रविवार, फ़रवरी 19, 2012

मानव और नदी ............




एक नदी 
पहाड़ों से निकली 
पत्थरों से टकराकर 
राह बदल कर 
नए नए नाम  पाकर 
हंसती कूदती ,
जा मिली 
प्यार के सागर में ।
और एक मानव ,
पाषाण युग से 
निकल कर ।
कंक्रीट के जंगल में रह कर 
बन गया पत्थर , 
खो गया ,
पुन: पथरीली अँधेरी गुफाओं में ।


28 टिप्‍पणियां:

  1. बेहतरीन भाव लिए कविता बधाई

    उत्तर देंहटाएं
  2. क्या गहरा कटाक्ष किया है तथाकथित मानवीय विकास पर..

    उत्तर देंहटाएं
  3. बहुत खूब , एक गूढ़ सन्देश देती रचना !

    उत्तर देंहटाएं
  4. और एक मानव ,
    पाषाण युग से
    निकल कर ।
    कंक्रीट के जंगल में रह कर
    बन गया पत्थर , waah......bahut khoob.

    उत्तर देंहटाएं
  5. मनुष्य की प्रगति का पहिया तो उल्टा घूम गया...

    उत्तर देंहटाएं
  6. क्या बात है
    परस्पर विरोधी गति

    उत्तर देंहटाएं
  7. वाह!!!!!बहुत सुंदर कटाक्ष करती प्रस्तुति, सुंदर रचना,....बेहतरीन

    MY NEW POST ...सम्बोधन...

    उत्तर देंहटाएं
  8. पानी और मानव भले ही अपना रास्ता बदल दे पर पत्थर तो वहीं है ॥

    उत्तर देंहटाएं
  9. वाह बहुत सुन्दर और सार्थक भाव...

    ओम् नमः शिवाय...

    उत्तर देंहटाएं
  10. सही कहा आपने, मानव फिर गुफावासी हो गया है।

    उत्तर देंहटाएं
  11. मानव पत्त्थर बनता जा रहा है...सच है, बहुत गहरी बात !

    उत्तर देंहटाएं
  12. नदी में गेयता है और मनुष्य गुलाम हो के रह गया अपनी ही विचारधारा में ...
    सार्थक रचना है ...

    उत्तर देंहटाएं
  13. आपकी इस प्रविष्टी की चर्चा आज के चर्चा मंच
    पर की गई है। चर्चा में शामिल होकर इसमें शामिल पोस्ट पर नजर डालें और इस मंच को समृद्ध बनाएं.... आपकी एक टिप्पणी मंच में शामिल पोस्ट्स को आकर्षण प्रदान करेगी......

    उत्तर देंहटाएं
  14. उत्तर
    1. बहुत सुन्दर सृजन , बधाई.

      मेरे ब्लॉग"meri kavitayen" की नवीनतम पोस्ट पर आप सादर आमंत्रित हैं.

      हटाएं
  15. पाषाण युग से
    निकल कर ।
    खो गया ,
    पुन: पथरीली अँधेरी गुफाओं में...

    वाह! बहुत सार्थक रचना...
    सादर बधाई..

    उत्तर देंहटाएं
  16. सच तो यह है की जिंदा रहने की होड़ में ...वह प्रकृति से बहुत दूर हो गया है ...और वास्तव में एक किले में क़ैद हो गया है

    उत्तर देंहटाएं
  17. तथा कथित मानवा स्थिति पर लिखी सशक्त रचना...

    उत्तर देंहटाएं
  18. बहुत ही सार्थक प्रस्‍तुति

    उत्तर देंहटाएं
  19. वाह! मानव के तथाकथित विकास पर बहुत सुंदर प्रस्तुति..

    उत्तर देंहटाएं
  20. वाह||
    बहूत सुंदर ..
    छोटी सी किंतु...सारगर्भित रचना..
    बेहतरीन प्रस्तुती...mauryareena.blogspot.com

    उत्तर देंहटाएं
  21. इसे कहतें हैं व्यंग्य की धार .

    उत्तर देंहटाएं
  22. बहुत सुन्दर भाव
    िवचारों का बहाव
    लय के माध्यम से,
    समझाने का चाव....बहुत सुन्दर...

    उत्तर देंहटाएं