रविवार, मई 01, 2011

शेर यूँ मुकम्मल हुआ



एक बार एक कवि महोदय अपने बगीचे में परेशानी की हालत में घूम रहे थे |
उनके मित्र ने पूछा इतना सुंदर वातावरण है और आप चिंतित दिख रहे हैं | 
उन्होंने फ़रमाया कि मेरा शेर मुक्म्मल नहीं हो रहा है | पहला मिसिरा तो तैयार 
है यही मेरी चिंता का कारण है मित्र ने कहा आप मुझे सुनाएँ शायद मैं आपकी 
कुछ सहायता कर सकूँ  |उन्होंने कहा मिसिरा यूँ है कि 

आती है आज बाग़ से बू ए कबाब की 

उनके दोस्त  ने  कहा इसमें कौन सी बात है आगे लिख दो 
शायद किसी बुलबुल का दिल जला होगा 
यो वह शेर यूँ मुकम्मल हुआ 

आती है आज बाग़ से बू ए कबाब की
शायद किसी बुलबुल का दिल जला होगा |


मेरे मित्रों मेरी परेशानी अब आप दूर  कीजिये पहला मिसिरा यूँ है की

गुनाहों के शहर में, मैं बेगुनाह रहता कैसे 




28 टिप्‍पणियां:

  1. गुनाहों के शहर में, वो बेगुनाह रहता कैसे
    इसलिए शामिल उसी भीड़ में हुआ होगा....


    :)

    काफिया और रदीफ पहले शेर से मिला दिया है...

    उत्तर देंहटाएं
  2. अकेलापन सताता, जीवनी दुत्कारने लगती।

    उत्तर देंहटाएं
  3. बहुत खूबसूरत रचना ,शुभकामनाएं

    उत्तर देंहटाएं
  4. भई हम तो इन मुद्दों को सिर्फ पढना ही जानते हैं । अच्छा लग जाए तो कुछ बोल देते हैं वर्ना कई बार तो पढकर वैसे ही निकल भी जाते हैं ।

    टोपी पहनाने की कला...

    गर भला किसी का कर ना सको तो...

    उत्तर देंहटाएं
  5. गुनाहों के शहर में मैं बेगुनाह रहता कैसे
    पाले थे दिल ने भरम तब जाने कैसे कैसे

    उत्तर देंहटाएं
  6. गुनाहों के शहर में, वो बेगुनाह रहता कैसे

    शहर में बेगाना हो जाता कैसे


    अस्तित्व की लड़ाई तो लड़नी है

    खुद को दीवाना कहलाता कैसे !

    उत्तर देंहटाएं
  7. गुनाहों के शहर में वो बेगुनाह रहता कैसे..

    बहुत बढिया...

    उत्तर देंहटाएं
  8. इस टिप्पणी को लेखक द्वारा हटा दिया गया है.

    उत्तर देंहटाएं
  9. मजेदार ,

    गुनाहों के शहर में ,मैं बेगुनाह रहता कैसे
    दिल लगाने का गुनाह किया होगा

    गुनाहों के शहर में ,मैं बेगुनाह रहता कैसे
    गेहूं के साथ घुन भी पिसा होगा

    समीर जी की लिखी पंक्ति भी पसंद आई ...गुनाहों की जगह गुनहगारों के शहर में लिखना क्या ठीक नहीं है ...फैसला भी आपका है , बस यूँ ही लिख दिया है ...ख्याल उठा , अन्यथा न लें ।

    उत्तर देंहटाएं
  10. sunil bhai ji aapka pahla sher to bhaut hi badhiya laga iske liye aapke dost ko bahut bahut badhai.

    gunaho ke shahar me main begunaah rahta kaise
    jamaane ne jabran muhe isme dhakela jo hai.
    dhanyvaad
    poonam

    उत्तर देंहटाएं
  11. गुनाहों के शहर मॅं वो बेगुनाह रहता कैसे
    उसका वो गांव जो हर वक्त याद आता रहा

    बस एक कोशिश की है....

    आकर्षण

    उत्तर देंहटाएं
  12. गुनाहों के शहर में, वह बेगुनाह रहता कैसे,
    किस किस के गुनाह उठा कर चलता सर पर...

    सिर्फ़ एक कोशिश की तरह लें..
    वैसे समीर जी की पंक्तियाँ बहुत अच्छी हैं..

    उत्तर देंहटाएं
  13. .

    ये कैसा रहेगा ?

