मंगलवार, अक्तूबर 25, 2011

दीवाली की कथाएं

 आज मैं आपके सामने दीपावली की एक दन्त कथा प्रस्तुत कर रहा हूँ | जो लक्ष्मी पूजन के समय सुनाई जाती है| किसी गाँव मैं एक गरीब लकड़हारा अपने सात पुत्रों के साथ रहता था सातों के सात पूरे निकम्मे कोई कार्य नहीं करते सिवाय खाने के ,इस बात को लेकर लकड़हारा काफ़ीचिंतित था | पत्नी की मृत्यू के बाद तो दरिद्रता ने अपना स्थायी निवास उसके घर कोही बना लिया था| गाँव के लोगों ने सलाह दी की तुम अपने बेटे का विवाह कर दो तो घर में लक्ष्मी आयेगी और तुम्हारे दिन बदल जायेंगे |
उसने उनकी बात मान कर अपने बेटे का विवाह उसी गाँव की कन्या से कर दिया विवाह के पश्चात् बहू ने घर का सारा काम जल्दी ही संभाल लिया और अपने सभी देवरों से कहा की  आज के बाद तुम लोगों को कुछ ना कुछ काम अवश्य करना है और जो भी कमा के लाओगे वह मुझे दे देना | एक दिन उसका एक देवर आया और बोला " भाभी देखो हम क्या लायें हैं " देखा तो उसकी चप्पल में गोबर लगा हुआ था भाभी ने हंस कर
कहा अगर मेहनत से लाये हो तो संभाल कर रख दो |
अगले दिन दूसरा देवर आया और हंस कर बोला देखो भाभी हम क्या लाये हैं वह एक मरा हुआ सांप लाया था भाभी का वही उत्तर था संभाल कर रख दो |
एक दिन उसी राज्य के राजा की रानी जब स्नान कर रहीं थीं तो उनका नौलखा हार एक कौआ ले उड़ा राजा ने पूरे राज्य में ढिंढोरा पिटवा दिया जो कोई भी हार लाकर देगा उसे मुंह माँगा ईनाम दिया जायेगा | कुछ दिन के बाद जब नरक चौदस आया तो घर की सफाई की गयी देखा तो हार लकड़हारे की छत पर पड़ा हुआ है और मरा हुआ सांप वंहा से गायब है | यह देख कर लकड़हारा बहुत खुश हो गया और राजा के पास जाने लगा यह सोंचता हुआ कि वह मुंह मांगी दौलत मांग लेगा और बाकी जीवन आराम से बीत जायेगा |मगर उसकी बहु ने कहा जो मैं कहूँ वही मांगना | बहु ने राजा से कहा कि सारे गाँव की रुई दीया और तेल मुझे दिया जाये
क्योंकि राजा वचन दे चुके थे अत पालन करना भी आवश्यक था राजा ने तुरंत ही यह आदेश दे दिया कि पूरे गाँव का दीया तेल और रुई लकड़हारे के घर भेज दी जाये |
अगले दिन जब दिवाली कि रात आयी तो पूरे गाँव में अँधेरा और लकड़हारे के घर रौशनी रात को जब दरिद्र ने देखा कि यंहा तो उसकी आँखें फूट रही हैं क्योंकि वह तो अंधरे का अभ्यस्त था इसलिए उसने जाने कि कोशिश कि तो दरवाजे पर बहू बैठी थी बोली जाना है तो सात पुश्तों के लिए जाओ दरिद्र ने परेशान हो कर उसकी शर्त मान ली और घर से निकल गया|
इसके बाद जब रात में लक्ष्मी निकली वह भी परेशान अंधरे में कुछ दिखाई नहीं दे रहा तब उन्हें लकडहारे का घर दिखाई दिया वह आयीं और बोली मुझे अन्दर आने दे मेरे पैर में कांटा चुभा जा रहा है| बहु ने वही कहा आना है तो सात पुश्तों के लिए आओ कोई विकल्प ना होने का कारण लक्ष्मी ने उसकी यह शर्त भी मान ली और उसके घर निवास करने लगीं |
जिस तरह लकडहारे के दिन बहुरे उसी प्रकार सबके दिन बहुरे ...........

