गुरुवार, अप्रैल 14, 2011

माँ की दुआओं का असर


वह सफ़ीना जो तूफ़ानों को,
शिकस्त दे कर लौट  आया होगा |
देख कर हिम्मत उसकी, 
साहिल ने उसको  गले से  लगाया होगा |


डूबते देख कर किसी को,
यूँही नहीं साहिल उसके पास आया  होगा|
ज़रूर  इस  वाकिये में कुछ तो,
उसकी माँ की दुआओं का हाथ रहा होगा | 




33 टिप्‍पणियां:

  1. माँ को समर्पित यह पोस्ट पढ़कर खुशी हुई।

    उत्तर देंहटाएं
  2. maa ki dooa se hi vapis aaya hoga '''''''''''
    sunder rachna

    उत्तर देंहटाएं
  3. मुन्नवर राणा की यह गज़ल कविता कोश में है। अच्छा होता यदि शायर का नाम भी दिया जाता॥

    उत्तर देंहटाएं
  4. वह सफ़ीना जो तूफ़ानों को, शिकस्त दे कर लौट आया होगा |
    देख कर हिम्मत उसकी, साहिल ने उसको गले से लगाया होगा |

    बहुत सुंदर चित्रण . ...

    उत्तर देंहटाएं
  5. बहुत सुन्दर ..माँ कि दुआओं में सच ही असर होता है

    उत्तर देंहटाएं
  6. निश्चय ही हर दुःख में ईश्वर से पहले माँ ही याद आती है.

    उत्तर देंहटाएं
  7. आदरणीय श्री प्रसाद जी आपकी टिपण्णी के सन्दर्भ में मुनब्बर राणा साहेब की गजल का यह शेर है | हाँ आप यह जरुर कह सकते है की उनकी जमीन का इस्तेमाल किया गया है| हो सके तो वह गजल इ मेल कर दीजिये धन्यवाद |आशा करता हूँ की आप इसे अन्यथा नहीं लेंगे

    जब भी कश्ती मेरी सैलाब में आ जाती है
    माँ दुआ करती हुई ख़्वाब में आ जाती है|

    उत्तर देंहटाएं
  8. बहुत खूब...माँ की दुआएं हर वक़्त साथ होती हैं.. सुन्दर रचना..

    उत्तर देंहटाएं
  9. जरूर ...निःसंदेह ..माँ की दुआ से बढ़कर क्या ?

    उत्तर देंहटाएं
  10. आप यह जरुर कह सकते है की उनकी जमीन का इस्तेमाल किया गया है|'
    आपने सही कहा है... उसी ज़मीन से उगी आपकी कविता के लिए बधाई॥

    --
    चंद्र मौलेश्वर
    cmpershad.blogspot.com

    उत्तर देंहटाएं
  11. बिल्‍कुल सच कहा है इन पंक्तियों में ... ।

    उत्तर देंहटाएं
  12. आपकी उम्दा प्रस्तुति कल शनिवार (16.04.2011) को "चर्चा मंच" पर प्रस्तुत की गयी है।आप आये और आकर अपने विचारों से हमे अवगत कराये......"ॐ साई राम" at http://charchamanch.blogspot.com/
    चर्चाकार:Er. सत्यम शिवम (शनिवासरीय चर्चा)

    उत्तर देंहटाएं
  13. वह सफ़ीना जो तूफ़ानों को,
    शिकस्त दे कर लौट आया होगा |
    देख कर हिम्मत उसकी,
    साहिल ने उसको गले से लगाया होगा |
    भाई सुनील जी बहुत सुंदर कविता बधाई |

    उत्तर देंहटाएं
  14. माँ की दुआ और पिता का आशीर्वाद जीवन में कितनी रक्षा कर सकतें यह वही जान सकता है जिसने माँ बाप की सेवा की हो और उनकी दुआएं और आशीर्वाद पाया हों.
    आपका मेरेब्लोग पर आने का बहुत बहुत आभार.

    उत्तर देंहटाएं
  15. माँ बाप कि दुआएं ही जीवन में तरक्की कि राह दिखाती है और जीवन भर साथ रहती है. सुंदर भावनाओं से परिपूर्ण रचना.

    उत्तर देंहटाएं
  16. माँ की दुआओं के बिना तो एक सांस भी संभव नहीं.

    उत्तर देंहटाएं
  17. माँ...पूर्णता का दूसरा नाम है. बहुत खूब.

    उत्तर देंहटाएं
  18. बहुत ही सुंदर

    *********************

    "सुगना फाऊंडेशन जोधपुर" "हिंदी ब्लॉगर्स फ़ोरम" "ब्लॉग की ख़बरें" और"आज का आगरा" ब्लॉग की तरफ से सभी मित्रो और पाठको को " "भगवान महावीर जयन्ति"" की बहुत बहुत शुभकामनाये !

    सवाई सिंह राजपुरोहित

    उत्तर देंहटाएं
  19. वाह सुनील जी ....क्या ख़ूब लिखा है!
    माँ का आशीर्वाद से ही ये संभव है.

    उत्तर देंहटाएं
  20. दिल से निकली एक सुंदर कृति !

    उत्तर देंहटाएं
  21. मां की दुआओं से ही तो यह संसार अभी तक जीवित है।

    उत्तर देंहटाएं
  22. माँ का आशीर्वाद से ही ये संभव है.

    उत्तर देंहटाएं