रविवार, मई 22, 2011

यह कैसा रिश्ता ? ( लघुकथा)



जैसे जैसे स्टेशन पास आ रहा था उनकी ख़ुशी   बढ़ती जा रही थी | गाड़ी स्टेशन पर रुकी तो 
एक आदमी उनका नाम पुकारते हुए उनकी सीट के पास आया और बोला  "आप ही है ए. के. 
शर्मा के रिश्तेदार ? उन दोनों पति - पत्नी ने खुश हो कर हाँ में सिर हिला  दिया | उसने कहा 
 साहब ने मुझे आपको लेने के लिए भेजा है | गाड़ी में बैठते ही उस बूढ़े आदमी ने पूछा
 क्या साहब घर पर नहीं है नहीं है "उत्तर में वह बोला नहीं घर पर ही है मेमसाब के साथ 
कहीं बाहर जाने का  प्रोग्राम है |
थोड़ी देर सन्नाटा छाया  रहा  फिर वह बोला " साहब अभी मुझे फिर स्टेशन आना क्योंकि 
दोपहर की गाड़ी से मेरे माँ और बाऊजी आ रहे है | मैंने तो आधे दिन की छुट्टी लगा दी है 
आख़िर माँ बाप आ रहे हैं ना ..".फिर उसने एक  प्रश्न  किया साहब से आपका क्या रिश्ता है 
बूढ़े आदमी मुस्कराते हुए कहा  " दूर के   रिश्तेदार है " क्योंकि वह अपने   बेटे को उसके 
अधीनस्थ  कर्मचारी की  निग़ाह में छोटा दिखाना नहीं चाहता था |



50 टिप्‍पणियां:

  1. संवेदनशील लघुकथा ...
    आपने बहुत सुन्दर शब्दों में अपनी बात कही है। शुभकामनायें।

    उत्तर देंहटाएं
  2. दूर के रिश्तेदार ........कितना बडा सच कह दिया , ये कहानी नहीं है सच है ..आज का घिनौना सच ..

    उत्तर देंहटाएं
  3. .
    दूर का रिश्तेदार!

    --
    ये तीन शब्द इस लघुकथा की आत्मा हैं!
    --
    इस लघुकथा का एक शीर्षक यह भी हो सकता है!
    --
    इस लघुकथा में संयोग और दुर्योग का अद्भुत मिलन हो रहा है!
    --
    रचनाकार को बहुत-बहुत बधाई!
    .

    उत्तर देंहटाएं
  4. रिश्तों में आ रहे अपनेपन के पतन की और इशारा करती हुई यह एक बेहतरीन लघुकथा है...

    उत्तर देंहटाएं
  5. बहुत संवेदनशील रचना ...अब तो दूर पास छोड़ .. रिश्तेदार भी नहीं कहते

    उत्तर देंहटाएं
  6. बहुत संवेदनशील प्रस्तुति.
    रिश्तेदारी परिहास बनती जा रही है.
    सुन्दर प्रस्तुति के लिए आभार.

    मेरी नई पोस्ट आपका इंतजार कर रही है.

    उत्तर देंहटाएं
  7. झकझोर देने वाली लघुकथा सोचने को विवश करती हैं।

    उत्तर देंहटाएं
  8. अब बेटे भी दूर के रिश्तेदार बनते जा रहे हैं |

    उत्तर देंहटाएं
  9. बहुत मर्मस्पर्शी कथा...

    उत्तर देंहटाएं
  10. चौंकाने वाली कहानी. रिश्तों के बीच बढ़ती दूरियाँ इसे नए आयाम दे रही हैं.

    उत्तर देंहटाएं
  11. धन रिश्तों की सब से बडी दीवार बन गया है:(

    उत्तर देंहटाएं
  12. हम हमेशा एक तरह की स्थिति ही क्‍यों चाहते हैं। हम केवल नकारात्‍मक बातें ही क्‍यों सोचते हैं। क्‍या इस घटना में बेटे का मां-पिता को स्‍टेशन न लेना केवल यही दर्शाता है कि उसे उनकी फिकर नहीं है। अगर फिकर नहीं होती तो वह उन्‍हें लेने के लिए किसी और को भी क्‍यों भेजता । हर परिस्थिति में हर समय एक ही आदर्श काम नहीं आता है। और अगर आदर्श की बात ही है तो लघुकथा में असली सवाल तो यही उठता है कि मां-बाप से बेटा अलग ही क्‍यों रहता है। या उन्‍हें साथ ही क्‍यों नहीं रखता है।
    *
    बहरहाल आपकी लघुकथा अपनी संरचना की दृष्टि से अच्‍छी है। हल्‍के से संपादन की आवश्‍यकता उसमें है।

    उत्तर देंहटाएं
  13. बहुत मार्मिक और भयानक सच

    उत्तर देंहटाएं
  14. सबकी अपनी अपनी मज़बूरी है !

    उत्तर देंहटाएं
  15. आज के हालातों को बयां करती पठनीय लघुकथा !

    उत्तर देंहटाएं
  16. अंतर तक छुं गई यह कहानी ... आप बहुत अच्छा लिखते हैं ...

    उत्तर देंहटाएं
  17. प्राथमिकताओं का खेल हो गये हैं सम्बन्ध।

    उत्तर देंहटाएं
  18. bahut hi sambedansheel katha.aaj ke jamaane main aesaa hi ho raha hai.maata-peeta ki bhi ijjat karane waale kam hi rah gayen hain.badhaai aapko yathart batati hui kahani ke liye.thanks

    उत्तर देंहटाएं
  19. रिश्ते भी नए रंग में ढल गए हैं...... संवेदनशील कहानी

    उत्तर देंहटाएं
  20. aaj ham badal gaye hai par hamre maata-pita nhi badle vo aaj bhi khudh se pahle hamre samman ke baare me sochte hai.. kaas! isse ham kuch sikh pate...

