सोमवार, दिसंबर 12, 2011

ऐसी अपनी इच्छा हैं.........

अपने उर के स्पंदन को,
बस जीवन मैंने मान लिया|
अपने उर के क्रंदन को
गीतों का मैंने नाम दिया| 
रुके साँस के साथ कलम भी 
ऐसी अपनी इच्छा हैं |
पटाक्षेप ही जीवन नाटय का, 
देगा हमको इसका उत्तर|  
चली है उसकी अपनी मर्जी,  
या मेरी इच्छा को मान लिया| 

38 टिप्‍पणियां:

  1. वाह ... रचना का आरम्भ अपने में अद्भुत है

    उत्तर देंहटाएं
  2. रुके साँस के साथ कलम भी
    ऐसी अपनी इच्छा हैं |
    हम सब की भी इच्छा आपकी इस इच्छा में शामिल है... शुभकामनायें...

    उत्तर देंहटाएं
  3. अपने उर के स्पंदन को,
    बस जीवन मैंने मान लिया|....सुंदर पन्तियाँ बहुत अच्छी लगी ..
    मेरी नई रचना,."जनता सबक सिखायेगी" में इंतजार है

    उत्तर देंहटाएं
  4. जीवन को सही ढंग से परिभाषित किया है आपने।

    उत्तर देंहटाएं
  5. भावमय करते शब्‍दों का संगम....

    उत्तर देंहटाएं
  6. बहुत बढिया गीत... अब इच्छा तो इंसान की ही पूरी होनी चाहिये.

    उत्तर देंहटाएं
  7. बहुत खूबसूरती से पिरोया है भावों को ...

    उत्तर देंहटाएं
  8. बहुत सुन्दर अभिव्यक्ति........

    उत्तर देंहटाएं
  9. अपने उर के स्पंदन को,
    बस जीवन मैंने मान लिया|
    अपने उर के क्रंदन को
    गीतों का मैंने नाम दिया|
    Behad sundar!

    उत्तर देंहटाएं
  10. simply beautiful...
    u said a million of things in few lines.
    very thoughtful post.

    Loved it as ever !!

    उत्तर देंहटाएं
  11. अपने उर के स्पंदन को,
    बस जीवन मैंने मान लिया|
    सुंदर!

    उत्तर देंहटाएं
  12. रुके साँस के साथ कलम भी
    ऐसी अपनी इच्छा हैं |...बहुत सुन्दर इच्छा..
    मेरी नई पोस्ट 'मेरी पहचान' में आप का स्वागत है..

    उत्तर देंहटाएं
  13. बहुत ही अच्‍छी प्रस्‍तुति ।

    कल 14/12/2011 को आपकी यह पोस्ट नयी पुरानी हलचल पर लिंक की जा रही हैं.आपके सुझावों का स्‍वागत है, मसीहा बनने का संस्‍कार लिए ....

    उत्तर देंहटाएं
  14. अति सुन्दर |
    शुभकामनाएं ||

    dcgpthravikar.blogspot.com

    उत्तर देंहटाएं
  15. रुके साँस के साथ कलम भी
    ऐसी अपनी इच्छा हैं |...बहुत सुन्दर इच्छा

    उत्तर देंहटाएं
  16. आप की कलम निरंतर चलती रहे
    ऐसी हमारी इच्छा है ॥

    उत्तर देंहटाएं
  17. आपकी प्रवि्ष्टी की चर्चा कल बुधवार के चर्चा मंच पर भी की जा रही है!
    यदि किसी रचनाधर्मी की पोस्ट या उसके लिंक की चर्चा कहीं पर की जा रही होती है, तो उस पत्रिका के व्यवस्थापक का यह कर्तव्य होता है कि वो उसको इस बारे में सूचित कर दे। आपको यह सूचना केवल उद्देश्य से दी जा रही है!
    शुभकामनाओं सहित!

    उत्तर देंहटाएं
  18. वाह! बहुत खूब लिखा है आपने ! यूँही आप लिखते रहिये !

    उत्तर देंहटाएं
  19. apne ur ke bhaavon ko bahut hi khoobsurti se bayaan kiya hai.umda prastuti.

    उत्तर देंहटाएं
  20. पटाक्षेप ही जीवन नाटय का,
    देगा हमको इसका उत्तर|
    चली है उसकी अपनी मर्जी,
    या मेरी इच्छा को मान लिया.....वाह! क्या बात है, आप बहुत ही अच्छा लिखते है....आज पहली बार आप के ब्लॉग पर आने का अवसर मिला ,बहुत ही सरलता से बनाया ब्लॉग है, आप के माँ पिता की फोटो बहुत फब रही है यहाँ .....उम्दा कविता की बधाई स्वीकारें ....

    उत्तर देंहटाएं
  21. पटाक्षेप ही जीवन नाटय का,
    देगा हमको इसका उत्तर ... बहुत सुन्दर कविता !!

    उत्तर देंहटाएं
  22. Thanx,aap mere blog ke samarthak haen.
    aap ki kavita sanshep men sab kah rahi hae.

    उत्तर देंहटाएं
  23. अपनी दिल का कहा ही तो सही होता है और उसे ही मानना अच्छा है ... सुन्दर गीत है ...

    उत्तर देंहटाएं
  24. खूबसूरत पंग्तियाँ ..आभार

    उत्तर देंहटाएं
  25. सुन्दर रचना, चिर काल तक लिखते रहें आप, ऐसी हमारी कामना है.

    उत्तर देंहटाएं