    उत्तर देंहटाएं
  9. लचकती साख पर जो ज़ोर आजमा रहा होगा |
    नाम उनके कमजोर की फ़ेहरिस्त में आयेंगे |

    umda sher...

    उत्तर देंहटाएं
  10. बहुत खूब लिखा है आपने फ़िर पढ़ने अना ही होगा नये वर्ष की बहुत सी शुभकामनाएं

    उत्तर देंहटाएं
  11. वाह! सभी शेर अच्छे लगे... नए वर्ष के लिये बधाई!

    उत्तर देंहटाएं
  12. लचकती साख पर जो ज़ोर आजमा रहा होगा |
    नाम उनके कमजोर की फ़ेहरिस्त में आयेंगे |

    बहुत ही उम्दा ...नववर्ष की शुभकामनाएं

    उत्तर देंहटाएं
  13. जिस बज़्म में वफ़ा का ज़िक्र हो रहा होगा |
    उस वक्त हम भी ज़रूर याद आयेंगे |

    रुख से नकाब हटाने से क्या फायदा होगा |
    चाँद शरमा कर छुप जायेगा अँधेरे छा जायेंगे
    Kya baat hai!
    Naya saal bahut mubarak ho!

    उत्तर देंहटाएं
  14. बेहतरीन शेर, नववर्ष की अग्रिम शुभकामनाएं.

    उत्तर देंहटाएं
  15. लचकती साख पर जो ज़ोर आजमा रहा होगा |
    नाम उनके कमजोर की फ़ेहरिस्त में आयेंगे |

    shaandar...

    उत्तर देंहटाएं
  16. सभी शेर एक से बढ़कर एक ... नव वर्ष की अग्रिम शुभकामनायें...

    उत्तर देंहटाएं
  17. बहोत सुंदर प्रस्तुती ।

    नया हिंदी ब्लॉग
    हिन्दी दुनिया ब्लॉग

    उत्तर देंहटाएं
  18. Nice post .
    Maa ki muhabbat bahut hai lekin Wh Rabb apne bando se usse bhi badhkar pyaar karta hai.
    Kuchh sher Ishq e Haqiqi par bhi den .
    शांति हमारी आत्मा का स्वभाव और हमारा धर्म है।
    शांति ईश्वर-अल्लाह के आज्ञापालन से आती है।
    नमाज़ इंसान को ईश्वर-अल्लाह का आज्ञाकारी बनाती है।
    नमाज़ इंसान को शांति देती है, जिसे इंसान तुरंत महसूस कर सकता है।
    जो चाहे इसे आज़मा सकता है और जब चाहे तब आज़मा सकता है।
    उस रब का दर सबके लिए सदा खुला हुआ है। जिसे शांति की तलाश है, वह चला आए अपने मालिक की तरफ़ और झुका दे ख़ुद को नमाज़ में।
    जो मस्जिद तक नहीं आ सकता, वह अपने घर में ही नमाज़ क़ायम करके आज़मा ले।
    पहले आज़मा लो और फिर विश्वास कर लो।
    पहले आज़मा लो और फिर विश्वास कर लो।

    http://www.islamdharma.blogspot.com/

    उत्तर देंहटाएं
  19. बेहतरीन अंदाज़..... सुन्दर
    अभिव्यक्ति.........नववर्ष की शुभकामनायें.....

    उत्तर देंहटाएं
  20. बहुत सुंदर प्रस्तुती बेहतरीन अंदाज ,.....
    नववर्ष की हार्दिक शुभकामनाए..

    नई पोस्ट --"काव्यान्जलि"--"नये साल की खुशी मनाएं"--click करे...

    उत्तर देंहटाएं
  21. सुंदर रचना !
    नववर्ष की हार्दिक शुभकामनायें !

    उत्तर देंहटाएं
  22. हर शेर में जान डाल दिया है आपने !
    बहुत सुन्दर !
    नववर्ष की बधाई !

    उत्तर देंहटाएं
  23. आपको एवं आपके समस्त परिवार को नव-वर्ष २०१२ की हार्दिक शुभकामनाएं !

    उत्तर देंहटाएं
  24. लचकती साख पर जो ज़ोर आजमा रहा होगा |
    नाम उनके कमजोर की फ़ेहरिस्त में आयेंगे |
    अच्छे अंदाज़ का शैर और शायरी है यह .नव वर्ष मुबारक

    उत्तर देंहटाएं
  25. नए वर्ष की हार्दिक शुभ कामनाए,...

    नई रचना "काव्यान्जलि":

    नही सुरक्षित है अस्मत, घरके अंदर हो या बाहर
    अब फ़रियाद करे किससे,अपनों को भक्षक पाकर,

    उत्तर देंहटाएं