मंगलवार, सितंबर 14, 2010

आज मेरी बेटी का जन्म दिन है


जी हाँ यह शीर्षक आपको कुछ अटपटा लगा होगा और लगना भी चाहिए क्योंकि इस तरह के शीर्षक से समाचार प्रकाशित करने अधिकार केवल अम्बानी, टाटा बिरला या किसी अन्य नए अमीर आदमी को है |यहाँ मै आपको विश्बास दिलाता हूँ की मै इनमे से कोई भी नही हूँ |जिसकी पुष्टि आप मेरे व्लाग के प्रोफाइल को देखकर कर सकते है | मै एक आम आदमी जिसे केवल रोटी और रोटी से मतलब है| जी हाँ यह बिलकुल सत्य है दिनांक १४सितम्बर १९८९को मेरी बेटी  पुन्नू का जन्म हुआ था | उसका जन्म एक निजी अस्पताल में आपरेशन से हुआ था | मै आपरेशन  थियेथर  दरवाजे पर ही खड़ा था |  दरवाजा खुला डाक्टर साहिबा अपने चेहरे पे नकली हँसी लाती हुई बोली बधाई हो लड़की हुई है | उस हँसी में खुशी कम और दुख ज्यादा था |मै उनके दुख के कारण खोजने  का प्रयास करने लगा | आसपास के सूचनापटों पर निगाह दौड़ाई शायद कहीं यह लिखा हो लड़की के जन्म पर डाक्टर की फ़ीस आधी मग़र बाद में याद आया वह भी उसी हिंदुस्तान में रहती जहाँ लड़की के जन्म को शोक दिवस के रूप में मनाया जाता है |सामने डाक्टर की नेमप्लेट थी जिस पर नाम के नीचे डिग्री की लम्बी लाइन थी | मुझे यह बात देख कर बहुत ख़ुशी हुई की  इस विषय पर शिक्षित या अशिक्षित सब  एकमत है |
मेरे पीछे कुछ कानाफूसी चल रही है अस्पताल की नर्से कह रही है की लड़की हुई तो क्या हुआ ५०० नहीं तो ३०० तो ले ही लेंगे |मुझे ऐसा लग रहा था की वह मुझे अप्रत्यक्ष्य   रूप से संवेदना दे रही हो |
तभी हमारे मोहल्ले की काकी जल्दी से रिक्शे से उतर के अंदर आयीं और बिना पूछे ही बापस चली गयी | हुआ यह की रिक्शे वाले ने २० पैसे कम दिए थे अब काकी उससे कह रही थी भइया कहीं से भी लाओ हमको हमारे पैसे चाहिए लड़की हुई अगर ऐसे लुटाते रहे तो फिर शादी कैसे करेंगे  | इस काकी की  हमारे प्रति आत्मीयता कहें या लड़की के जन्म के प्रति उनकी अलग धारणा समझ में नहीं आता ?

आज  मेरी बेटी २१  साल की   हो गयी  अब हम उसको शिवांगी श्रीवास्तव  के नाम से पुकारते वह इंजीनियरिंग  कालिज फौर्थ इयर की स्टुडेंट है | यहाँ मै यह भी बता देना चाहता हूँ कि मेरे दो बेटियाँ है दूसरी है आरुषी  श्रीवास्तव  जो इंजीनियरिंग के सेकंड इयर में है |

अब अगर आप उस डाक्टर ,नर्स या काकी से , बेटियों के प्रति कुछ अलग विचारधारा रखते है तो उसके  जन्म दिन कि बधाई दे सकते  है आपका स्वागत .......



32 टिप्‍पणियां:

  1. शिवांगी संज्ञा को आपने बेटी सर्वनाम बना दिया, बहुत-बहुत मुबारक.

