शनिवार, अक्तूबर 22, 2011

कल आज और सच्चाई .....





कल 

कल सरेआम लुटी  थी  एक अस्मत ,
जो काफ़ी थी इंसानियत के शर्मसार के लिए |

और तरस कर पथरा गयीं आँखें उसकी,
देखने को बस एक अदद मददगार के लिए |

आज 

कल जो तमाशायी भीड़ का हिस्सा  बने थे लोग ,
वह आज सुना रहें हैं सज़ा गुनहगार के लिए |

कुछ कलम के सिपहसालार भी खुश हो कर घूमते है, 
अच्छी ख़बर मिली है कल के अख़बार के लिए |

सियासत के एक हलके को मुद्दा भी मिल गया ,
कल वह मुश्किल खड़ी करेंगे सरकार के लिए |

कुछ मजलिस ए खवातीन भी सड़कों पे आ गए 
मौका मिला था उनको अपने इश्तहार के लिए |

जो मुफ़लिसी के दौर से गुजर रहा था आजकल ,
कुछ राहत सी मिल गयी थी उस थानेदार के लिए |


सच्चाई 

हाँलाकि यह हादसा सब को कुछ ना कुछ दे गया, 
और बस एक ज़ख्म दे गया किसी खुद्दार के लिए | 




(चित्र गूगल के सौंजन्य से ) 

40 टिप्‍पणियां:

  1. har sher mukammal hai aur sahajta se gambhir baat...

    हाँलाकि यह हादसा सब को कुछ ना कुछ दे गया,
    और बस एक ज़ख्म दे गया किसी खुद्दार के लिए |

    daad sweekaaren.

    उत्तर देंहटाएं
  2. कल और आज की सच्चाई को खूबसूरती से बयाँ किया है आपने.

    उत्तर देंहटाएं
  3. कुछ कलम के सिपाहसलार भी खुश हो कर घूमते है,
    अच्छी ख़बर मिली है कल के अख़बार के लिए |

    वाह, बहुत सुंदर ||

    उत्तर देंहटाएं
  4. हर घटना के बाद सब के सब अपने फायदे की बातें तलाशते रहते हैं....
    बे‍हतर लेखन।
    आभार....

    उत्तर देंहटाएं
  5. हाँलाकि यह हादसा सब को कुछ ना कुछ दे गया,
    और बस एक ज़ख्म दे गया किसी खुद्दार के लिए |
    yahi nishkarsh hai

    उत्तर देंहटाएं
  6. आज के समाज की कटु सच्चाई को बयान करती हुई एक सशक्त रचना !

    उत्तर देंहटाएं
  7. कल और आज के सच को बखूबी उकेरा है।

    उत्तर देंहटाएं
  8. आज के समय की सच्चाई दर्शाती कविता

    उत्तर देंहटाएं
  9. आँखे तो पथराती ही है ..कलेजा भी फट जाता है ..ओह..!

    उत्तर देंहटाएं
  10. वर्त्तमान समाज की दुर्दशा पर एक संवेदनशील रचना!!!

    उत्तर देंहटाएं
  11. सशक्त रचना,लाजबाब पोस्ट,बधाई...
    दीपावली की शुभकामनाये.....

    उत्तर देंहटाएं
  12. किस पंक्ति को कोट करूं किसे नहीं... हरेक पंक्ति अपने आप में बहुत कुछ कहने को बेताब हो जैसे... आज की कड़वी सच्चाई... और ये भी महसूस करने के लिए झकझोरती है... जिस पर जुल्म होता है वही समझता है.... बाकी सब अपने अफने लिए कुछ न कुछ ढूंढ लेंगे आपके ग़म में....

    उत्तर देंहटाएं
  13. ह्रदय को चीरती हुई संवेदनशील रचना. रचना से भी ज्यादा संवेदनशील तस्वीर है देख पाने की हिम्मत नहीं है.

    उत्तर देंहटाएं
  14. बहुत संवेदनशील रचना ..हकीकत को कहती हुई ... खुद्दार ही ज़ख्म पाते हैं ...

    उत्तर देंहटाएं
  15. पता नहीं भविष्य की क्या भयानक स्थिति होगी॥

    उत्तर देंहटाएं
  16. संवेदनाओं को झंकृत करती प्रस्तुति!

