गुरुवार, दिसंबर 09, 2010

इसे मै क्या कहूँ ?



हम रास्ते में जिन्हें
पत्थर समझ कर छोड़ आये थे |
वह आज  मंदिरों में
भगवान बने बैठे है |


 अब कोई मेरे दुश्मन की
 आज तक़दीर तो देखे ,
वह मेरे घर का मालिक
और हम उसके दरवान बने बैठे |


बचपन में करबट बदलने पर
जो खोल देती थी आँखें अपनी ,
आज उसके कराहने पर भी
हम अपनी आँखें मूंदें बैठे |


और बचपन में जो हमारी
तोतली जुबान की सारी बाते जान लेती थी |
आज एक हम है जो उसकी 
 पोपली जुबान से  अनजान बने बैठे |





38 टिप्‍पणियां:

  1. आपने तो सुन्दर लिखा..बधाई.

    'पाखी की दुनिया' में भी आपका स्वागत है.

    उत्तर देंहटाएं
  2. यह दुनिया बिडम्बनाओं की दुनिया है

    उत्तर देंहटाएं
  3. कोई मेरे दुशम्न----
    और बचपम मे -----
    बहुत अच्छी पँक्तियाँ हैं जीवन के सच को दर्शाती। बधाई इस सुन्दर अभिव्यक्ति के लिये।

    उत्तर देंहटाएं
  4. बहुत कुछ सोचने पर मजबुर करती है ये रचना। आपका धन्यवाद।

    उत्तर देंहटाएं
  5. सुनील जी! पतानोन्मुख मूल्यों को उद्घाटित करती कविता!

    उत्तर देंहटाएं
  6. और बचपन में जो हमारी
    तोतली जुबान की सारी बाते जान लेती थी |
    आज एक हम है जो उसकी
    पोपली जुबान से अनजान बने बैठे |

    यही है जीवन का कटु सत्य...बहुत सुन्दर अभिव्यक्ति..आभार

    उत्तर देंहटाएं
  7. मार्मिक किन्तु सत्य और क्या कहूँ

    उत्तर देंहटाएं
  8. 4.5/10

    साधारण प्रस्तुति है
    रचना में आज का कटु-यथार्थ दिखता है.

    उत्तर देंहटाएं
  9. और बचपन में जो हमारी
    तोतली जुबान की सारी बाते जान लेती थी |
    आज एक हम है जो उसकी
    पोपली जुबान से अनजान बने बैठे |
    Bahut Sunder ...... kmaal ki panktiyan hain....

    उत्तर देंहटाएं
  10. और बचपन में जो हमारी
    तोतली जुबान की सारी बाते जान लेती थी |
    आज एक हम है जो उसकी
    पोपली जुबान से अनजान बने बैठे

    बहुत संवेदनशील रचना ..

    उत्तर देंहटाएं
  11. बचपन में करबट बदलने पर
    जो खोल देती थी आँखें अपनी ,
    आज उसके कराहने पर भी
    हम अपनी आँखें मूंदें बैठे |
    xxxxxxxxxxxxx
    एकदम गहरे भाव लिए पंक्तियाँ ...शुक्रिया

    उत्तर देंहटाएं
  12. इस टिप्पणी को लेखक द्वारा हटा दिया गया है.

    उत्तर देंहटाएं
  13. समय का फेर होता हैँ । जालिम जमाने के क्या कहने। सुन्दर भावनात्मक प्रस्तुति ।

    उत्तर देंहटाएं
  14. aapka blog mere gaanw ki yaad dilata hai.........
    bahut hi sunder kavita...

    उत्तर देंहटाएं
  15. श्री कैलाश सी. शर्माजी से पूरी तरह सहमत...

    उत्तर देंहटाएं
  16. नजराना पर मेरी नई पोस्ट "भ्रष्टाचार पर सशक्त प्रहार" पर आपके सार्थक विचारों की प्रतिक्षा है-
    www.najariya.blogspot.com

    उत्तर देंहटाएं
  17. बचपन में करबट बदलने पर
    जो खोल देती थी आँखें अपनी
    आज उसके कराहने पर भी
    हम अपनी आँखें मूंदें बैठे

    वाह सुनील जी, वाह...

