सोमवार, दिसंबर 13, 2010

शहीदों को सलाम !



लीजिये आज एक मौका फिर मिल गया हमारे महान नेताओं को 
शहीदों के नाम पर ...............(शब्द अपने आप लगा लीजिये) आँसू 
बहाने का | आज संसद पर हमले की नौवी बरसी है जिसमें देश के नौ
जवान शहीद हुए थे वैसे इन नेताओं की सोच और मानसिकता एक आम आदमी 
की समझ से परे ही लगती है| आखिर यह चाहते क्या है ? 
कभी यह बुलेटप्रूफ जाकिट का मुद्दा उठाते है कभी यह किसी की शहादत 
को सवालों के घेरे में खड़ा कर देते है , कारगिल युद्ध के समय ताबूत में 
कमीशन का मुद्दा खैर छोडिये कहाँ तक गिनाये .................
मग़र शहीदों  श्रद्धांजली  देने में पीछे नहीं रहते है |एक रचना के माध्यम से देखिये |

         ताबूत कांड 


शहीदों की चिताओं पर मेले हम लगाते है |
और उनकी वीरता के गीत भी सुनाते है 
ऐसी श्रद्धांजली मैंने कहीं देखी नहीं ,
जिसमें ताबूतों की भी पैसे खाये जाते है |


      एक प्रार्थना 


 आज मेरे इन शहीदों पर , 
एक अहसान आप कीजिये |
यदि मान नहीं दे सकते 
तो अपमान मत कीजिये |


       चेतावनी 


यदि शहीदों के बच्चे भूखे प्यासे सोते है 
बूढी माँ के आँचल को  आँसू ही भिगोते है
शहीदों की विधवाए  यदि दर दर भटकेंगी |
तो फिर देश की सीमाये भी सैनिकों को तरसेंगी |
   

43 टिप्‍पणियां:

  1. सुनिल जी किस किस की तारीफ करू। बहुत सुन्दर। और हमारे नेताओं की बात ही मत किजिए। ये सारे काम डेली रूटीन समझ कर करते है। अरे ये लोग नौ साल में एक आरोपी को सजा नही दे सके तो और क्या करेगें।

    उत्तर देंहटाएं
  2. बहुत मर्मस्पर्शी...शहीदों की शहादत पर भी राजनीति करना आज के नेताओं का पेशा है...आभार

    उत्तर देंहटाएं
  3. आपकी तीनों लघु कविताएँ देश के वर्तमान चिंतनीय परिदृष्य को बहुत खुबसूरती से रेखांकित कर रही हैं । आभार...

    उत्तर देंहटाएं
  4. amar shahidon ko vinamr shraddhanjali.
    shahadat par rajneeti to karte hi hain ye desh ke dushman.
    apke bhav ko desh samjhe,desh ke tathakathit netagan samjhen..yahi shubhkamna hai.

    उत्तर देंहटाएं
  5. क्षणिकाओं में गहन बात ...नेताओं की बातों से शर्मसार हो जाते हैं ...

    शहीदों को नमन

    उत्तर देंहटाएं
  6. सभी लघु कथाएं बेहद सुन्दर और शानदार है! उम्दा प्रस्तुती!

    उत्तर देंहटाएं
  7. सुनील जी इससे बेहतर तो कुछ हो ही नही सकता…………व्यंग्य और दुख का सम्मिलित चित्रण हैं ये क्षणिकायें………………सभी सच दर्शाती हुयी।

    उत्तर देंहटाएं
  8. शहीदों को नमन
    आपकी पोस्ट ने मुझे मेरी पुरानी पोस्ट याद दिला दी.

    जहाँ की खुशबू,हवा और जुबाँ से हम महकते हैं
    जिसकी हिफाज़त को हम धरम ईमान कहते हैं
    सीने में जहाँ शहीद होने के अरमान रहते हैं
    जिसके नाम पे हम, आज भी नाज़ करते हैं
    उसी को शहीद का वतन कहते हैं !


