रविवार, फ़रवरी 20, 2011

अपना अपना भाग्य


क्यों मिला उसको ?  
सपनों का संसार ,
अपनों का प्यार |
क्यों मिला मुझको ?
सपनों का टूटना ,
अपनों का रूठना |
क्यों पाया उसने ?
द्रुत गति का कालचक्र 
क्यों मिलीं मुझे ? 
बंद घड़ी की सूइयां |
प्रश्न है अनेक ,
पर उत्तर है एक 
अपना अपना भाग्य !

40 टिप्‍पणियां:

  1. जी हाँ, भाग्य का अपना रोल है जीवन में परन्तु कर्म प्रधान है.

    उत्तर देंहटाएं
  2. जिन चीजों पर हमारा कोई नियंत्रण नहीं वही भाग्य ! और दुर्भाग्य से ऐसा बहुत कुछ होता है !! अपना जीवन खुद ही लिखकर बहुत कम लोग ही जीते होंगे । कहना ही पड़ता है भाग्यं फलती सर्वदा ! इसको अपना दास या दोस्त बनाकर जीने की कोशिश करना चाहिए हाँ इससे लड़ तो सकते नहीं ! बहुत अच्छी रचना है ...

    उत्तर देंहटाएं
  3. ye bhagye hi hai
    jivan mai jo hota hai
    har din naye aayam aana
    jingdi mai sab kuch badal jana
    sab bhagye hi hai
    sunder rachna

    उत्तर देंहटाएं
  4. कुंवर कुसुमेश से सहमत हूँ.

    उत्तर देंहटाएं
  5. आपकी रचनात्मक ,खूबसूरत और भावमयी
    प्रस्तुति भी कल के चर्चा मंच का आकर्षण बनी है
    कल (21-2-2011) के चर्चा मंच पर अपनी पोस्ट
    देखियेगा और अपने विचारों से चर्चामंच पर आकर
    अवगत कराइयेगा और हमारा हौसला बढाइयेगा।

    http://charchamanch.blogspot.com/

    उत्तर देंहटाएं
  6. भाग्य तो है ही मगर कर्म के बैगौर कुछ संभव नहीं....कुंवर जी और भूषन जी से सहमत...

    उत्तर देंहटाएं
  7. बहुत बढ़िया जो भाग्य में होता है वह होकर ही रहता है ..स्कूल में पढ़ी एक एकांकी याद आ गयी उसका शीर्षक भी' अपना अपना भाग्य' था बहुत ही मार्मिक कहानी थी, आज भी मानस पटल पर उभर आती है..... हार्दिक शुभकामना

    उत्तर देंहटाएं
  8. भाग्य और कर्म का संगम हो तभी कुछ मिल पाता है..सुन्दर प्रस्तुति..

    उत्तर देंहटाएं
  9. बिल्कुल सही ...समय से पहले और भाग्य से ज्यादा किसी को कुछ नहीं मिलता ....लेकिन कर्म किये बिना भी कुछ हासिल नहीं होता

    उत्तर देंहटाएं
  10. जो मिल जाता है वह अपना आकर्षण खो देता है,और कभी कुछ न मिलकर भी नई मंजिलों का पता बता जाता है, इसलिये हर हाल में खुश रहना ही सौभाग्य नहीं है क्या ?

    उत्तर देंहटाएं
  11. वाह! क्या बात है, सब भाग्य का ही तो खेल है!

    उत्तर देंहटाएं
  12. कहते हैं न तकदीर से ज्‍यादा और समय से पहले किसी को कुछ नहीं मिलता। यही तो जीवन है।
    जीवन दर्शन को प्रस्‍तुत करती पोस्‍ट। बधाइ हो आपको।

    उत्तर देंहटाएं
  13. सुनील जी!
    कभी किसी को मुकम्मिल जहाँ नहीं मिलता,
    कभी ज़मीं तो कभी आसमाँ नहीं मिलता.

    उत्तर देंहटाएं
  14. sunil ji, meri hausle ko pusht karne ka bahut bahut dhanyvad ..aapki kavita ke liye kahungi ki ..door ke dhol suhavane lagte hain ...har kisi ko koi n koi kami khatkati hai ....kavita achchi lagi...

