शुक्रवार, अक्तूबर 07, 2011

इसे मैं क्या कहूँ ?........





मैंने आज तक उसको, 
कभी  बेवफा कहा ही नहीं |
मगर वफ़ा की बात हो तो ,
उसका ज़िक्र भी अच्छा नहीं लगता |

ज़रूर उसकी बेवफायी भी
एक मज़बूरी रही होगी |
मेरे इस भरम का टूटना भी , 
मुझे कभी अच्छा नहीं लगता |

(चित्र गूगल के सौंजन्य से) 


41 टिप्‍पणियां:

  1. बहुत बढ़िया प्रस्तुति ||

    बहुत बहुत बधाई ||

    उत्तर देंहटाएं
  2. मेरे इस भरम का टूटना भी ,
    मुझे कभी अच्छा नहीं लगता |
    सही कहा कभी कभी झूठा भ्रम भी बना रहे तो अच्छा लगता है |

    उत्तर देंहटाएं
  3. बढिया प्रस्‍तुति।
    गजब के भाव।

    उत्तर देंहटाएं
  4. मैंने आज तक उसको,
    कभी बेवफा कहा ही नहीं |
    मगर वफ़ा की बात हो तो ,
    उसका ज़िक्र भी अच्छा नहीं लगता |

    सुनील कुमार जी,
    जीवन में भ्रम टूट जाए तो बहुत ही अच्छा होता है। हम उधार की जिंदगी जीने से तो बच जाते हैं । सार्थक पोस्ट । मेरे पोस्ट पर आपका आमंत्रण है । धन्यवाद ।

    उत्तर देंहटाएं
  5. शानदार प्रस्तुति मुझे ऐसा लगता है कि कुछ भ्रम बने रहें तो भी कोई बुराई नहीं है .... आभार

    उत्तर देंहटाएं
  6. कुछ तो मजबूरियाँ रहीं होंगी, यूँ ही कोई वेवफा नहीं होता।

    उत्तर देंहटाएं
  7. बस अच्छा ही अच्छा सोचना --इसी का नाम प्यार है ।
    सुन्दर रचना ।

    उत्तर देंहटाएं
  8. उफ़्फ़ ये तो मोहब्बत की बातें हैं ,कुछ कहा भी न जाए और कहे बिन रहा भी न जाए

    उत्तर देंहटाएं
  9. चार-चार पंक्तियों में सुन्दर संवेदनशील अभिव्यक्ति...

    उत्तर देंहटाएं
  10. Never read something as beautiful as this post on cheating...Beautiful beyond words!
    Saru

    उत्तर देंहटाएं
  11. एक गाना के दो लाईन हैं -
    तुम किसी को ऐसे बेवफा न समझो
    आशिकी में बेबसी को तुम दगा न समझो..

    उत्तर देंहटाएं
  12. मुझे तेरी वफ़ाओं का भरम होता तो अच्छा था:)

    उत्तर देंहटाएं
  13. आपकी इस उत्कृष्ट प्रविष्टी की चर्चा आज के चर्चा मंच पर भी की गई है!
    अधिक से अधिक लोग आपके ब्लॉग पर पहुँचेंगे तो चर्चा मंच का भी प्रयास सफल होगा।

    उत्तर देंहटाएं
  14. भ्रम बना रहे तभी तक अच्छा है, भ्रम में ही किसी को वफ़ा का अनुभव हो सकता है... वरना इस जहाँ में तो खुद का मन ही बेवफा होने में देर नहीं लगाता औरों का तो कहना ही क्या...

    उत्तर देंहटाएं
  15. sahi kahaa bhram banaa rahe to hi achchha hai par is bhram ko toadane ki koshish me yahi bhram rahtaa hai ki mera bhram hoga..

    उत्तर देंहटाएं
  16. ज़रूर उसकी बेवफायी भी
    एक मज़बूरी रही होगी |
    मेरे इस भरम का टूटना भी ,
    मुझे कभी अच्छा नहीं लगता |

    बहुत खूब ! बहुत सच कहा है, कई बार भ्रम बना रहे यही जीवन के लिये काफी होता है..बहुत सुन्दर

    उत्तर देंहटाएं
  17. वाह, बहुत सुंदर रचना


    मैंने आज तक उसको,
    कभी बेवफा कहा ही नहीं |
    मगर वफ़ा की बात हो तो ,
    उसका ज़िक्र भी अच्छा नहीं लगता |

    उत्तर देंहटाएं
  18. कोई मजबूरी ही रही होगी नहीं तो कोई यूं ही कोई बेवफा नहीं होता:)

    उत्तर देंहटाएं
  19. ज़रूर उसकी बेवफायी भी
    एक मज़बूरी रही होगी......


    Dil ka tutna to kise bhi accha ni lagta...

    -- Mere Shabd

    उत्तर देंहटाएं
  20. बफा के बाद ही बेवफाई हो सकती है

    उत्तर देंहटाएं
  21. मेरे इस भरम का टूटना भी ,
    मुझे कभी अच्छा नहीं लगता ।

    हां, कुछ भरम जीवन को खुशनुमा बनाए रखते हैं।
    बढि़या कविता।

    उत्तर देंहटाएं
  22. ज़रूर उसकी बेवफायी भी
    एक मज़बूरी रही होगी
    शानदार प्रस्तुती।

    उत्तर देंहटाएं
  23. जब ज़िंदगी खुद ही एक भरम है तो इसमें कुछ भरम बने रहें वही अच्छा है!!

    उत्तर देंहटाएं
  24. बहुत सुंदर रचना !
    जरुर उसकी बेवफायी
    एक मज़बूरी रही होंगी :)

    उत्तर देंहटाएं
  25. ज़रूर उसकी बेवफायी भी
    एक मज़बूरी रही होगी |
    मेरे इस भरम का टूटना भी ,
    मुझे कभी अच्छा नहीं लगता .very nice...

    उत्तर देंहटाएं
  26. यह तो कई रिश्तों की सच्चाई कह दी आपने.. सुन्दर!

    उत्तर देंहटाएं
  27. आज आपकी पोस्ट ब्लोगर्स मीट वीकली (१२) के मंच पर प्रस्तुत की गई है /कृपया आइये और अपने विचारों से हमें अवगत करिए /आप इसी तरह मेहनत और लगन से हिंदी की सेवा करते रहें यही कमना है /आपका ब्लोगर्स मीट वीकली के मंच पर आपका स्वागत है /जरुर पधारें /

    उत्तर देंहटाएं
  28. भ्रम का बना रहना कभी कभी नितांत आवश्यक होता है जीने के लिए!
    सुन्दर अभिव्यक्ति!

    उत्तर देंहटाएं
  29. bahut hi gahrayi se likha hai apne..
    bahut hi sundar prastuti hai

    उत्तर देंहटाएं