    पिता की आँखों मे जहाँ आंसू न बसते हैं
    माँ की दवाई को पैसे न बचते हैं
    पेंन्शन को दौड़ दौड़, मेरी बेवा के पांव न थकते हैं
    खाने को कभी जहाँ पकवान न पकते हैं
    हाँ! उसी को मेरी जाँ शहीद का वतन कहते हैं


    ताबूत से जहाँ मेरे पैसे छनकते हैं
    बेवा की पेंन्शन से प्याले छलकते हैं
    न करो घर से बेघर, बीबी बच्चे कगरते हैं
    घर वाले जहाँ जी जी के मेरे रोज मरते हैं
    उसी को शहीद का वतन कहते हैं

    उत्तर देंहटाएं
  9. रचना दीक्षित जी नमस्कार , आपकी रचना तो अतिसंवेदनशील है और बहुत अच्छी लगी आपकी रचना के लिए धन्यवाद

    उत्तर देंहटाएं
  10. देश ने सच भुला दिया है शहीदोँ को । उन्हेँ नमन।
    .
    .
    मेरे ब्लाग पर " हम सबके नाम एक शहीद की कविता "

    उत्तर देंहटाएं
  11. सुनील जी.....आपने तीन क्षणिकाओं के माध्यम से जो बाते सामने रक्खी हैं उनमें व्यक्त आपकी भावनाओं से मैं पूरी तरह सहमत हूँ.
    सार्थक व् समसामयिक मुद्दे पर लिखने के लिए आपको आभार. मेरे ब्लॉग पर आने के लिए आपको धन्यवाद.

    उत्तर देंहटाएं
  12. चर्चा मंच के साप्ताहिक काव्य मंच पर आपकी रचना कल मंगलवार 14 -12 -2010
    को ली गयी है ..नीचे दिए लिंक पर कृपया अपनी प्रतिक्रिया दे कर अपने सुझावों से अवगत कराएँ ...शुक्रिया ..


    http://charchamanch.uchcharan.com/

    उत्तर देंहटाएं
  13. .

    अंतरात्मा को मथ देने वाली इस बेहतरीन प्रस्तुति के लिए आभार।
    शहीदों को नमन !

    .

    उत्तर देंहटाएं
  14. सुनील जी!
    आज जब आदर्श सोसाइटी कांड देखता हूँ तो लगता है कि अगर यही हाल रहा हमारी वीरों के प्रति श्रद्धा का तो बहुत जल्द यह धरती वीरों से खाली हो जाएगी..
    आपके तीनों मुक्तक नमन योग्य हैं, इनकी प्रशंसा करना भी औपचारिकता सा होगा!

    उत्तर देंहटाएं
  15. बिल्कुल ज़रूरत है कि इस चेतावनी पर ध्यान दिया जाए

    उत्तर देंहटाएं
  16. बहुत ही सुंदर अभिव्यक्ति.........मेरा ब्लाग"काव्य कल्पना" at http://satyamshivam95.blogspot.com/ जिस पर हर गुरुवार को रचना प्रकाशित साथ ही मेरी कविता हर सोमवार और शुक्रवार "हिन्दी साहित्य मंच" at www.hindisahityamanch.com पर प्रकाशित..........आप आये और मेरा मार्गदर्शन करे..धन्यवाद

    उत्तर देंहटाएं
  17. क्षणिकाओं के माध्यम से अच्छी चेतावनी। शहीदों को हमारा भी नमन।

    उत्तर देंहटाएं
  18. शहीदों को नमन ....
    आपके मनोभाव चिंतनीय हैं ....
    शहीदों की शहादत पर भी राजनीति शर्मनाक है ....

    उत्तर देंहटाएं
  19. चिंतन-मनन के लिए प्रेरित करने वाली रचनाएं प्रस्तुत की है आपने।

    वीर शहीदों को नमन।

    उत्तर देंहटाएं
  20. इस टिप्पणी को एक ब्लॉग व्यवस्थापक द्वारा हटा दिया गया है.

    उत्तर देंहटाएं
  21. शहीदों को समर्पित आपकी तीनों कविताओं बेहतरीन हैं.नेताओं पर व्यंग भी ज़ोरदार किया है आपने.

    उत्तर देंहटाएं
  22. दिल की गहराई से कही गई और दिलों की गहराइयों में
    पैठ करने वाली "शहीदी " कविता के लिये मुबारकबाद।

    उत्तर देंहटाएं
  23. सत्य कहा आपने...

