गुरुवार, दिसंबर 22, 2011

काश !

चौराहे पर खड़ा 
एक मोटर साईकिल सवार| 
कर रहा था 
हरी बत्ती का इंतज़ार|
पड़ोस में खड़ी थी एक कीमती कार,
आधी खुली  खिड़की से कुत्ते का बच्चा
झाँक रहा था बाहर|
वह सवार, उस कुत्ते के बच्चे को ,
निहार रहा था बार बार 
कर रहा था उसको दुलार |
तभी पीछे से आवाज़  आई
भूखा हूँ दे दो कुछ मेरे भाई|
वह जानता था उसकी किस्मत में ,
गालियाँ  के सिवा खाने को कुछ नहीं है |
मगर प्रयास करने में जाता कुछ नहीं हैं |
कुत्ते के बच्चे की मिल रहा था, 
प्यार और दुलार| 
और उसको मिल रहीं थीं ,
गालियाँ और दुत्कार |
गाड़ियाँ चली गयीं थी 
बत्ती हरी हो गयीं थी |
कुछ सोंच कर मुस्कराया 
और मुंह से निकला  काश ! 

35 टिप्‍पणियां:

  1. कटु यथार्थ का चित्रण बहुत कमाल का है आपकी इस रचना में....बधाई

    नीरज

    उत्तर देंहटाएं
  2. यही सच्चाई हैं सुनील साहेब .....

    उत्तर देंहटाएं
  3. कडवा सच....
    भावनात्‍मक रचना।

    उत्तर देंहटाएं
  4. यथार्त का सुंदर बेहतरीन चित्रण अच्छी पोस्ट,....

    उत्तर देंहटाएं
  5. एक यथार्थ,

    गलियां को सुधार लें

    उत्तर देंहटाएं
  6. यही दृश्य प्रश्न उठाकर बढ़ जाते हैं जीवन में।

    उत्तर देंहटाएं
  7. ऐसे वक़्त यह काश ही होता है जो निकल जाता है कभी मुंह से कभी दिल से ...
    सच्चाई यही है आज की... भावपूर्ण रचना

    उत्तर देंहटाएं
  8. भावमय करते शब्‍दों का संगम ।

    उत्तर देंहटाएं
  9. मन को छूती भावपूर्ण सुंदर रचना,...

    नई रचना के लिए काव्यान्जलिमे click करे

    उत्तर देंहटाएं
  10. आपकी पोस्ट आज के चर्चा मंच पर प्रस्तुत की गई है
    कृपया पधारें
    चर्चा मंच-737:चर्चाकार-दिलबाग विर्क

    उत्तर देंहटाएं
  11. एक कड़वी सच्चाई को बयां करती हुई सार्थक रचना .....

    उत्तर देंहटाएं
  12. अजीब सी विडंबना है आज के समाज की .......कुत्तो को पाला जाता है ...और इंसानों को दुत्कारा जाता है यहाँ

    उत्तर देंहटाएं
  13. इस 'जमाने' का सच - बहुत खूब.

    उत्तर देंहटाएं
  14. आपकी इस प्रविष्टी की चर्चा आज के चर्चा मंच पर भी की गई है। चर्चा में शामिल होकर इसमें शामिल पोस्ट पर नजर डालें और इस मंच को समृद्ध बनाएं.... आपकी एक टिप्पणी मंच में शामिल पोस्ट्स को आकर्षण प्रदान करेगी......

    उत्तर देंहटाएं
  15. कुत्ते की बच्चे की मिल रहा था,

    इस पंक्ति को थोडा सूधार करे
    अच्छी रचना है !

    उत्तर देंहटाएं
  16. अब तो मानवता की परिभाषा बदल गई है।
    कविता का सारा राज ‘काश‘ में निहित है।
    बहुत सुंदर।

    उत्तर देंहटाएं
  17. ये तो कडुवा सच है ... जीवन तभी तो इतना कठोर है ..

    उत्तर देंहटाएं
  18. सटीक चित्रण कड़वी सच्चाई का .

    उत्तर देंहटाएं
  19. jivan ka sach hai ye...kai baar insaan ki niyati se jyada achchhi jaanwar ki niyati hoti hai. bahut maarmik rachna, shubhkaamnaayen.

    उत्तर देंहटाएं