बुधवार, अगस्त 29, 2012

आधा कम्बल.......


किसी गाँव में एक व्यक्ति अपने पत्नी और  अपने इकलौते  बेटे के साथ रहा करता था ।
अचानक एक दुर्घटना में उसकी पत्नी की मृत्यू  हो गयी । कुछ दिन गुजरने के पश्चात् उसने 
सोंचा घर सँभालने के लिए एक  स्त्री  की आवश्यकता होती हैं क्यों ना अपने बेटे की शादी
करदी जाये ।अत: उसने अच्छा सा रिश्ता देख कर उसका विवाह कर दिया । इस बीच उसके घर एक बेटे का जन्म भी हो गया ।अब वह दिन भर अपने पोते के साथ खेलता रहता और 
घर बाहर  का काम  भी कर दिया करता इस तरह उसके दिन अच्छे गुजरने लगे ।
एक दिन अचानक उसके बेटे ने  कहा देखिये पिता जी आप तो जानते ही हैं कि घर का 
खर्चा कितना बढ़ गया हैं और आप के लगातार बीमार रहने से इलाज भी कराना  पड़ता हैं ।
आप दिन भर खांसते रहते हैं अगर यह छुआछूत का रोग मेरे बेटे को लग गया तो हम एक 
बड़ी मुश्किल में पड़ जायेंगे क्यों ना आप घर छोड़ कर किसी बृद्ध  आश्रम में चले जाएँ तो 
यह हम सब के लिए अच्छा होगा । पिता ने उसके प्रस्ताव को स्वीकार कर लिया और जाते समय बोला मुझे ओढ़ने के कुछ दे दो बाहर बहुत ठण्ड हैं ।बेटे ने पुराना कम्बल निकाल कर 
दे दिया। उसने उस कम्बल के दो हिस्से करे और अपने बेटे से बोला इसे संभाल कर रखना 
यह आधा कम्बल कुछ समय बाद तुम्हारे काम आएगा ....... 

   

28 टिप्‍पणियां:

  1. मैंने कहानी की अंत ऐसे सुना है की जब वो अपने पिता को कम्बल देता है तो उसका बेटा दौड़ कर आता है और कम्बल ले कर चला जाता है वो उसके दो टुकडे करता है और कहता है पिता जी आधा कम्बल आप के लिए है | समय के साथ कुछ परिवर्तन ऐसे होते है जिन्हें हम पलट कर बदल नहीं सकते है ये किस्सा भी वैसा ही है तभी आज कल हर पुत्र अपने बुढ़ापे का इंतजाम खुद करने लगा है |

    उत्तर देंहटाएं
  2. पिता ऐसा ही करते किन्तु ऐसी स्थिति से निबटने के लिए ही अब उत्तर प्रदेश में और अन्य राज्यों में २००७ के एक कानून को लागू किया गया है जिसमे ऐसे अपने माँ-बाप को घर से निकलने पर सजा व् जुर्माने का प्रावधान है.
    बहुत सराहनीय भावपूर्ण प्रस्तुति तुम मुझको क्या दे पाओगे ?

    उत्तर देंहटाएं
  3. आधा कम्बल .....बोयेंगे सो पायेंगे ,हर पीढ़ी के लोग ....बढ़िया विचार कथा .बधाई ...
    बढ़िया प्रस्तुति है कृपया यहाँ भी पधारे -
    ram ram bhai
    बृहस्पतिवार, 30 अगस्त 2012
    अस्थि-सुषिर -ता (अस्थि -क्षय ,अस्थि भंगुरता )यानी अस्थियों की दुर्बलता और भंगुरता का एक रोग है ओस्टियोपोसोसिस
    http://veerubhai1947.blogspot.com/

    उत्तर देंहटाएं
  4. आपकी पोस्ट 30/8/2012 के चर्चा मंच पर प्रस्तुत की गई है
    कृपया पधारें

    चर्चा - 987 :चर्चाकार-दिलबाग विर्क

    उत्तर देंहटाएं
  5. सच कहा है .. क्योंकि उसका बेटा तो उसे आधा कम्बल भी नहीं देने वाला ...
    बहुत कुछ कह जाती है आपकी लघु कथा ... जैसा बोये वैसा काटे ...

    उत्तर देंहटाएं
  6. आज की सच्चाई यही है,,,,,
    मन व्याकुल करती लघुकथा,,,

    MY RECENT POST ...: जख्म,,,

    उत्तर देंहटाएं
  7. ऐसा लग रहा है जैसे आपने पूरे समाज के सामने आइना रख दिया हो।
    आइये अपने अपने चेहरे देखिए..
    बहुत सुंदर लघुकथा

    उत्तर देंहटाएं
  8. marmik prastuti ......sach ka aaina hai yah ,aaj ka kawa sach ,
    sundar laghukatha

    उत्तर देंहटाएं
  9. यथार्थ का आईना दिखाती पोस्ट जैसा कर्म करेगा वैसा फल देगा भगवान...

    उत्तर देंहटाएं
  10. सुन्दर हृदयस्पर्शी कहानी...
    मिट्टी के कसेरों में बूढ़े माँ-बाप को चाय पिलाने वाली एक कुछ ऐसी ही कहानी बचपन में पढ़ी थी....
    सोचने पर विवश करती हैं ऐसी कथाएं....

    सादर
    अनु

    उत्तर देंहटाएं
  11. दर्दभरी दास्ताँ .. आज की स्तिथि वृद्धावस्था के दर्द .. बहुत सुन्दर लिखा है.

    उत्तर देंहटाएं
  12. लघु कथाओं में गहरे मर्म को उकेरना आपकी विशिष्टता है,आदरणीय बधाई स्वीकारें.

    उत्तर देंहटाएं
  13. माता-पिता तो आखिर माता-पिता ही होते हैं :)

    उत्तर देंहटाएं
  14. अगर उनके स्थान पर खुद को रख लिया जाए तो ये परिस्थिति उत्पन्न ही न हो .......

    उत्तर देंहटाएं