अब डाक्टर सरोजनी प्रीतम की एक क्षणिका ....

अपने सर पर
हमेशा सवार  
रहने वाली पत्नी
को लक्ष्मी का नाम देकर
अपने को एक
नयी संज्ञा दी

इस आशा के साथ आप पर भी गृहलक्ष्मी और लक्ष्मी की कृपा बनी रहेगी

आप सभी को दीपावली की हार्दिक शुभकामनायें एवं बधाई ....

46 टिप्‍पणियां:

  1. आपको दीपावली की हार्दिक शुभकामनाएँ.

    उत्तर देंहटाएं
  2. आपको सपरिवार दीपावली की हार्दिक मंगल कामनायें।

    उत्तर देंहटाएं
  3. बढिया कहानी।
    आपको और आपके परिवार को दीप पर्व की शुभकामनाएं......

    उत्तर देंहटाएं
  4. तेज बहू की कहानी ..
    आपको भी दीपावली की हार्दिक शुभ-कामनाएं !!

    उत्तर देंहटाएं
  5. बहुत ही अच्‍छी प्रस्‍तु‍ति ...

    कल 26/10/2011 को आपकी यह पोस्ट नयी पुरानी हलचल पर लिंक की जा रही हैं.आपके सुझावों का स्वागत है, दीपोत्‍सव की अनन्‍त शुभकामनाएं .
    धन्यवाद!

    उत्तर देंहटाएं
  6. बहुत ही अच्छी कहानी,सुंदर पोस्ट,
    दीपावली की मंगल कामनाए.......

    उत्तर देंहटाएं
  7. आपको और आपके समस्त परिवार को दीपावली की हार्दिक शुभकामनायें।

    उत्तर देंहटाएं
  8. वाह ! कहानी तो बहुत भायी ही क्षणिका ने मुस्कानों की बौछार ही कर दी... शुभ दीपावली!

    उत्तर देंहटाएं
  9. दीपावली केशुभअवसर पर मेरी ओर से भी , कृपया , शुभकामनायें स्वीकार करें

    उत्तर देंहटाएं
  10. अति सुन्दर दन्त कथा ...** दीप ऐसे जले कि तम से संग मन को भी प्रकाशित करे ***शुभ दीपावली **

    उत्तर देंहटाएं
  11. इन दंतकथाओं को इसी प्रकार सुरक्षित रखा जा सकता है। बहुत बधाई दीपावली की, समस्त परिवार को। कथा कहनेवाले के घर भी उसी प्रकार प्रकाश और लक्ष्मी का वास हो॥

    उत्तर देंहटाएं
  12. अच्छी कहानी सुन्दर प्रस्तुति
    आपको और आपके प्रियजनों को दीपावली की हार्दिक शुभकामनायें….!

    संजय भास्कर
    आदत....मुस्कुराने की
    http://sanjaybhaskar.blogspot.com

    उत्तर देंहटाएं
  13. अच्छी प्रस्तुति!
    दीपावली की शुभकामनायें!

    उत्तर देंहटाएं
  14. दीपावली की हार्दिक शुभकामनायें

    उत्तर देंहटाएं
  15. दीपोत्सव की हार्दिक शुभकामनायें....

    उत्तर देंहटाएं
  16. आपको भी सपरिवार दीपावली की हार्दिक शुभकामनायें ।

    उत्तर देंहटाएं
  17. बहुत ही अच्छी कहानी!
    जिस तरह लकडहारे के दिन बहुरे उसी प्रकार आपके भी दिन बहुरे .....
    इसी शुभ कामना के साथ आपको दीप पर्व दीपावली की शुभ कामनाएं !

