मंगलवार, मई 17, 2011

आज एक मुकम्मल ग़ज़ल


 एक गज़ल के लिए मतला ,कुछ शेर और गज़ल मकता होना जरुरी है | मगर कुछ गज़ल
बिना मकते के ही मुक्म्मल हो जाती है | मकता जिसमें शायर का तख़ल्लुस आता है |
आज मै एक मुकम्मल ग़ज़ल पेश कर रहा हूँ | मै एक नये तख़ल्लुस की तलाश में हूँ |
अगर आप लोग मेरी कुछ सहायता कर सकें  तो, तख़ल्लुस पसंद आने पर यह शेर उसकी 
शान में पढ़ा जायेगा |

दुआएं ,वह लम्बी उम्र की मेरे दिल से पायेगा 
जिसने, कुछ वक्त मेरे लिए ज़ाया किया होगा |



 मौत के साये में पलती जिन्दगी देखी है मैंने 
ज़िन्दगी की खातिर मरती ज़िंदगी देखी है मैंने |

वोझ इतना कि चलना हो मुश्किल एक कदम 
उस पर कुछ तेज चलती ज़िंदगी देखी है मैंने |

जिस चौराहे पर आकर बनते है अपने अजनवी 
बस उसी चौराहे पर खड़ी ज़िंदगी देखी है मैंने |


 ज़िंदगी को संवारना एक मुश्किल काम था" सुनील "
 बस इस लिए बरबाद होती ज़िंदगी देखी है मैंने |

 

44 टिप्‍पणियां:

  1. जिन्दगी सवारने में जिन्दगी निकल गयी, वाह।

    उत्तर देंहटाएं
  2. जिंदगी की खातिर मरती जिंदगी देखी है मैने..
    वाह बहुत सुंदर

    उत्तर देंहटाएं
  3. जिस चौराहे पर आकर बनते है अपने अजनवी
    बस उसी चौराहे पर खड़ी ज़िंदगी देखी है मैंने |
    bahut hi dil ko chunewaali rachanaa.badhaai aapko

    उत्तर देंहटाएं
  4. उम्दा ग़ज़ल....
    बहुत ही प्रभावशाली रचना है एक एक पंक्ति दिल की तह तक जाती है..मुक्कमल ग़ज़ल

    उत्तर देंहटाएं
  5. जिन्दगी से रूबरू है शायद जिन्दगी

    उत्तर देंहटाएं
  6. बहुत ही सुन्‍दर शब्‍दों के साथ बेहतरीन रचना ।

    उत्तर देंहटाएं
  7. अच्‍छा लगा आपके ब्‍लॉग पर आकर....आपकी रचनाएं पढकर और आपकी भवनाओं से जुडकर....

    उत्तर देंहटाएं
  8. बहुत ख़ूबसूरत गज़ल..हरेक शेर दिल को छू जाता है..

    उत्तर देंहटाएं
  9. मेरी तरफ से भी एक

    जिदंगी जीने के लिए ना जाने कितनी बार मरा हुॅ
    लेकिन आज भी जिदंगी से मैं डरा डरा हॅु।

    उत्तर देंहटाएं
  10. जिंदगी की खातिर मरती जिंदगी देखी है मैने..
    मौत का इंतज़ार करती ज़िंदगी देखी है मैंने.....

    दिल की गहराइयों तक जाती मुक्कमल ग़ज़ल ......

    उत्तर देंहटाएं
  11. नील गगन तले ज़िंदगी गुज़र रही है तो ‘नील’ तक़्ल्लुस कैसा रहेगा...सुनील कुमार ‘नील’ :)

    उत्तर देंहटाएं
  12. कभी ज़िंदगी के दूसरे पहलू को भी सामने रखकर उसे सम्पूर्णता में देखें।

    उत्तर देंहटाएं
  13. जिंदगी ऐसे ही होती है | अच्छा लगा ग़ज़ल |

    उत्तर देंहटाएं
  14. प्रभावित करती है ग़ज़ल.... ज़िन्दगी का फलसफा कुछ ऐसा ही है

    उत्तर देंहटाएं
  15. क्या खूब ...अति शानदार
    मन प्रसन्न हों गया.
    आभार.