    बहुत ही भावमयी रचना लिखी है आपने..
    ...बहुत खूब।

    उत्तर देंहटाएं
  18. Bada dard samete hue hai ye rachana...zindagee kee kadvi sachhayi!

    उत्तर देंहटाएं
  19. दुखद। किन्तु कटु सत्य । शायद ऐसा ही होता है।

    उत्तर देंहटाएं
  20. आपकी यह रचना कल के ( 11-12-2010 ) चर्चा मंच पर है .. कृपया अपनी अमूल्य राय से अवगत कराएँ ...

    http://charchamanch.uchcharan.com
    .

    उत्तर देंहटाएं
  21. आपकी रचना ने झकझोर दिया कुछ कहने लायक नही छोडा…………आज का कटु सत्य्।

    उत्तर देंहटाएं
  22. बचपन में करबट बदलने पर
    जो खोल देती थी आँखें अपनी ,
    आज उसके कराहने पर भी
    हम अपनी आँखें मूंदें बैठे |


    और बचपन में जो हमारी
    तोतली जुबान की सारी बाते जान लेती थी |
    आज एक हम है जो उसकी
    पोपली जुबान से अनजान बने बैठे |

    बहुत ही मर्मस्पर्शी प्रसंग को आपने शब्दों में उतारा है। समय की यह विडम्बना है कि हमको तभी जाकर उनकी भावनाओं की, कष्टों की अनुभूति होती है, जब हम भी जीवन के उस सोपान पर आसीन होते हैं।
    आपके पुत्रियों द्वारा बनाये चित्र बहुत सुन्दर हैं। दोनों चित्र दो विभिन्न भौगोलिक स्थितियों को एवम् जीवन-पद्धतियों को व्यक्त करने हैं। उनमें निहित सृजनशीलता को प्रो्त्साहित कीजिये।

    उत्तर देंहटाएं
  23. वक्त वक्त की बात है ! सचमुच मां का कर्ज़ नहीं चुकाया जा सकता ! सुन्दर रचना ! मेरे ब्लोग पर भी आएं व फ़ोलो करें ! मैं आपको फ़ोलो किए देता हूं !

    उत्तर देंहटाएं
  24. बहुत अच्‍छी रचना। जमाने की सच्‍चाई छिपी है,बस और कुछ नहीं कह सकता, क्‍योंकि मुझे वो पोपली जुबान नसीब ही नहीं हुई क्‍योंकि वो मुझे तोतली जुबान के दौर में ही दुनिया में अकेला छोड कर चली गई थी।

    उत्तर देंहटाएं
  25. सुनील जी, इसी महीने हैदराबाद आने का कार्यक्रम बन रहा है। यद‍ि आया तो आपसे प्रत्‍यक्ष् मुलाकात करूंगा।

    उत्तर देंहटाएं
  26. इस टिप्पणी को लेखक द्वारा हटा दिया गया है.

    उत्तर देंहटाएं
  27. पहली बार आया हूं। बहुत अच्छी रचना।

    उत्तर देंहटाएं
  28. aek kdvaa sch jisse sbhi trst he mubark ho bhaaijaan. akhtar khan akela kota rajsthan

    उत्तर देंहटाएं
  29. Bahut hi goodh aur mananiiy post, baar-baar padhne ko mn karta hai..bahut aabhar is post ke liye..shabdon ka chyan jordar hai apne daayitwon ko kushalataa se nibha rahe hain. kathy to lagbhag sabhi achhe hote hai parantu jb shbd wahi baate sampreshit kare jo kavi ka bhaaw hai to kaavy saundarya khil uthtaa hai....wahi saundary aapke kaay ki sugandhi chaturdik bikher raha hai....

    उत्तर देंहटाएं