शनिवार, सितंबर 04, 2010

ज़िंदगी और रोटी




 दूध के दाँत जल्दी टूटने का,
 एक कारण सूखी रोटियां भी थी |
बचपन बीतने का अहसास तब हुआ
जब मैं रोटी कि तलाश को निकला |
जवानी एक रोटी से दूसरी रोटी के,
सफ़र को तय करने में  गुज़र गयी ,
और आज बुढ़ापा जली बासी रोटी कि तरह,
कचरे के डिब्बे का इंतजार कर रहा है |



(पुनः सम्पादित रचना)




19 टिप्‍पणियां:

  1. बहुत खूब , कम शब्दों में आपने इतना कुछ कह डाला ,,जीतनी तारीफ़ करो , कम ही होगी ,,,लाजवाब
    जितना गाओ घिंसता जाये जीवन का धुंधला संगीत।


    दोमट पर पहली छिड़कन से !

    उत्तर देंहटाएं
  2. बहुत सुन्दर रचना, सचमुच हमारी आबादी का १ बहुत बड़ा हिस्सा अपनी जिन्दगी का १ बड़ा हिस्सा केवल रोटी के इन्तज़ाम मे ही बिता देता है, अन्त मे सच यह मिलता है कि "जब दात तब चना नही जब चना तब दात नही"

    उत्तर देंहटाएं
  3. ज़िन्दगी की सच्चाई को बहुत ही सुन्दर रूप से आपने शब्दों में पिरोया है! उम्दा प्रस्तुती!

    उत्तर देंहटाएं
  4. अबूझ जिंदिगी की बेमिसाल परिभाषा
    हार्दिक बधाई इस अथक प्रयास और अनुभूति की
    चन्द्र मोहन गुप्त

    उत्तर देंहटाएं
  5. आदरणीय सुनील कुमार जी
    नमस्कार !

    जवानी
    एक रोटी से दूसरी रोटी के सफ़र को
    तय करने में गुज़र गयी

    बहुत संवेदनशील रचना के लिए आभार
    बधाई की परिधि से बहुत आगे … बहुत उच्च कोटि की रचना …
    शब्द नहीं भाव महत्वपूर्ण हैं …
    साधु …
    - राजेन्द्र स्वर्णकार

    उत्तर देंहटाएं
  6. जवानी एक रोटी से दूसरी रोटी के,
    सफ़र को तय करने में गुज़र गयी ,
    और आज बुढ़ापा जली बासी रोटी कि तरह,
    कचरे के डिब्बे का इंतजार कर रहा है |

    बहुत गहरे अहसास !

    sorry, bhoolbas yah tippani aapkee doosree post par kardee thee

    उत्तर देंहटाएं
  7. जवानी एक रोटी से दूसरी रोटी के,
    सफ़र को तय करने में गुज़र गयी ,
    और आज बुढ़ापा जली बासी रोटी कि तरह,
    कचरे के डिब्बे का इंतजार कर रहा है

    सुंदर और शुद्ध भाव!

    उत्तर देंहटाएं
  8. दूध के दाँत जल्दी टूटने का,
    एक कारण सूखी रोटियां भी थी |
    बहुत ही गंभीर और मार्मिक रचना के लिए बधाई

    उत्तर देंहटाएं
  9. jawani ki nihaayat hi sachchi aur saral paribhasha....
    very nice sunil ji...superb use of emotions in lines..keep going

    उत्तर देंहटाएं
  10. jeevan ka path bahut ghumav liye chalta hai. aapne iske har pahlu ko samjha hai

    उत्तर देंहटाएं