मंगलवार, जनवरी 25, 2011

यह कैसा गणतन्त्र दिवस


एक और गणतंत्र दिवस
कल फिर हम मनाएंगे |
अपनी आजादी पर हम
संविधान की मुहर लगायेंगे |


कुछ लोग तिरंगा लेकर ,
गलियों सड़कों में घूमेंगें | 
भारत महान और जय हिंद ,
के नारे भी आकाश में गूंजेंगे |
मग़र उसी गली के भूखे बच्चे ,
उन्हीं सड़कों पर नंगे ही सो जायेंगे |


जय जवान और जय किसान के 
नारे भी दोहराय जायेंगे |
नई योजना औए नये वादों से ,
हम फिर बहलाए जायेंगे |
मग़र क़र्ज़ से दबे किसान 
बस यूँही मरते जायेंगे |


जय जवान की ज्योति पर ,
फिर फूल चढ़ाये  जायेंगे  |
कुछ बंदूकें भी गरजेंगी ,
कुछ गोले भी दागे जायेंगे |
मग़र उन्हीं शहीदों के भूखे  बच्चे ,
सड़कों पर दर दर ठोकर खायेंगे |



एक और गणतंत्र दिवस
कल फिर हम मनाएंगे |
अपनी आजादी पर हम
संविधान की मुहर लगायेंगे |

37 टिप्‍पणियां:

  1. मै भी इस सोच में हू यह गणतंत्र किन गणो के लिये है

    उत्तर देंहटाएं
  2. गणतन्त्र मना लेंगे पर समुचित उत्साह कब आयेगा?

    उत्तर देंहटाएं
  3. yahi sab hum her saal karenge , ek geet bhi baja denge - shahidon tumko mera salaam

    उत्तर देंहटाएं
  4. बस एक दिन केवल गीत ही गाने को रह गये बाकी आज़ादी तो नेताओं को है गरीब तो अभी भी बेबसी मे है। अच्छी रचना के लिये बधाई।

    उत्तर देंहटाएं
  5. आज गणतंत्र दिवस मनाना एक औपचारिकता के अतिरिक्त और कुछ भी नहीं रह गया है........अच्छी लगी आपकी रचना।

    उत्तर देंहटाएं
  6. haan sunil jee republic day ka matlab hi aaj kewal aupchaarikta rah gaya hai....par aaj bhi bahut log hai jinke sine me hindustaan dhadkata hai...

    उत्तर देंहटाएं
  7. औपचारिकता तो निबाहनी ही है न ..अच्छी प्रस्तुति

    उत्तर देंहटाएं
  8. सही कहा सिर्फ़ एक दिन ही याद किया जाता है ।

    उत्तर देंहटाएं
  9. यथार्थ पर आधारित उत्तम प्रस्तुति.

    उत्तर देंहटाएं
  10. हम आजाद हैं और हमारा अपना संविधान है इस बात पर खुश होकर जोश भरे दिल से गणतन्त्र दिवस मनाएं ! आपको बहुत बहुत बधाई !

    उत्तर देंहटाएं
  11. विषमताओं के बीच ही सही गणतंत्र दिवस की बधाई !

    उत्तर देंहटाएं
  12. sach kahate hai. iske alava hum aur aap kaya kar sakte hai sunil ji?

    उत्तर देंहटाएं
  13. गणतंत्र दिवस की सच्ची तस्वीर दिखाई आपने.. Gunतंत्र हो चला है अब तो गणतंत्र!!

    उत्तर देंहटाएं
  14. Achcha kaha hai sunil bhai.
    Khushi ke mouke par saare dukh ubhar kar aa jaate hain.
    Aakhir Sachchaai to sachchai hi hai.

    उत्तर देंहटाएं
  15. यह कैसा गणतंत्र ?
    प्रश्न चिन्ह तो लगता ही है |

    उत्तर देंहटाएं
  16. यही सच है पर कब सब कुछ बदलेगा इसका ही इंतजार है

    उत्तर देंहटाएं
  17. ऐसी औपचारिकता के साथ ही बदलाव की भी दरकार है..... सुंदर प्रस्तुति....

    उत्तर देंहटाएं
  18. Jaisabhi hai,apna hee hai! Gantantr Diwas kee dheron shubhkamnayen!

    उत्तर देंहटाएं
  19. अच्छी प्रस्तुति ...अच्छी कविता के लिये बधाई स्वीकारें।

    उत्तर देंहटाएं
  20. आप सब को गणतंत्र दिवस की हार्दिक शुभ कामनाएं.
    सादर
    ------
    गणतंत्र को नमन करें

    उत्तर देंहटाएं
  21. हम सभी एक नया भारत बनाना चाहते है , किन्तु हम सिर्फ कहते ही है , कुछ करने के लिये कोई बाहर से नही आने वाला , हमे ही कुछ करना होगा

    उत्तर देंहटाएं
  22. बहुत खुबसूरत रचना !

    गणतंत्र दिवस की बहुत बहुत बधाई !

    उत्तर देंहटाएं
  23. प्रयास रहे कि अगला गणतंत्र दिवस बेहतर बनाएंगे.

    उत्तर देंहटाएं
  24. .

    Unfortunately , this is the bitter truth !

    But anyways , let us enjoy whatever we have.

    .

    उत्तर देंहटाएं
  25. असली उत्सव तो तभी होगा जब देश में कोई बच्चा भूखा ना होगा | अच्छी रचना |

    उत्तर देंहटाएं
  26. बहुत ही सुन्दर रचना .. देश में व्याप्त समस्याओ का मर्मस्पर्शी चित्रण..

    उत्तर देंहटाएं
  27. जी ऐसा ही है हमारा गणतंत्र ...
    अभी कल ही एस ऍम हबीब साहब की बहुत अच्छी रचना पढ़ी ब्लॉग पर ....
    गणतंत्र शुभकामनाओं की गठरी लिए सड़क पर गिरा पड़ा था ...

    उत्तर देंहटाएं
  28. सही कहा आपने,
    राष्ट्रीय पर्वों में अब पहले जैसी गरिमा नहीं दिखती।
    अच्छी रचना।

    उत्तर देंहटाएं
  29. अब पहले जैसा उत्साह देखने को नहीं मिलता ..ख़ास कर युवा पीढ़ी में तो बिलकुल भी नहीं ...शुक्रिया आपका

    उत्तर देंहटाएं
  30. गणतंत्र दिवस एक उल्लास का उत्सव है. आशा का दामन नहीं छोड़ना चाहिए.

    उत्तर देंहटाएं
  31. भरोसा रखें धीरे धीरे बदलाव आएगा ! शुभकामनायें आपको

    उत्तर देंहटाएं
  32. सच में औपचरिकता ही रह गये हैं देश के पर्व। अच्‍छी रचना।

    उत्तर देंहटाएं
  33. बदलाव जरुर आएगा....बहुत सुन्दर रचना है.....शुभकामनाये

    उत्तर देंहटाएं
  34. सच में ऐसे गणतंत्र का क्या फाय्दा.. संवेदनशील रचना है बहुत ...

    उत्तर देंहटाएं