    उत्तर देंहटाएं
  16. ग़ज़ल के भाव बहुत ही बेहतरीन हैं... मेरे ख्याल से 'नील' तखल्लुस अच्छा रहेगा...

    उत्तर देंहटाएं
  17. आद. सुनील जी,
    सुन्दर भावनाओं से सुसज्जित आपके खूबसूरत प्रयास की सराहना करता हूँ !

    उत्तर देंहटाएं
  18. सुंदर भाव की गज़ल. जिंदगी को समझते जिंदगी निकल जाती है.
    तखल्लुस के लिए प्रतियोगिता. ये ख्याल भी अच्छा है. शुभकामनाएँ

    उत्तर देंहटाएं
  19. जिस चौराहे पर आकर बनते है अपने अजनबी
    बस उसी चौराहे पर खड़ी देखी है ज़िंदगी मैंने.

    बहुत ही उम्दा शे'र है. आपकी ग़ज़ल बहुत अच्छी लगी.

    उत्तर देंहटाएं
  20. किसी को क्या मालूम मकते तख्ख्लुस की बातें
    अड़ गई जब गाती हुई जिंदगी देखी है मैंने

    उत्तर देंहटाएं
  21. गजल का हर शेर प्रभावशाली है, शुभकामनायें, आप जो भी तख्खलुस रखेंगे अच्छा ही होगा.

    उत्तर देंहटाएं
  22. तखल्लुस नया चाहिए तो गली में आज़ रात जोर-जोर से (बेवजह) चिल्लाइये ... कुछ पडौसी आपकी मदद जरूर करेंगे.
    जो नाम ग़ज़ल में फिट बैठे वही बेहतरीन तखल्लुस होगा :)

    एक मोहतरमा ने एक बार मुझसे कहा कि उन्हें गजल बेहद पसंद है. तब मैंने उनसे कहा कि
    "ओ ग़ज़लप्रिये ! गज गमन चली...मुझको कविता ही लगे भली.
    चलती कविता निज मस्त चाल... भूलोगी चलना ग़ज़ल गली.

    उत्तर देंहटाएं
  23. गज़ब ………गज़ब ………गज़ब की गज़ल्।

    उत्तर देंहटाएं
  24. बेहतरीन ग़ज़ल..शुभकामनाएं..

    उत्तर देंहटाएं
  25. मुक़र्रर !मुक़र्रर !बेहतरीन !मरबे -हवा !

    उत्तर देंहटाएं
  26. बेहतरीन रचना..

    आपका तखल्लुस "नादां"

    उत्तर देंहटाएं
  27. बहुत ही सुंदर ग़ज़ल।
    ज़िंदगी के कुछ पहलुओं पर गहरी नज़र डालती हुई रचना।

    उत्तर देंहटाएं
  28. आपकी ग़ज़ल बहुत अच्छी लगी.

    रही तखल्लुस की बात .....तो ‘सुनील’ तक़्ल्लुस तो बुरा नहीं...जो आप दूसरा खोजने निकले.
    आखिर यह माता-पिता जी का दिया नाम है. इसे ही रोशन करिये सुनील जी.

    उत्तर देंहटाएं
  29. really a fine Ghazal,dear Sunil bhaaaai ji.
    anoneed to have a title,modern concept of ghazal needs no traditional system except lyricalbalance.My heartly best wishes and thanks for coming on my blog.Keep coming.Regards,
    dr.bhoopendra
    rewa
    mp+

    उत्तर देंहटाएं
  30. खूब परिभाषित किया है आपने ज़िन्दगी को

    उत्तर देंहटाएं
  31. बेहद खूबसूरत गज़ल ,आभार ..

    उत्तर देंहटाएं
  32. बहुत सुन्दर और भावपूर्ण ग़ज़ल लिखा है आपने जो काबिले तारीफ़ है! बधाई!

    उत्तर देंहटाएं
  33. जिंदगी संवरने के लिए बलिदान मांगती है

    उत्तर देंहटाएं
  34. टिप्पणी देकर प्रोत्साहित करने के लिए बहुत बहुत शुक्रिया!

    उत्तर देंहटाएं
  35. ख़ूबसूरत भाव समेटे हैं| बधाई|

    उत्तर देंहटाएं