    उत्तर देंहटाएं
  21. इस कथा में आज का सच करीब का रिश्तेदार जैसा ही है ..

    उत्तर देंहटाएं
  22. रिश्तों के चेहरे से नकाब उतारती हुई यह लघुकथा कुछ संदेश भी देती है।

    उत्तर देंहटाएं
  23. यही है आज का सच..... संवेदनशील लघु कथा....

    उत्तर देंहटाएं
  24. आजकल माँ -बाप दूर के ही रिश्तेदार हो गएँ हैं .अनेकरूपापत्नी में पूरी सृष्टि है भाई साहब !आपको पता नहीं चला .

    उत्तर देंहटाएं
  25. सुनील जी, यक़ीनन बड़ी ख़ुशी होती है जब भी आपकी प्रतिक्रिया मिलती है. मुझे अपनी ये नज्में अब पसंद नहीं आती. लेकिन 13- १४ साल पहले लिखी ये रचनाएँ बस इसलिए बाँट रहा हूँ. की कहीं मेरी वो पुरानी डायरी न खो जाये.

    उत्तर देंहटाएं
  26. वाह सुनील जी, कितनी संवेदनशील लघु कथा. कितने आसान से शब्दों में पिरो के अपनी बात कह दी. shayad आज के दौर की यही हकीकत है.. कितना बदल गया न इंसान. अल्फाज़ छोटे पड़ रहे हैं इस दिल को छू लेने वाली कथा के लिए.

    आपके छोटे भाई जैसा

    शाहिद "अजनबी"

    उत्तर देंहटाएं
  27. कई बार दोहराई गयी घटना है,लेकिन रचना मन को उद्वेलित करती है!!

    उत्तर देंहटाएं
  28. आज बेहद सामान्य होगई बात को विशेष ढंग से कहा है । अभिव्यक्ति प्रभाव छोडती है ।

    उत्तर देंहटाएं
  29. दूर का रिश्तेदार...

    वाह री विडम्बना...

    उत्तर देंहटाएं
  30. मैने छुट्टी लगा ली...कड्वा सच..

    उत्तर देंहटाएं
  31. apne hi sanskaar daav par lag jaate hai ,khoon ke is gahre rishte ki pahchan jab mitani pade tab mano dasha kya hoti hogi ye bhukt bhogi hi bhali bhanti samjh sakta hai ,janmdata se badhkar bhi koi hota hai ?jo hum unko aesi sthiti me laakar khada kar dete hai .is raah par to sabhi ko aana hai ek din .

    उत्तर देंहटाएं
  32. यही हकीकत है आज के समाज की ....कष्टदायक लघु कथा !
    शुभकामनायें सुनील भाई !

    उत्तर देंहटाएं
  33. बहुत सुन्दर, मर्मस्पर्शी और संवेदनशील लघु कथा! दिल को छू गयी! बेहतरीन प्रस्तुती!

    उत्तर देंहटाएं
  34. बहुत सुंदर.. बात हास्टल के दिनों की है। मेरे मित्र के पिता जी देसी घी के डिब्बे के साथ हास्टल आए। उनका कसूर सिर्फ ये था कि वो धोती कुर्ता और गमछे में आए थे। नालायक दोस्त ने मित्रों को बताया कि ये हमारे दूर के रिश्तेदार हैं... बात आगे और भी लेकिन नालायक मित्र भी ब्लाग पर है। रहने दीजिए

    उत्तर देंहटाएं
  35. बहुत जटिल है ऐसी स्थिति में सच बोल व सुन पाना ।
    बहुत अच्छी इस प्रस्तुति के लिये आभार...

    उत्तर देंहटाएं
  36. रिश्ता बचा भी है... शायद नहीं
    समाज के कड़वे सच का चित्रण किया है आपने

    उत्तर देंहटाएं
  37. बहुत गहरी ... कितना कड़ुवा सच है ....

    उत्तर देंहटाएं
  38. प्रेरक लघु कथा ..

    शायद गरीब और मेहनतकश लोगों में अमीरों की तुलना में बहुत कुछ संस्कार अभी भी बरकरार हैं , माँ बाप की इज्ज़त करना तो अभी नहीं भूले हैं !

    उत्तर देंहटाएं
  39. दुःख केवल इस बात का है की बेटे ने ये क्यूँ नहीं बताया था की मेरे माता पिता आ रहे हैं। क्यूँ कहा की 'रिश्तेदार'

    उत्तर देंहटाएं
  40. रिश्ते को रिश्ते की ही नज़र लग गई मानो!

    उत्तर देंहटाएं
  41. पिता ने मुस्कुराकर कहा कि वे दूर के रिश्तेदार हैं....यह कहानी दर असल एक बहुत बड़ा सच है और हमारे बड़े-बूढ़ों ने भी धीरे-धीरे खुद को इसके लिए तैयार करना शुरु कर दिया है, तभी तो पंक्तियाँ 'पिता ने दुख के मारे कुछ नहीं कहा' से आगे चलकर 'पिता ने मुस्कुराकर बताया कि दूर के रिश्तेदार हैं' तक पहुँच गई हैं...दुखद...

    उत्तर देंहटाएं
  42. ghazxab kar diya bhai ji aapney,man bhar aaya par yuatharth yahi hai/sader,
    dr.bhoopendra
    rewa
    mp

    उत्तर देंहटाएं