सोमवार, अप्रैल 16, 2012

मैन इज सोशल ए एनीमल.....

मैन इज सोशल ए एनीमल यह पंक्तियाँ आजकल मुझे अक्सर याद आतीं हैं और किसी  
हद तक बहुत सार्थक प्रतीत होती हैं इसकी एक छोटी से बानगी यहाँ देखिये ।


पहले हम कुत्ते की तरह भौंकतें हैं ।
जब कोई शेर की तरह दहाड़ता है 
हम भींगी बिल्ली बन जाते हैं ।
और चूहे की तरह अपने बिल में घुस जातें हैं ।
शायद इसीलिए हम सामाजिक प्राणी कहलाते हैं ।


दूसरों के धन पर गिद्ध द्रष्टि डालते हैं 
अपने धन पर साँप की तरह कुंडली मार कर बैठते हैं
लोमड़ी की तरह चालाकी करके दूसरों के धन को 
मौका पाते ही हम अजगर की तरह निगल जाते हैं
शायद इसीलिए हम सामाजिक प्राणी कहलाते हैं ।



29 टिप्‍पणियां:

  1. बहुत सुन्दर

    बिलकुल यही कारण है ।

    उत्तर देंहटाएं
  2. रंगा सियार है आदमी.............
    गिरगिट की तरह रंग बदलता है आदमी....................

    बढ़िया रचना सर

    उत्तर देंहटाएं
  3. बहुत बढ़िया...इतने सारे जानवरों के गुण हैं आदमी के पासः)

    उत्तर देंहटाएं
  4. प्राणियों जैसी आदतें बना ली हैं हमने अपनी।

    उत्तर देंहटाएं
  5. मैन इज सोशल ए एनीमल.....
    जी हाँ यही सच है

    उत्तर देंहटाएं
  6. इन्हीं वृत्तियों के कारण,हम बस प्राणी मात्र रह गए हैं,सामाजिकता लुप्त होती जा रही है।

    उत्तर देंहटाएं
  7. सोशल एनिमल की परिभाषा और मतलब अब समझ में आने लगा है.

    उत्तर देंहटाएं
  8. क्या बात है! आपने इस सामाजिक प्राणी की खूबियों को इस काव्य में बहुत अच्छी तरह समेटा है।

    उत्तर देंहटाएं
  9. आपकी इस प्रविष्टी की चर्चा आज के चर्चा मंच पर की गई है।
    चर्चा में शामिल होकर इसमें शामिल पोस्ट पर नजर डालें और इस मंच को समृद्ध बनाएं....
    आपकी एक टिप्‍पणी मंच में शामिल पोस्ट्स को आकर्षण प्रदान करेगी......

    उत्तर देंहटाएं
  10. बहुत सुन्दर प्रस्तुति वाह!

    उत्तर देंहटाएं
  11. जानवर भी आज के इंसान से बेहतर हैं.सुन्दर.

    उत्तर देंहटाएं
  12. लाजवाब शानदार उम्दा प्रस्तुति

    उत्तर देंहटाएं
  13. हंस की तरह विवेकी हैं, तितली की तरह फूलों के दीवाने हैं, चींटी की तरह बचत करने वाले हैं...

    उत्तर देंहटाएं
  14. हा हा हा..सामाजिक प्राणी को खूब आईना दिखाया आपने।

    उत्तर देंहटाएं
  15. विचारणीय बात.....ज़बरदस्त व्यंगात्मक पंक्तियाँ

    उत्तर देंहटाएं
  16. सच कब हम जानवर बन जाते हैं पता ही नहीं चलता....सेर को सवा सेर मिलता है तो शिकायत करता है..

    उत्तर देंहटाएं
  17. बहुत सटीक और सुन्दर प्रस्तुति....

    उत्तर देंहटाएं