    उत्तर देंहटाएं
  17. सच को बयान करती रचना।
    ----
    दीपावली की हार्दिक शुभकामनाएँ!
    कल 24/10/2011 को आपकी कोई पोस्ट!
    नयी पुरानी हलचल पर लिंक की जा रही हैं.आपके सुझावों का स्वागत है .
    धन्यवाद

    उत्तर देंहटाएं
  18. सुन्दर सृजन , प्रस्तुति के लिए बधाई स्वीकारें.

    समय- समय पर मिले आपके स्नेह, शुभकामनाओं तथा समर्थन का आभारी हूँ.

    प्रकाश पर्व( दीपावली ) की आप तथा आप के परिजनों को मंगल कामनाएं.

    उत्तर देंहटाएं
  19. अब तो खुद्दारों में ही संवेदना बाकी है।
    सच्चाई यही है।
    बढि़या ग़ज़ल।

    उत्तर देंहटाएं
  20. आपकी यह सुन्दर प्रस्तुति कल सोमवार दिनांक 24-10-2011 को चर्चामंच http://charchamanch.blogspot.com/ की भी शोभा बनी है। सूचनार्थ

    उत्तर देंहटाएं
  21. हाँलाकि यह हादसा सब को कुछ ना कुछ दे गया,
    और बस एक ज़ख्म दे गया किसी खुद्दार के लिए |

    बेहद संजीदा !पर प्रेरणादायक !

    उत्तर देंहटाएं
  22. आदरणीय महोदय
    बहुत बडी और महान सोच है आपकी

    दीवाली पर सचमुच बहुत महान विचार है

    सराहनीय है
    दीपावली की हार्दिक शुभकामनाऐं!!

    उत्तर देंहटाएं
  23. बहुत सुंदर.... संवेदनशील पंक्तियाँ

    उत्तर देंहटाएं
  24. आज के दौर की हकीकत.
    को बयां करती कविता.
    दीपोत्सव की शुभकामनायें.

    उत्तर देंहटाएं
  25. बस एक ज़ख्म दे गया किसी खुद्दार के लिए |
    kya baat !!! kya baat !!! kya baat !!!

    http://www.poeticprakash.com/

    उत्तर देंहटाएं
  26. आपको एवं आपके परिवार के सभी सदस्य को दिवाली की हार्दिक बधाइयाँ और शुभकामनायें !
    मेरे नए पोस्ट पर आपका स्वागत है-
    http://seawave-babli.blogspot.com/
    http://ek-jhalak-urmi-ki-kavitayen.blogspot.com/

    उत्तर देंहटाएं
  27. हाँलाकि यह हादसा सब को कुछ ना कुछ दे गया,
    और बस एक ज़ख्म दे गया किसी खुद्दार के लिए |
    .......बहुत संवेदनशील !!!

    उत्तर देंहटाएं
  28. बस एक ज़ख्म दे गया किसी खुद्दार के लिए |

    बहुत ही उम्दा शब्द संचयन! ब्जितनी भी तारीफ़ की जाए कम है|

    दिवाली की हार्दिक शुभकामनायें!
    जहां जहां भी अन्धेरा है, वहाँ प्रकाश फैले इसी आशा के साथ!
    chandankrpgcil.blogspot.com
    dilkejajbat.blogspot.com
    पर कभी आइयेगा| मार्गदर्शन की अपेक्षा है|

    उत्तर देंहटाएं
  29. insan haivan bn gya hai.emotional ke bjay mechenical ho gya hai.good presentaion.
    happy diwali sunil ji.

    उत्तर देंहटाएं
  30. बेटी बचाओ - दीवाली मनाओ.
    दीपावली की हार्दिक शुभकामनायें.

    उत्तर देंहटाएं
  31. बहुत बढ़िया रचना !
    दीपावली की हार्दिक शुभकामनायें
    सुनील जी ........

    उत्तर देंहटाएं
  32. बहुत मार्मिक रचना जो आज के हालात पर टिप्पणी करती चलती है. बहुत खूब सुनील जी.
    आपको एवं आपके परिवार के सभी सदस्यों को हार्दिक शुभकामनाएँ.

    उत्तर देंहटाएं
  33. यह पोस्ट भी दिल की गहराई से निकली है।

    उत्तर देंहटाएं