गुरुवार, फ़रवरी 09, 2012

एक कुत्ते की व्यथा (व्यंग्य)........

एक दिन हमनें ,
अपने शहर की सोती हुई पुलिस जगा दी ।
सौ रुपये देकर ,
थाने में एक हजार की रिपोर्ट लिखवा  दी ।
शाम को पुलिस हमारे घर आई 
साथ में एक  कुत्ता भी लायी ।
कुत्ते ने हमें सूंघा, और हमारे घर को देखा ।
कुत्ता बोला आप हमारे, 
बेईमान होने का फायदा उठाते हो।
अपने शान बढ़ाने के लिए 
चोरी की झूठी रिपोर्ट लिखाते हो । 
तभी उस कुत्ते के अन्दर का कुत्ता जागा।
सीधा थाने की तरफ भागा।
जिसे देख कर हमारा आत्मविश्वास भी जागा ।
यह क्या ! वह लौट कर बापस आया और बोला 
आप क्या सोंचते हैं ?
मै क्या, थानेदार की गिरफ्तारी करूँगा ।
मैंने तो पुलिस का नमक खाया हैं ।
मै क्या? नमकहरामी करूँगा ।
आज मै अपने ओहदे का इस्तेमाल करूँगा ।
इन सडक पर बैठे हुए,
भिखारी को जेल के अंदर करूँगा।
वर्षों से यह हमारे हक मार जाते हैं 
कचरे में पड़ी हुई रोटी
हमसे पहले मार जाते हैं ।
बात रोटी तक तो, हम सहन करते हैं ।
पर अब तो यह हमारा और हमारी नस्ल का
यह अपमान करते हैं ।
अपने को इंसान कहते हैं ।
पर हमारी तरह जीते और हमारी तरह मरते हैं । 

  

23 टिप्‍पणियां:

  1. आपने तो निःशब्द कर दिया..
    बहुत बहुत बढ़िया..
    गहन भाव भी हैं और कविता होने का सम्पूर्ण एहसास भी है..

    मुझे बेहद पसंद आई.

    उत्तर देंहटाएं
  2. व्यवस्था और इंसान की फितरत पर अच्छा व्यंग

    उत्तर देंहटाएं
  3. अपने को इंसान कहते हैं ।
    पर हमारी तरह जीते और हमारी तरह मरते हैं ।
    व्यंग के साथ गहन भाव... आभार

    उत्तर देंहटाएं
  4. व्‍यवस्‍था पर करारी चोट।
    बढिया व्‍यंग्‍य।

    उत्तर देंहटाएं
  5. अपने को इंसान कहते हैं .
    पर हमारी तरह जीते और हमारी तरह मरते हैं.

    अच्छा व्यंग.

    उत्तर देंहटाएं
  6. इस सार्थक प्रस्तुति के लिए बधाई स्वीकार करें.

    कृपया मेरे ब्लॉग" meri kavitayen" की नवीनतम पोस्ट पर पधारकर अपना स्नेह प्रदान करें.

    उत्तर देंहटाएं
  7. करारा व्यंग..सार्थक प्रस्तुति

    उत्तर देंहटाएं
  8. शुक्र है कुत्ते ने आपको छोड़ दिया, काटा नहीं।:)

    उत्तर देंहटाएं
  9. बहुत ही सुन्दर जनाब, व्यवस्था पर करारी चोट की है आपने।

    उत्तर देंहटाएं
  10. सिहरन पैदा कर देने वाला व्यंग. सार्थक प्रस्तुति के लिये बधाई सुनील जी.

    उत्तर देंहटाएं
  11. हास्यरस का अंत करुण रस में।
    बहुत अच्छा।

    उत्तर देंहटाएं
  12. बहुत सटीक व्यंग जो दिल को छू गया...

    उत्तर देंहटाएं
  13. सार्थक एवं सशक्त प्रस्तुत ...समय मिले तो आयेगा मेरी पोस्ट पर आपका स्वागत है

    उत्तर देंहटाएं
  14. इसमें कुत्ते की तो कोई व्यथा है नहीं। जो है,बस इन्सान की ही है।

    उत्तर देंहटाएं
  15. सार्थक प्रस्तुति .... बधाई ...

    उत्तर देंहटाएं