शुक्रवार, अगस्त 17, 2012

हिंग्लिश बाल कविता

बरसात के दिनों में एक अध्यापक ने विद्यार्थी से स्कूल  ना आने का कारण पूछा तब उसने कुछ इस तरह से बताया ....





इट वाज रैनिंग झमाझम । 
रोड पर आते थे जब हम ।  
लेग माई फिसलिंग गिर पड़े हम ।
इसी वजह से कुड  नॉट कम । 


24 टिप्‍पणियां:

  1. बचपन में कुछ इसी तरह इग्लिश में बात करते थे,,,,अच्छी प्रस्तुति,,
    RECENT POST...: शहीदों की याद में,,

    उत्तर देंहटाएं
  2. :-)

    बालसुलभ बातें ...मोह लेती हैं.
    सादर
    अनु

    उत्तर देंहटाएं
  3. यह कविता पढ़कर मुझे याद आया...
    जन्माष्टमी के समय मेरे मोबाइल पर यह मेसेज आया था---

    यशुमति मॉम से
    टॉकिंग नंदलाला
    राधा क्यूँ फ़ेयर
    आई एम क्यूँ काला
    बोली स्माइलिंग मइया
    लिसेन मेरे लाला
    वो सिटी की गोरी
    तू गाँव का ग्वाला
    इसलिए कालाः))

    उत्तर देंहटाएं
  4. बहुत सुन्दर प्रस्तुति!
    --
    इस प्रविष्टी की चर्चा कल रविवार (19-08-2012) के चर्चा मंच पर भी होगी!
    सूचनार्थ!

    उत्तर देंहटाएं
  5. सुन्दरः)...आज की पीढ़ी की हिंग्लिश....

    उत्तर देंहटाएं
  6. आज 20/08/2012 को आपकी यह पोस्ट (दीप्ति शर्मा जी की प्रस्तुति मे ) http://nayi-purani-halchal.blogspot.com पर पर लिंक की गयी हैं.आपके सुझावों का स्वागत है .धन्यवाद!

    उत्तर देंहटाएं
  7. बहुत बढ़िया..
    पढ़ते ही चहरे पर स्माइल आ गई..
    :-) :-) :-) :-) :-)

    उत्तर देंहटाएं
  8. सुन्दर प्रस्तुति। मरे पोस्ट पर आपका आमंत्रण है। धन्यवाद।

    उत्तर देंहटाएं
  9. इट वाज रैनिंग झमाझम ।
    रोड पर आते थे जब हम ।
    लेग माई फिसलिंग गिर पड़े हम ।
    इसी वजह से कुड नॉट कम । ओपन दी विंडो ,लेट सम एतमोस्फीयर कम ,थोड़ा सा लेले दम बढ़िया हलकी फुलकी है ,हिंगलिश की एक झलकी है ..... .कृपया यहाँ भी पधारें -
    ram ram bhai
    सर्दी -जुकाम ,फ्ल्यू से बचाव के लिए भी काइरोप्रेक्टिक

    उत्तर देंहटाएं
  10. भाई बच्चों से तो भगवान भी हारते हैं.

    उत्तर देंहटाएं
  11. बहुत अच्छी प्रस्तुति। मेरे नए पोस्ट पर आपका स्वागत है। धन्यवाद।

    उत्तर देंहटाएं