सोमवार, फ़रवरी 28, 2011

गज़ल



कुछ तो करो तुम जिक्र, मेरे शहर का आज ,
माना कि तुमसे मेरा , अब कोई वास्ता नहीं |

   देख कर दीबार तुमने अपना रास्ता बदल लिया |
  सोचा कि तुमने आगे, अब  कोई रास्ता नहीं |

 अचानक मुझको देख कर क्यूँ  परेशान हो गए |
 दुनिया है कितनी छोटी, शायद तुमको पता नही |

 अपने मिलकर विछ्ड़ने का जो यह हादसा हुआ |
 ना कसूर था तुम्हारा, और इसमें मेरी भी ख़ता नहीं |

 टूटा ज़रूर हूँ मै, मगर बिखरा नहीं अभी तक  |
 किस चीज से बना हूँ, यह मुझको पता नहीं | 



34 टिप्‍पणियां:

  1. न बिखरने वाली चीज़ को ही तो जीवन कहते हैं।

    उत्तर देंहटाएं
  2. अचानक मुझको देख कर कयूं परेशान हो गए
    दुनिया है कितनी छोटी,शायद तुमको पता नहीं.

    बहुत बढ़िया.
    सलाम.

    उत्तर देंहटाएं
  3. ' बढ गई है बात तो अब कैसे किनारा कर लूं,
    किस तरह तौहीन इश्‍क की गवारां कर लूं। '

    अच्‍छी गजल।
    बधाई हो आपको।

    उत्तर देंहटाएं
  4. हर एक पंक्तियाँ लाजवाब लगी


    क्या सच में तुम हो???---मिथिलेश


    यूपी खबर

    न्यूज़ व्यूज तथा भारतीय लेखकों का मंच

    उत्तर देंहटाएं
  5. टूटने पर भी जो न बिखरे वो सही आदमी है. लेकिन कांच का दिल टूटे और बिखरे नहीं तो समझो किसी 'अपने' ने उसपर अबरख की चादर बिछा राखी है....बढ़िया..

    उत्तर देंहटाएं
  6. बहुत सुन्दर अभिव्यक्ति, दिल को छू कर निकल गई, आभार।

    उत्तर देंहटाएं
  7. हर शेर लाजवाब. टूटा जरूर हूँ मैं, बिखरा नहीं अभी तक, क्या बात है, बहुत खूब, सुंदर गज़ल.

    उत्तर देंहटाएं
  8. बाऊ जी,
    नमस्ते!
    आनंद!आनंद! आनंद!
    और आखिरी पंक्तियों के लिए: खड़े होके सैल्यूट!!!
    आशीष
    ---
    लम्हा!!!

    उत्तर देंहटाएं
  9. भावाभिव्यक्ति अच्छी है सुनील जी !

    उत्तर देंहटाएं
  10. टूटा जरूर हूँ मैं, बिखरा नहीं अभी तक....
    बेहतरीन रचना...

    उत्तर देंहटाएं
  11. बहुत गहरे भाव अभिव्यक्त किये हैं आपने .

    उत्तर देंहटाएं
  12. आपकू भी शिवरात्री की मंगल कामनाएं.शहर की यादें अच्छी अभिव्यक्ति हैं.

    उत्तर देंहटाएं
  13. टूटा जरूर हूँ मै लेकिन बिखरा नही----- लाजवाब हौसला। बहुत अच्छी लगी गज़ल। बधाई।

    उत्तर देंहटाएं
  14. गहरे भावों को खूबसूरती से व्यक्त करती एक उम्दा गजल!

    उत्तर देंहटाएं
  15. *कुछ तो करो तुम जिक्र, मेरे शहर का आज ,
    माना कि तुमसे मेरा , अब कोई वास्ता नहीं |


    सुन्दर अभिव्यक्ति,
    अच्‍छी गजल।

    उत्तर देंहटाएं
  16. सुन्दर रचना, बहुत गहरे भाव हैं आखिरी दो पंक्तियों में.. टूटा हूँ पर बिखरा नहीं...वाह

    उत्तर देंहटाएं
  17. aaj ke jivan ki sachchai ko aapne bahut aur behatar dhang se bhaut hi khoobsurati ke saath prastut kiya hai.lazwaab gazal.
    bahut hibehatreen prastuti
    poonam

    उत्तर देंहटाएं
  18. खुबसूरत भावनाओं से सजी खुबसुरत रचना |

    उत्तर देंहटाएं
  19. बहुत ही सुन्‍दर भावमय करते शब्‍द ।

    उत्तर देंहटाएं
  20. priya kumar ji ,
    sadar vandan ,
    mafi chahata hun ,der ke liye , aapke shabd chayan
    kavya shilp ne man ko chhu liya .sundar abhivyakti
    samvedana ke shwar sundar lage .aabhar

    उत्तर देंहटाएं