    उत्तर देंहटाएं
  18. दीपावली के पावन पर्व पर हार्दिक बधाइयाँ और शुभकामनाएँ |

    way4host
    rajputs-parinay

    उत्तर देंहटाएं
  19. दन्त कथा अच्छी लगी ... और डा० सरोजनी प्रीतम तो कमाल का ही लिखती हैं ... नयी संज्ञा बढ़िया लगी :):)

    दीपावली की शुभकामनायें

    उत्तर देंहटाएं
  20. चर्चा मंच परिवार की ओर से दीपावली की हार्दिक शुभकामनाएँ!
    आइए आप भी हमारे साथ आज के चर्चा मंच पर दीपावली मनाइए!

    उत्तर देंहटाएं
  21. आपको सपरिवार दीपावली की हार्दिक शुभ कामनाएँ!

    सादर

    उत्तर देंहटाएं
  22. दीपावली की हार्दिक शुभकामनाएँ!

    आपकी पोस्ट की हलचल आज (26/10/2011को) यहाँ भी है

    उत्तर देंहटाएं
  23. आपकी अभिव्यक्ति सुन्दर ओर रोचक है.
    सुन्दर प्रस्तुति के लिए आभार.

    सुनील जी,आपके व आपके समस्त परिवार के स्वास्थ्य, सुख समृद्धि की मंगलकामना करता हूँ.दीपावली के पावन पर्व की बहुत बहुत हार्दिक शुभकामनाएँ.
    दुआ करता हूँ कि आपके सुन्दर सद लेखन से ब्लॉग जगत हमेशा हमेशा आलोकित रहे.

    समय मिलने पर मेरे ब्लॉग पर भी आईयेगा.

    उत्तर देंहटाएं
  24. आप पर भी गृहलक्ष्मी सहित माँ लक्षमी की स्थायी कृपा बनी रहे ।
    दीपपर्व की हार्दिक मंगलकामनाओं सहित...

    उत्तर देंहटाएं
  25. बहुत शिक्षाप्रद दन्त कथा,सार्थक पोस्ट
    आपको और आपके परिवार को दीपावली की मंगलमय शुभकामनाएं !

    उत्तर देंहटाएं
  26. SIR PRANAM,aap mere blog se jude apka abhar...
    gyanvardhak kahani.....
    prakashparv ki bahut-bahut shubhkamnayen..

    उत्तर देंहटाएं
  27. सुनील जी! बहुत ही अच्छी दन्त कथा.. दीप-पर्व आपके जीवन में प्रकाश लाये!!

    उत्तर देंहटाएं
  28. बहुत अच्छी दन्त कथा |दीपावली पर हार्दिक शुभ कामनाएं |
    आशा

    उत्तर देंहटाएं
  29. कहानी अच्छी लगी|
    दीपावली की शुभकामनाएँ!

    उत्तर देंहटाएं
  30. वाह क्या दन्त कथा hai ....
    क्या ऐसे चमत्कार सच्च में संभव हैं .....?

    डॉ सरोजनी ki क्षणिकायें मेरे paas भी aayi हैं सरस्वती-सुमन के लिए ....
    अच्छा लिखती हैं ....

    उत्तर देंहटाएं
  31. भगवान करें सभी के दिन बहुरें
    दादी-नानी वाली कहानियों को याद कराने के लिए बहुत बहुत शुक्रिया
    लक्ष्मी पति वाली अमृता प्रीतम जी की क्षणिका जबरदस्त है

    दिवाली, भाई दूज और नव वर्ष की शुभकामनायें

    उत्तर देंहटाएं
  32. दीपावली की हार्दिक शुभकामनाएँ ...

    उत्तर देंहटाएं
  33. शानदार पोस्ट है।
    दंत कथा याद दिलाते रहने की जरूरत है।
    दीप पर्व के शेष दिनो की ढेर सारी बधाई।

    उत्तर देंहटाएं
  34. एक विस्मृत होती कथा का पुनः स्मरण कराने का आभार.

    उत्तर देंहटाएं
  35. बहुत ही अच्छी कथा है ... विस्मृत हो चुकी थी यह कहा शुक्रिया याद कराने का ... आपको दिवाली की मंगल कामनाएं ...

    उत्तर देंहटाएं