बुधवार, सितंबर 29, 2010

जीवन का गणित

जब मै जीवन के
जोड़, घटाने
और गुणा, भाग के
प्रश्नों को ,
हल नहीं कर पाता हूँ |
तब मै ,
मृत्यु के प्रश्न ,
पर आता हूँ |
तो  जीवन के दर्द को
हासिल की तरह
पहले से ही  वहाँ पाता हूँ |
जीवन के इस गणित में
जीवन और  मृत्यु में
दर्द का अनुपात
 मै समान ही पाता हूँ |

30 टिप्‍पणियां:

  1. आपका लेख चोरी हो गया है ....
    यहाँ देखे ...
    http://chorikablog.blogspot.com/2010/09/blog-post_4132.html

    उत्तर देंहटाएं
  2. ब्लॉग को पढने और सराह कर उत्साहवर्धन के लिए शुक्रिया.

    उत्तर देंहटाएं
  3. जीवन के गणित मे नम्बर भी पूरे मिलते है

    उत्तर देंहटाएं
  4. जीवन के इस गणित में
    जीवन और मृत्यु में
    दर्द का अनुपात
    मै समान ही पाता हूँ |
    Bahut,bahut sundar!

    उत्तर देंहटाएं
  5. बहुत सुन्दर, भावपूर्ण और लाजवाब रचना लिखा है आपने जो सराहनीय है! बधाई!

    उत्तर देंहटाएं
  6. गणितीय भाषा में दर्शन के गूढ़ प्रश्न सुलझा गये।

    उत्तर देंहटाएं
  7. तब मै ,
    मृत्यु के प्रश्न ,
    पर आता हूँ |
    तो जीवन के दर्द को
    हासिल की तरह
    पहले से ही वहाँ पाता हूँ |

    जीवन की सच्चाइयों का गणित, बहुत खूब !

    उत्तर देंहटाएं
  8. ek satyata liye hue yatharth-parak avam bahut hi bhavpurn rachna. sach much ye jidgi ki ganit bhi badi ajeeb hai kabhi to yun chutkiyon me hai ho jaati hai aur kabhi kabhi aisa fansa deti hai ki aadmi jivan bhar use suljhane me hi laga rah jaata hai.bahut hi badhiya prastuti.
    poonam

    उत्तर देंहटाएं
  9. जीवन और मृत्यु में
    दर्द का अनुपात
    मैं समान ही पाता हूं

    जीवन के गणित का अच्छा उदाहरण।

    उत्तर देंहटाएं
  10. जीवन के अनसुलझे गणित को आपने बहुत ही संजीदगी से प्रस्तुत किया है. बहुत सुन्दर रचना..... मन के गहन भाव को दर्शाती है ये रचना....

    उत्तर देंहटाएं
  11. sarahneey prastuti............dard ka hisil ....wah kya baat hai.......

    उत्तर देंहटाएं
  12. बहुत सुन्दर कलात्मक अभिव्यक्ति .. कविता में सादगी का विलक्षण सौंदर्य खिला है

    उत्तर देंहटाएं
  13. गणित में तो हम भी कमजोर थे सुनील जी .....
    शायद दर्द इधर भी पैर जमा गया .....
    सुंदर भावों को पिरोया है आपने ....!!

    उत्तर देंहटाएं
  14. जीवन के इस गणित में
    जीवन और मृत्यु में
    दर्द का अनुपात
    मै समान ही पाता हूँ |
    bahut sundar bhav lage .man ko bha gayi kavita .

    उत्तर देंहटाएं
  15. मृत्यु सत्य, जीवन मिथ्या!
    विलक्षण रचना!
    आशीष

    उत्तर देंहटाएं
  16. बहुत सुन्दर भाव ...मृत्यु ही सत्य है ..

    उत्तर देंहटाएं
  17. आपने बहुत गहरी बात अपनी
    छोटी सी रचना के माध्यम से कह दी .
    आभार .....

    उत्तर देंहटाएं
  18. बहुत अच्छी प्रस्तुति।

    उत्तर देंहटाएं
  19. ye jeevan ka sach hai ham sab jitni jldi seekh our smjh le utna hi ham sbke liye achchha hai .bhut umda post .

    उत्तर देंहटाएं
  20. 6.5/10

    एक उत्कृष्ट और मौलिक कविता
    जीवन की विडम्बना और वेदना की विलक्षण अभिव्यक्ति
    कविता समाप्त होते ही पाठक के मन में अकथनीय अनुभूति होती है.

    उत्तर देंहटाएं