    उत्तर देंहटाएं
  2. आज मेरा भी जन्मदिन है, और मेरे जन्म पर मेरे माता-पिता ने भी खुशियाँ बनायीं थीं और आज भी मेरी सफलताएँ उनकी आशीषों की बदोलत हैं... आपको आपकी बेटी के जन्मदिन की ढेर सारी शुभकामनाएं!!! इश्वर करे की वो बहुत तर्रकी करें और हमेशा आपके गौरव का कारण रहें.

    उत्तर देंहटाएं
  3. yaaa,...hearty wishes from me to ur daughter...nice to see u giving a thought 2 d copious corollary events following d birth of a girl 2 a home dose days....n evn its a brutal reality of tday..dat cant b overlooked..hw many reservations u put..hw many slogans u giv..until d worm of narrowminded is creeping in those damn brains..n until d respect doesnt cum frm d heart ..its all worthless...in reality, took some time to think wat d hell lot of problems a girl hav to cnfrnt in his daily life..u wil knw d real world...so its a high time to think beyond d materialistic boundaries...n giv the deserving respect to d credulous n d most fragrant flower of d world..,.again a sincere thanx 2 u for..ur dis audatic step.... *****

    उत्तर देंहटाएं
  4. आपके अनुभव के बारे में तो क्‍या कहूं? डॉक्‍टर या नर्स स्‍वयं लडकी के पैदा होने पर दुखी नहीं होते वरन घरवालों की प्रतिक्रिया के कारण ऐसा बोलते हैं, ऐसा मेरा अनुभव है। यदि आप स्‍वयं खुश हैं तो सभी चेहरों पर खुशी ही पाएंगे लेकिन यदि आप खुश नहीं है तो आपको शक ही दिखायी देगा। बस स्‍वयं खुश होइए और गर्व करिए कि मेरे दो बेटियां हैं। शिवांगी को ढेरों शुभकामनाएं, मेरे बेटे का घर का नाम भी पुन्‍नू है।

    उत्तर देंहटाएं
  5. Behad khushi hui aapki post padhke! Aapke pariwarko aur bitiyako dheron shubhkamnayen!
    Charo or dekhti hun,ki,betiyan apne mata pitaka hamesh khayal rakhti hain,beton ke banisbat kahin zyada,lekin beteki chahat logon ke dilon jati nahi...

    उत्तर देंहटाएं
  6. शिवांगी को स्नेहाशीष .....आज बेटे और बेटी में फर्क नहीं है -मगर इस बात को माता पिता को मनसा वाचा कर्मणा माना होगा -सामाज की फ़िक्र छोडिये ,उसे उसे बदलने में समय लगेगा

    उत्तर देंहटाएं
  7. शिवांगी को ढेर सारी शुभकामनायें और आशीर्वाद ...

    नर्स तो अपने मिलने वाले इनाम के कारण शोक संतप्त होंगी ...

    उत्तर देंहटाएं
  8. sunil ji sarv pratham aapki beti ko janam din ki bahut bhaut shubh kamna.ishwar uske jivan ko fulo ki bagiya sa mahkaayen-beti ko ssneh ashish.
    jab hamari najar me beta -beti ek samaan hai hame unko aakash ki unchiyo ko chhoona sikhlana hai to hame aase logo ki baato par bilkul bhi dhyaan nahi dena chahiyejo aaj bhi ladke-ladkiyo me bhed bhav karte hai.
    poonam

    उत्तर देंहटाएं
  9. शिवांगी को बहुत बहुत शुभकामनाये और आशिर्वाद .
    मेरे भी सिर्फ़ एक बेटी है और मुझे कभी बेटे की आवश्यकता ही नही हुई .वह आज 8th मे पढरही है हास्टल मे रह कर . मुझे मालूम है वह मेरा नाम रोशन करेगी एक बेटे से ज्यादा .

    उत्तर देंहटाएं
  10. और हां मेरा बेटा नही है इसका अफ़सोस हमे तो नही लेकिन हमारे उन मिलने वालो को जरुर है जिनसे हम कोई मतलब नही रखना चाह्ते .