    उत्तर देंहटाएं
  15. भाग्य अपनी जगह, कर्म अपनी जगह.
    किसी भी स्थिति में भाग्य के भरोसे तो नहीं बैठा जा सकता ।

    उत्तर देंहटाएं
  16. सही बात ...भाग्य की भूमिका को कौन नकार सकता है....

    उत्तर देंहटाएं
  17. बहुत बढ़िया अभिव्यक्ति.
    भाग्य ही से तो सब है.
    सलाम.

    उत्तर देंहटाएं
  18. EK SUCH !Jise aapne bahut km shabdon mai piroya hai,
    sunder prastuti.......

    उत्तर देंहटाएं
  19. sahi hai kintu bhagy aur karm sath-sath chalte hain .kabhi-kabhi kuchh aisa ghatit jaroor ho jata hai jisse admi bhagy ko kosne par vivash ho jata hai.

    उत्तर देंहटाएं
  20. बहुत ही उम्दा रचना , बधाई स्वीकार करें .

    आइये हमारे साथ उत्तरप्रदेश ब्लॉगर्स असोसिएसन पर और अपनी आवाज़ को बुलंद करें .कृपया फालोवर बनकर उत्साह वर्धन कीजिये

    उत्तर देंहटाएं
  21. भाग्य की भी अपनी एक महिमा है, बहुत शुभकामनाएं.

    रामराम.

    उत्तर देंहटाएं
  22. हम लोग सिर्फ कर्म ही कर सकते हैं , भाग्य तो विधाता के ही हाथ में है ।

    उत्तर देंहटाएं
  23. bahut sunder lagi rachna .......
    hamare paas jo nahi hai uska khed nahi karna chhiye jo hai uski khusiya manani chahiye.....

    उत्तर देंहटाएं
  24. आदरणीय सुनील कुमार जी
    सादर सस्नेहाभिवादन !

    आप बिल्कुल सच कहते हैं
    भाग्य साथ नहीं देता तो कर्म किए जाओ , किए जाओ … सकारात्मक परिणाम नहीं मिलते …

    लेकिन , असफलता की आशंका में कर्म करना छोड़ नहीं देना चाहिए ।
    साथ ही,औरों के भाग्य से अपने भाग्य की तुलना करने पर निराशा हाथ लगना तय है ।

    प्यारो न्यारो ये बसंत है !
    बसंत ॠतु की हार्दिक बधाई और शुभकामनाएं !
    - राजेन्द्र स्वर्णकार

    उत्तर देंहटाएं
  25. भाग्य तो है ही मगर कर्म के बैगौर कुछ संभव नहीं| धन्यवाद|

    उत्तर देंहटाएं
  26. भाग्य से खफा ?
    पर उसके सहारे लिखी सुन्दर रचना |

    उत्तर देंहटाएं
  27. जिसे हम कर्म मानते हैं ..वह भी भाग्य का परिणाम होता है .. नहीं तो कर्म करने वाले सभी एकसमान होते ...सुन्दर रचना ..

    उत्तर देंहटाएं
  28. सबका अपना भाग्य, कर्म का आराध्य।

    उत्तर देंहटाएं
  29. सच बात है भाग्य के बिना कुछ नही मिलता। शुभकामनायें।

    उत्तर देंहटाएं
  30. अपना अपना भाग्य....सत्य वचन
    regards

    उत्तर देंहटाएं
  31. बहुत सुंदर रचना
    कभी समय मिले तो http://shiva12877.blogspot.com ब्लॉग पर भी अपने एक नज़र डालें . धन्यवाद .

    उत्तर देंहटाएं
  32. कर्म से बनाया हुआ भाग्य सौभाग्य होता है !
    मगर भाग्य को एकदम से नकार भी नहीं सकते !
    सुन्दर रचना !

    उत्तर देंहटाएं
  33. बहुत ख़ूबसूरत पंक्तियाँ है सुनील जी , अपने से भी काफी मेल खाती है !

    अपना-अपना भाग्य ! कोई माने न माने मगर यही सत्य है, आखिरकार !

    उत्तर देंहटाएं