    उद्वेलित करती एक सार्थक रचना...

    उत्तर देंहटाएं
  24. sunil bhai ji
    desh ke sachche saputo ko koti koti naman.
    aur aapko itni sundar avam lazwab tarike se sahi baat ko kahne ke liye vo bhi itni behatreen xhnikaon ke sath,bahut bahut badhai.
    poonam

    उत्तर देंहटाएं
  25. शहीदों कि विधवाएं यदि डर-डर भटकेंगी,

    तो देश की सीमायें सैनिकों को तरसेंगी.

    बिलकुल सही कहा आपने,शहादत का गर ये अंजाम होगा तो कौन बेटा,कौन पति देश पर कुर्बान होगा....

    उत्तर देंहटाएं
  26. sahi mayene me apki marmsprshi ksahanikaye un shahido ke liye shradhanjai hai sunil ji.......bahut achhi lagi....

    उत्तर देंहटाएं
  27. आपकी सार्थक कवितायें शहीदों को श्रधांजलि और वयवस्था पर करारा प्रहार है.

    उत्तर देंहटाएं
  28. आपकी चेतावनी को बा आवाजे बुलंद दोहराने का मन कर रहा है।

    हार्दिक बधाई, इस सोच को नमन।

    ---------
    प्रेत साधने वाले।
    रेसट्रेक मेमोरी रखना चाहेंगे क्‍या?

    उत्तर देंहटाएं
  29. आदरणीय सुनील कुमार जी
    नमस्कार !
    आपकी भावनाएं स्तुत्य हैं …
    काश ! आपकी भावनाओं का एक प्रतिशत भी बेशर्म नेताओं के पास होता … … …
    रचना दीक्षित जी की रचना और उसमें निहित भाव वंदनीय हैं । उन्हें भी बहुत बधाई और आभार !

    शुभकामनाओं सहित
    - राजेन्द्र स्वर्णकार

    उत्तर देंहटाएं
  30. शिवांगी और आरुषि की बनाई कृतियां बहुत सुंदर है… दोनों को मेरा स्नेह और आशीर्वाद !


    शुभकामनाओं सहित
    - राजेन्द्र स्वर्णकार

    उत्तर देंहटाएं
  31. सुनील जी,
    आपने दुखती रग पर उंगली रख दी,
    "शहीदों की चिताओं पर मेले हम लगाते हैं ,
    और उनकी वीरता के गीत हम सुनाते हैं
    ऐसी श्रधांजलि मैंने कहीं नहीं देखी,
    जिसमें ताबूतों के भी पैसे खाए जाते हैं !"
    सारे मुक्तक अच्छे बन पड़े हैं और यथार्थ को दर्शाते हैं !
    साभार,
    -ज्ञानचंद मर्मज्ञ

    उत्तर देंहटाएं
  32. 3/10

    रचना बेहद कमजोर है
    लेकिन भीतर के भाव संवेदनशीलता प्रभावित करती है
    आभार

    उत्तर देंहटाएं
  33. सामने देश माता का भव्य चरण है
    जिह्वा पर जलता हुआ एक बस प्रण है
    काटेंगे अरि का मुंड या स्वयं कटेंगे
    पीछे परन्तु इस रन से नहीं हटेंगे
    पहली आहुति है अभी यज्ञ चलने दो
    दो हवा देश को आग जरा जलने दो
    जब ह्रदय,ह्रदय पावक से भर जायेगा
    भारत का पूरा पाप उतर जायेगा
    देखोगे कैसे प्रलय चंड होता है
    असिवंत हिंद कितना प्रचंड होता हुई
    बाँहों से हम अम्बुधि अगाध थाहेंगे
    धस जाएगी यह धरा अगर चाहेंगे
    तूफ़ान हमारे इंगित पर ठहरेगा
    हम जहाँ कहेंगे मेघ वही घरेगा

    उत्तर देंहटाएं
  34. Hello sir,

    Sach Aap kitna sundar likhtein hain, Mujhe aapke lekhon se bahut adhik prerna mili.

    उत्तर देंहटाएं