    उत्तर देंहटाएं
  11. कम से कम एक बेटी हर घर की ज़रूरत है.जिनके पास बेटियां हैं,वे उनका मूल्य जानते हैं।

    उत्तर देंहटाएं
  12. मेरी बिटिया मेरे लिये लड़के के जैसी है। शिवांगी व आरुषी को उज्जवल भविष्य की शुभकामनायें।

    उत्तर देंहटाएं
  13. शिवांगी को जादू की झप्पी....के साथ बधाई.......आरूषी को स्नेह.......

    उत्तर देंहटाएं
  14. ये धारणाएं भी अजीब होतीं हैं.. कोफ़्त होती है कभी-कभी खुद पर ही कि क्यों ऐसे समाज का हिस्सा हैं हम.. शिवांगी को शुभकामनाएं और आपको बधाई सर..

    उत्तर देंहटाएं
  15. तकलीफ तब होती है जब सफलताओं के शिखर पर बैठी एक बेटी के लिए भी माँ-बाप कह देते हैं कि 'उसने तो बेटे की कमी पूरी कर दी' या 'वो तो बेटे से बढ़ के' या 'बेटा है मेरे लिए'.. जैसे संबोधन ही पाती है.. क्यों आखिर हमेशा तुलना बेटे से ही क्यों? क्या एक बेटी बेटी रह कर कमाल नहीं कर सकती? क्या हम उसे सिर्फ बेटी नहीं मान सकते जिसकी तुलना किसी बेटे से की जाने की जरूरत ही नहीं..

    उत्तर देंहटाएं
  16. मेरे भी दो बेटियां है....यकीन मानिये वे किसी भी तरह लड़कों से कम नही है ,पर इस समाज का क्या करें....ये ही परेशां करता है बस! जन्मदिन की शुभकामनायें शिवांगी को !!!

    उत्तर देंहटाएं

  17. बेहतरीन पोस्ट लेखन के बधाई !

    आशा है कि अपने सार्थक लेखन से, आप इसी तरह, हिंदी ब्लाग जगत को समृद्ध करेंगे।

    आपकी पोस्ट की चर्चा ब्लाग4वार्ता पर है-पधारें

    उत्तर देंहटाएं
  18. जन्मदिन की शुभकामनायें.....शिवांगी को भी और उसके शक्ति स्तंभ पिता को भी ....
    आप अपनी बेटियों के साथ हैं तो फिर समाज की राय के क्या मायने हैं......समाज से लड़कर भी आज के दौर के पिता अपनी बेटियों को आगे बढ़ा रहे हैं......

    उत्तर देंहटाएं
  19. punnu ko janamdivas ki hardik shubhkamnayen.. betiyon ko swayam mein itna aatmvishwas bharna hoga ki samaj apni soch badalne ko majboor hojaaye.. snehashish

    उत्तर देंहटाएं
  20. आपको बिटिया के जन्म दिन की बधाई...हम त खुदे बेटी के बाप हैं,इसलिए हमरा खुसी का आप अंदाजा नहीं लगा सकते हैं...मगर आपका एगो बात हमको गलत लगा कि ई बात खाली टाटा,बिड़ला अऊर अम्बानी बोल सकता है...27 अगस्त को हमरी बिटिया का सालगिरह था...मौका लगे त देखिएगा...अऊर आपको बता दें..कि हम इनमें से कोनो नहीं हैं...

    उत्तर देंहटाएं
  21. हुत ही प्यारी और खूबसूरत बेटी है आपकी .....
    जन्मदिन की ढेरों शुभकामनाएं उसे .......
    दुआ है वो अपने मंतव्य में सफल होकर आपका नाम रौशन करे .......!!