    गुनाहों के शहर में, वो बेगुनाह रहता कैसे
    कुछ तो असर , गुनाहगारों का हुआ होगा।

    .

    उत्तर देंहटाएं
  14. 'गुनाहों के शहर में मैं बेगुनाह रहता कैसे

    मेरी बेगुनाही की भला कौन गवाही देता '

    उत्तर देंहटाएं
  15. गुनाहों के शहर में मैं बेगुनाह रहता कैसे ,
    कि बेगुनाही ही जो गुनाह बन जाती मेरी ....

    बस जो समझ में आया लिख दिया ..वर्ना शेर की हमारी समझ तो बस बकरी जितनी है :) क्षमा करिएगा ..हा हा हा इसे हल्के फ़ुल्के अंदाज़ में ही लीजीएगा सर

    उत्तर देंहटाएं
  16. Blog ko badi hi khoobsoorati se sajaya hai, shandaar prastuti..

    उत्तर देंहटाएं
  17. जरा इधर भी ....खड़े हैं हम भी राहों में .... :-)

    गुनाहों के शहर में मैं बेगुनाह रहता कैसे
    अकेला मैं ही लुटता जा रहा लूटूं किसको
    लोग तो उड़नतश्तरी पर बैठकर लूटें ,
    हमारा रिक्शा कनाडा तक, अब पंहुचें कैसे ?

    उत्तर देंहटाएं
  18. एक कोशिश मेरी भी...

    गुनाहों के शहर में, मैं बेगुनाह रहता कैसे,
    काजल की कोठरी में लगा मासूम-सा दाग हो जैसे.


    एक बात समझ में नहीं आई. बहुत से लोगों ने पहली पंक्ति के “मैं” की जगह “वो” या “वह” का प्रयोग कर डाला है.
    - आलोक सिन्हा, पटना

    उत्तर देंहटाएं
  19. गुनाहों के शहर में, मैं बेगुनाह रहता कैसे
    सोचता हूँ तुझसे मुहब्बत ही कर लूं.

    उत्तर देंहटाएं
  20. गुनाहों के शहर में , मैं रहता कैसे
    रहना पड़ा मुझे भी , और रह रहे थे जैसे

    क्यों ठीक है न साहिब

    उत्तर देंहटाएं
  21. दोस्तों, क्या सबसे बकवास पोस्ट पर टिप्पणी करोंगे. मत करना,वरना......... भारत देश के किसी थाने में आपके खिलाफ फर्जी देशद्रोह या किसी अन्य धारा के तहत केस दर्ज हो जायेगा. क्या कहा आपको डर नहीं लगता? फिर दिखाओ सब अपनी-अपनी हिम्मत का नमूना और यह रहा उसका लिंक प्यार करने वाले जीते हैं शान से, मरते हैं शान से (http://sach-ka-saamana.blogspot.com/2011/04/blog-post_29.html )

    उत्तर देंहटाएं
  22. अर्ज कर रही हूं अपने तर्ज पर.....

    गुनाहों के शहर में ,मैं बेगुनाह रहती कैसे
    रात में रह के उजालों को पहनती कैसे

    उत्तर देंहटाएं
  23. ग़ुनाहों के शहर में, मैं बेग़ुनाह रहता कैसे?
    कीचड़ में कमल खिलकर निर्लिप्त रहता है जैसे।

    उत्तर देंहटाएं
  24. गुनाहों के शहर में मैं बेगुनाह रहता कैसे ?
    बड़े मजे से ! बेगुनाह नहीं गुनाहगार हूँ मैं...

    उत्तर देंहटाएं
  25. कैसा लगा बताइयेगा ...जरूर !!
    गुनाहों के शहर में मैं बेगुनाह रहता कैसे ?
    यही सोंचा कि चलो हम भी प्यार कर डालें !!

    उत्तर देंहटाएं
  26. tere saamne zaroor koi be -gunaah pitaa hogaa ,
    gunaahon ke shahar em tu be gunaah rahtaa bhi to kaise .
    veerubhai

    उत्तर देंहटाएं
  27. अरे वाह! क्या बात है जी.सभी को शायर बनवा दिया है आपने तो.
    तो फिर मै पीछे क्यूँ
    गुनाहों के शहर में ,मै बेगुनाह रहता कैसे
    मेरे रहने से जब,कोई गुनाहगार न रहा
    अब आपको बताना पड़ेगा प्रति-टिपण्णी द्वारा कि
    शेर मुक्कमल हुआ या नहीं.

    उत्तर देंहटाएं