रविवार, अगस्त 05, 2012

मित्र की एक परिभाषा.........


मित्रता दिवस पर मित्र की एक  परिभाषा 

F     FELLOW ( WHO)
R    READY 
I      IN 
E    EVERY 
N    NEED (AND) 
D    DEED


मित्रता दिवस की हार्दिक बधाई 


20 टिप्‍पणियां:

  1. शुक्रिया सुनील जी
    आपको भी बहुत बहुत शुभकामनाएं.....

    सादर
    अनु

    उत्तर देंहटाएं
  2. बहुत सही परिभाषा !
    शुभकामनाएँ !

    उत्तर देंहटाएं
  3. सच कहा है ... आपको भी दोस्ती दिवस मुबारक ...

    उत्तर देंहटाएं
  4. बहुत ख़ूब!
    आपकी यह ख़ूबसूरत प्रविष्टि कल दिनांक 06-08-2012 को सोमवारीय चर्चामंच-963 पर लिंक की जा रही है। सादर सूचनार्थ

    उत्तर देंहटाएं
  5. अच्छा अर्थ गर्भित विस्तार दिया है आपने हर अक्षर को ,लेटर को .

    उत्तर देंहटाएं
  6. अब अच्छे से समझ गए हम भी... हैप्पी फ्रेंडशिप डे

    उत्तर देंहटाएं
  7. सार्थक सटीक परिभाषा ,,,,,सारगर्भित प्रस्तुति ,,,

    RECENT POST...: जिन्दगी,,,,

    उत्तर देंहटाएं
  8. सटीक परिभाषा |

    फ्रेंड बड़ा सा शिप लिए, रहे सुरक्षित खेय |
    चलें नहीं पर शीप सा, यही ट्रेंड है गेय |
    यही ट्रेंड है गेय, बिलासी बुद्धि नाखुश |
    गलत राह पर जाय, लगाए रविकर अंकुश |
    दुःख सुख का नित साथ, संयमित स्नेही भाषा |
    एक जान दो देह, यही है फ्रेंड-पिपासा ||


    टाँय-टाँय फिस फ्रेड शिप, टैटेनिक दो टूक |
    अहम्-शिला से बर्फ की, टकराए हो चूक |
    टकराए हो चूक, हूक हिरदय में उठती |
    रह जाये गर मूक, सदा मन ही मन कुढती |
    इसीलिए हों रोज, सभी विषयों पर चर्चे |
    गलती अपनी खोज, गाँठ पड़ जाय अगरचे ||



    मित्र सेक्स विपरीत गर, रखो हमेशा ख्याल |
    बनों भेड़िया न कभी, नहीं बनो वह व्याल |
    नहीं बनो वह व्याल, जहर-जीवन का पी लो |
    हो अटूट विश्वास, मित्र बन जीवन जी लो |
    एक घरी का स्वार्थ, घरौंदा नहीं उजाड़ो |
    बृहन्नला बन पार्थ, वहां मौका मत ताड़ो ||

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. रविकर जी, आपने बहुत ही सारगर्भित व्याख्याएँ की हैं...आनंद आया.

      हटाएं
  9. वाह ... बहुत ही अच्‍छी प्रस्‍तुति।

    उत्तर देंहटाएं
  10. ......... मुझे नहीं लगता कि फ्रेंड शब्द निर्माण के समय ये सब सोचा गया होगा.
    फिर भी बहुत सुन्दर व्यख्या है : "हर जरूरत और कार्य में साथी के लिए तैयार"

    मित्र की दूसरी परिभाषा .....
    दो ..... दो (संख्या)
    स्त ..... स्तवन
    अर्थात .... जब कोई भी दो प्रशंसा को परस्पर झुक जाएँ .. 'दोस्त' होते हैं.
    इसी प्रकार परिभाषायें 'तीसरी' और चौथी भी हो सकती हैं.... 'सखा' और 'सहचर' के साथ भी मशक्कत करनी हगी.....सच में.... मज़ा आता है ऐसे अर्थ निकालने में.

    उत्तर देंहटाएं
  11. हैपी फ्रेंडशीप डे । मेरे पोस्ट पर आपका स्वागत है ।

    उत्तर देंहटाएं