गुरुवार, फ़रवरी 03, 2011

क्या यही है हमारी पहचान



देखने में लगभग सात आठसाल का एक बच्चा फटे पुराने कपड़े 
या उन्हें चीथड़ा कहें आपने शरीर पर लपेटे हुए एक किराना शाप 
के सामने बैठा हुआ था | जैसे वह दुकान की सीड़ियाँ चढ़ने की 
कोशिश करता तभी दुकानदार दुत्कार कर भगा देता | वह  दो तीन 
बार प्रयास कर चुका था हर बार दुकानदार की गलियों में अभद्रता 
बढती जाती थी | वह चिल्लाकर कह रहा था कहाँ से चले आते है 
सवेरे सवेरे भीख मांगने वाले , दुकान खुली नहीं की सिर पर सवार हो 
गए | इस बार उसने अपनी  मुठ्ठी में दबे दस के नोट को आगे कर 
कहा " टॉफी लेनी है "  दुकानदार ने आपने स्वर में मधुरता लाते हुए कहा 
अन्दर आकर बताओ कौन सी टॉफी ?

38 टिप्‍पणियां:

  1. हमें स्वार्थ के सिवा और नजर भी क्या आता है ...बहुत विचारणीय ...आपका शुक्रिया

    उत्तर देंहटाएं
  2. hamse pehchan karne mein hamesha hi bhool hoti hai ''''yahi to hamari bhool hai;;;;;;;;;;;;;

    उत्तर देंहटाएं
  3. भौतिकता में मानवीय संवेदना लुप्त हो रही है।

    उत्तर देंहटाएं
  4. आज यही पासपोर्ट बन गया है, इज़्ज़त पाने का!!

    उत्तर देंहटाएं
  5. दोहरे व्यक्तित्व हर जगह मिल जायेंगे। आभार।

    उत्तर देंहटाएं
  6. यही है आज का युग जहाँ स्वार्थ ही सब कुछ है.

    उत्तर देंहटाएं
  7. दोगले व्यक्तित्व में जीता है हमारा समाज ...
    अच्छा व्यंग है ....

    उत्तर देंहटाएं
  8. बाहरी दिखावा ही बन गया है आज के व्यक्ति की पहचान..सटीक व्यंग

    उत्तर देंहटाएं
  9. दुनिया में सिर्फ स्वार्थ रह गया है .. यहाँ मानवता की उम्मीद ...... बेकार है
    सच्चा चित्रण

    उत्तर देंहटाएं
  10. हमें चिथडों में लिपटा भारत का नागरिक नज़र नहीं आता. हाँ मुट्ठी में रखे नोट को हम पहचानते हैं.

    उत्तर देंहटाएं
  11. आदरणीय सुनील जी
    यांत्रिक गड़बड़ी के कारण जो आपको असुविधा हुई उसके लिए क्षमाप्रार्थी हुॅ। मैने उस रचना को दोबारा पोस्ट किया है। आपके आगमन का इंतजार है। अब आपकी रचना पर आता हुॅ।
    मेरे ख्याल से अब दुनिया में भगवान की पुजा को छोड़ कर पैसे की ही पुजा करनी चाहिए। क्योंकि आज के समय मे किसी से भी पुछो कि आज सबसे ज्यादा मुल्यवान वस्तु कौन सी है तो शायद ही किसी अलग चीज का नाम बताए।

    उत्तर देंहटाएं
  12. कडवी सच्‍चाई। आज के दौर में इंसानों की कोई कीमत नहीं रह गई, रह गई है तो पैसे की कीमत। कम शब्‍दों में आपकी रचना ने सोचने पर मजबूर कर दिया मौजूदा हालात को। आपने जो लिखा वह महत लघुकथा नहीं है, सच्‍चाई है इस दुनिया की।

    उत्तर देंहटाएं
  13. हाँ ....ऐसा ही होता है ..जब मानवता मर जाती है ..पैसा ही सबकुछ हो जाता है ...

    उत्तर देंहटाएं
  14. भाई सुनील जी!
    बाजारूपन जहाँ पहुँच जाता है मानवता वहाँ कलंकित होती है। मर्मस्पर्शी लघुकथा। सहज,सटीक एवं प्रभावशाली लेखन के लिए बधाई! कृपया बसंत पर एक दोहा पढ़िए......
    ==============================
    शहरीपन ज्यों-ज्यों बढ़ा, हुआ वनों का अंत।
    गमलों में बैठा मिला, सिकुड़ा हुआ बसंत॥
    सद्भावी - डॉ० डंडा लखनवी

    उत्तर देंहटाएं
  15. संवेदनहीनता का बढ़िया उदहारण !

    उत्तर देंहटाएं
  16. aaj ke samay ke liye ek dum sateek rachna...ham sab aise hi hain........!!

    samaj ka sach!

    उत्तर देंहटाएं
  17. सुनील जी,
    लघु कथा के माद्यम से दुनियाँ की सच्ची तस्वीर पेश करने का आपका अंदाज़ अच्छा लगा

    उत्तर देंहटाएं
  18. स्वार्थपरता और संवेदनहीनता ने मनुष्य को मनुष्यता से बहुत दूर कर दिया है ...
    अच्छी लघु कथा

    उत्तर देंहटाएं
  19. Sunil ji..Ab kya kiya jaaye......? Swarth ...Swarth....Swarth. Bas har jagah Swarth.......Swarth..Swarth...Aur sirf Swarth.

    Chunki abhi bhi kuch Achhe log hain ...isilie umeed karni chaahiye ki ek din sab theek ho jayegaa.

    उत्तर देंहटाएं
  20. अब बच्चा भी सीख जाएगा धीरे धीरे यही दुनियादारी :)

    उत्तर देंहटाएं
  21. सुनील जी बहुत ही सटीक बात कम शब्दों में, आज ज्यादा पड़ने का समय कहा है, हायकू ही ठीक है बधाई

    उत्तर देंहटाएं
  22. समाज का दोगलापन.हम भी तो इसी का हिस्सा हैं.

    पर सच तो लिखा है आपने.बधाई.

    उत्तर देंहटाएं
  23. आजकल के परिवेश पर सटीक अभिव्यक्ति. आभार.
    सादर,
    डोरोथी.

    उत्तर देंहटाएं
  24. बहुत ही सटीक लिया है आपने, आशा है की आप ब्लॉग पर समय समय पर पधारकर मार्गदर्शन देंगे.

    अरविन्द जांगिड,
    सीकर,
    राज.
    कनिष्ठ लिपिक

    उत्तर देंहटाएं
  25. सुनील कुमार जी ,आपके ब्लोक पर पहली बार आई हु --माता -पिता की तस्वीर देखकर मेरा दिल बहुत खुश हुआ --जो इन्सान माँ -बाप की इतनी इज्जत करता हे --वो यकीनन शानदार हे --अपना फ़्लोअर(दोस्त ) बनाना चाहुगी --धन्यवाद !

    उत्तर देंहटाएं
  26. भाई सुनील जी बसंत पर आपको हार्दिक शुभकामनायें |

    उत्तर देंहटाएं
  27. आपको वसंत पंचमी की ढेरों शुभकामनाएं!
    सादर,
    डोरोथी.

    उत्तर देंहटाएं
  28. आदरणीय सुनील जी
    आज के दौर में इंसानों की कोई कीमत नहीं रह गई
    संवेदनहीनता का बढ़िया उदहारण !

    उत्तर देंहटाएं