    उत्तर देंहटाएं
  22. शिवांगी को जन्मदिन की बहुत बहुत बधाइयाँ और शुभकामनायें दीजियेगा! मैं भगवान से प्रार्थना करती हूँ ताकि शिवांगी को ज़िन्दगी में सारी खुशियाँ मिले और हमेशा खुश और सही सलामत रहे! मेरे ख्याल से पापा के तरफ से ये सबसे अनमोल तोहफा रहा बेटी के लिए! बहुत सुन्दर पोस्ट!

    उत्तर देंहटाएं
  23. शिवांगी को जन्मदिन की ढेरो शुभकामनाएँ.
    आपके विचार जानकार बहुत अच्छा लगा.
    सच में अगर आप जैसे पिता हो तो बेटियाँ
    क्यों न आगे बढ़ेगी. बहुत ही सुंदर पोस्ट.
    पढ़कर बहुत ख़ुशी हुई.

    उत्तर देंहटाएं
  24. शिवांगी दी को जन्मदिन की ढेरो शुभकामनाएँ.
    _____________________________
    'पाखी की दुनिया' - बच्चों के ब्लॉगस की चर्चा 'हिंदुस्तान' अख़बार में भी.

    उत्तर देंहटाएं
  25. आपकी बिटिया के जन्म दिन पर आप सब को बहुत बहुत बधाई.

    उत्तर देंहटाएं
  26. बेटी को जन्मदिन की ढेरों शुभकामनाएं .......
    पिता की तरफ से अनमोल तोहफा ..... बेटी के लिए!

    उत्तर देंहटाएं
  27. sunilji apki biteya ko jnam din ki anyek shubh kamnaye...aaj jamana bhut badal gaya hai bete se age hi nahi do kadam age ladkiya hai. meri bhi apke beti jitni beti hai mujhe bahut garv hai us par....sunder post hai........

    उत्तर देंहटाएं
  28. "हजार रश्मियों से अकेली लड़ रही मैं,
    रजनी हूँ पर मन का अँधेरा हर रही मैं."
    ये मेरा छोटा सा परिचय .........जो लड़ाई आपने आज से २१ वर्ष पहले लड़ी उसे मैंने भी १२ साल पहले शुरू किया और आज भी जारी है मेरी वाणी में मेरे कर्म में ..........ना जाने लोग क्यों लड़कियों को बोझ, शोक का कारण ना जाने क्या क्या समझते रहे थे और आज भी समझते हैं आज भी ,ये मानसिकता कम नहीं हुई .............मेरी भी एकमात्र संतान है वो भी लड़की .........मै खुश हूँ , पर कुछ लोग कहते हैं एक लड़का होता तो अच्छा था..........और लोगो की खास कर औरतों की लम्बी चौड़ी भाषण की लिस्ट में मुझे एक छोटा सा ही जवाब उन्हें चुप कराने के लिए काफी होता है " आप भी तो औरत हैं तो आपकी माँ ने आपको पैदा करके कोई गुनाह किया तब तो आज आप भी शोक करती हो लड़का होता तो अच्छा था???
    मै काफी खुश हूँ आपके विचारों से ...........बधाई उस बेटी की जन्मदिन पर जिसे आपने लक्ष्मीस्वरूपा सम्मान दिया .........

    उत्तर देंहटाएं
  29. अपकी बेटी को जन्मदिन की बहुत बहुत बधाई ौर आशीर्वाद। मेरी भी तीन बेटियाँ है और तीनो उच्च शिक्षा प्राप्त कर अच्छे पदों पर हैं अच्छे घर मिले हैं और मै खुद को दुनिया की सब से खुशन्सीब माँ समझती हूँ। मगर जब हुयी तो सब ने कुछ ऐसी ही प्रतिक्रियायें दी थी। एक बार फिर बेटी को आशीर्वाद। परिवार को बधाई।

    उत्तर देंहटाएं
  30. शिवांगी को ढेर सारी शुभकामनायें

    उत्तर देंहटाएं