मंगलवार, मई 10, 2011

एक लाईलाज रोग का ईलाज ( हास्य कविता )



चीन भारत की ज़मीन हड़पने में लगा हुआ और हम मूक दर्शक बने हुए है  | सैन्य कार्यवाही 
की बात तो हम सोंच  ही नहीं सकते क्योंकि हमने शांति के पुजारी का दर्जा हासिल कर 
लिया है | हाँ अंतर्राष्टीय मंच पर एक दो बार इस मुद्दे को उठा देते है ताकि विपक्ष इस मुद्दे को 
संसद में ना हथिया सके | हिंदी चीनी  भाई भाई  का यह नारा आज हमें सार्थक नजर आ रहा 
है | बस एक फर्क है चीनी दूसरे देश की जमीन हड़प रहा है और हमारे भू माफिया अपने देश 
के अन्दर की ज़मीन हड़प रहे है  |  अब यह रोग लाईलाज प्रतीत होता है | लेकिन किसी भी 
इलाज में एंटी बायटिक का विशेष महत्व है | मैंने सोचा क्यों ना प्रयोग कर के देखा जाये |


एक दिन हमने चीन को धमकी दे दी |
चीन ने सीमा पर चौकसी  कड़ी कर  दी |
हमने कहा , जिस दिन हमारे भू माफिया की 
नजर तुम्हारी ज़मीन पर पड़ जाएगी |
कुछ दिन के बाद  तुम्हें  वहां ,  
एक बड़ी बिल्डिंग नजर आएगी | 
अब चीन परेशान था |
क्योंकि उसे हमारे इन दिग्गजों की ,
सांठ गांठ और इनकी शक्ति का ज्ञान था |
लोहा गर्म देख कर एक और प्रहार के दिया 
और उसको भविष्य बारे में आगाह कर दिया |
कि उस दिन तुम्हारी यह ,
आधी खुली ऑंखें , पूरी खुल जाएँगी |
जब उन्ही बिल्डिंगों से झांकती हुई 
तुम्हारे नेताओं और फौजियों कि बीबियाँ नजर आएँगी |



26 टिप्‍पणियां:

  1. वाह...........वाह.......वाह
    बढ़िया हास्य ...व्यंग भी

    उत्तर देंहटाएं
  2. दिल के बहलाने को ग़ालिब ख़याल अच्छा है .बहर -सूरत "भू -माफिया "की (आजकल रीयल -टार्स कहतें हैं इन्हें कैसे बाकी सब वैर्च्युअल ही हों इनके बरक्स )।
    अच्छा व्यंग्य विनोद परोसा है सुनील भाई !मुबारक !अच्छा पैसा कूटोगे,अशोक चक्रधर को लूटोगे !

    उत्तर देंहटाएं
  3. सही बात है, आजकल तो उन्हीं का जोर है।

    उत्तर देंहटाएं
  4. वाह कमाल कर दिया आपने तो। कमाल का व्यग्ंय।

    उत्तर देंहटाएं
  5. बहुत अच्छा और सटीक व्यंग .....

    उत्तर देंहटाएं
  6. आंखे खुलवाने का प्रयोग बहुत जंच गया. मुझे लगता है चीनी अभी इस विद्या में पारंगत नहीं हुए है. इसे तो पेटेंट करा दीजिए.

    उत्तर देंहटाएं
  7. वाह! बहुत खूब लिखा है आपने! सटीक व्यंग्य! लाजवाब प्रस्तुती!

    उत्तर देंहटाएं
  8. आपका प्रयोग तो जबरदस्त लगा... तीखा कटाक्ष

    उत्तर देंहटाएं
  9. वाह वाह !! यानि कि हमारे देश का भ्रष्टाचारी भी देश सेवा के काम आ सकता है...

    उत्तर देंहटाएं
  10. phali baar main aapke blog main aai hoon.aapki jasya-byang per likhi rachanaa bahut achchi lagi.badhaai aapko.
    please visit my blog and leave the comments also.thanks

    उत्तर देंहटाएं
  11. अच्छा है कि एक झटका दे कर एक और झटका दे दिया और वे होश में आ गए.
    अच्छा व्यंग है.

    उत्तर देंहटाएं
  12. सच है हमारे यहाँ के भू-माफिया कुछ भी कर सकते हैं।

    उत्तर देंहटाएं
  13. बहुत ही शानदार और सटीक व्यंग.. वाह जी

    उत्तर देंहटाएं
  14. बहुत लाज़वाब और सटीक व्यंग...

    उत्तर देंहटाएं
  15. भाई सुनील कुमारजी !आपकी नै रचना नका इंतज़ार है .मुन्तजिर हैं हम !

    उत्तर देंहटाएं
  16. बहुत सुंदर पोस्ट भाई सुनील जी बहुत बहुत बधाई |

    उत्तर देंहटाएं
  17. प्रहार करारा है ..आनंद आ गया ..आभार

    उत्तर देंहटाएं