बुधवार, अगस्त 24, 2011

एक अप्रवासी वापसी....( आज मेरी पसंद से )


अपनी गली का रास्ता पूछते है, 
आज हम बस्ती की नयी दुकानों से |
हो रही हैं  पहचान अब अपनी, 
बस्ती के पुराने मकानों से |


कभी जिन गलियों में छिपते थे  ,
हम डर कर पकड़े  जाने से |
आज उन्हीं में घूमते रहे हम ,
बस यूहीं घंटों बेगाने से |


जहाँ थे लहलहाते खेत कभी ,
खड़ी है वहां अब इमारतें ऊँची|
रास्ता धूप का रोक लेती  है वह 
अब मेरी खिड़की में आने से |


याद आती है आज भी वह ,
मेरे गाँव की बूढी काकी |
जो अक्सर फूटकर रो पड़ती थी
बस हमारे झूठे रूठ जाने से |




(एक पूर्व  प्रकाशित पुन: सम्पादित रचना)
  

29 टिप्‍पणियां:

  1. बहुत सुन्दर पंक्तियाँ..
    आज यही सच है.. कितने बेगाने...

    उत्तर देंहटाएं
  2. बहुत सुन्दर भावपूर्ण रचना..

    उत्तर देंहटाएं
  3. कंक्रीट जंगल में यही तो हाल होना है सुनिल जी :(

    उत्तर देंहटाएं
  4. भावपूर्ण रचना. दुबारा शेयर करने के लिए आभार.

    उत्तर देंहटाएं
  5. कभी जिन गलियों में छिपते थे...
    बहुत सुन्दर कविता है सुनील जी. बधाई.

    उत्तर देंहटाएं
  6. जब अन्धाधुन्ध जनसख्या बढ़ेगी तो यही तो होगा..

    उत्तर देंहटाएं
  7. अतीत से निकलती ....वर्तमान की सच्चाई ........बहुत खूब

    उत्तर देंहटाएं
  8. अपनी ही बस्ती जब पहचान में नहीं आती अपने ही घर का पता जब पूछना पड़ता है तो ऐसी ही रचना का जन्म होता है..

    उत्तर देंहटाएं
  9. oh my god.... itna sunder...ek ek lafz padhne layak...hatts off to u sir

    उत्तर देंहटाएं
  10. खुबसूरत और बेहतरीन प्रस्तुति ....

    उत्तर देंहटाएं
  11. भावपूर्ण ... अक्सर पीछे लौटना सुखद लगता है ...

    उत्तर देंहटाएं
  12. कल शनिवार २७-०८-११ को आपकी किसी पोस्ट की चर्चा नयी-पुराणी हलचल पर है ...कृपया अवश्य पधारें और अपने सुझाव भी दें |आभार.

    उत्तर देंहटाएं
  13. दिल को छूने वाले भाव हैं । ऐसा अनुभव मुझे भी हुआ है। बड़े होकर उन गलियों में यूँ ही आवारगी करना जहाँ कभी बचपन बीता, बड़ा बेगाना सा एहसास उभर कर आता है। वे जिनके साथ हम घंटो बैठकर खेलते थे या तो मिलते नहीं, गलती से दिख गये तो इतने व्यस्त की दो-चार बातों के बाद ही कह उठते हैं...आज जरा जल्दी में हैं..कभी छुट्रटी में घर आओ..पत्नी को लेकर...नमस्कार। अपनी गलियों में अजनबी की तरह भटकने का एहसास अनोखा होता है। आपने बहुत कुछ याद करा दिया।

    उत्तर देंहटाएं
  14. ऐसा ही होता है। भावुक करती रचना।

    उत्तर देंहटाएं
  15. बहुत कुछ बदल गया अब या तो हम अपनी पहचाना खो बैठे हैं -एक सटीक सपाट बयानी !

    उत्तर देंहटाएं
  16. अपना गाँव और अपने, कभी भूले से भी बुलाये नहीं जा सकते

    उत्तर देंहटाएं
  17. सुन्दर सटीक और भाव पूर्ण रचना..आभार....

    उत्तर देंहटाएं
  18. सुनील जी,
    नमस्कार,
    आपके ब्लॉग को "सिटी जलालाबाद डाट ब्लॉगसपाट डाट काम" के "हिंदी ब्लॉग लिस्ट पेज" पर लिंक किया जा रहा है|

    उत्तर देंहटाएं
  19. भावुक करती रचना।
    बेहद सुन्दर लिखा है आपने... क्या बात है ..

    उत्तर देंहटाएं
  20. अतीत और वर्तमान के अंतर को रेखांकित करती सुन्दर रचना!

    उत्तर देंहटाएं