बुधवार, अक्तूबर 27, 2010

यथार्थ


झाँक कर देखा खिड़की से
उमड़ते हुए बादलों को
दौड़ कर आँगन में आया | 
और आकाश में बादलों का एक झुंड पाया | 
और शुरू हो गया तलाश का
एक अंतहीन सिलसिला
अचानक खिल उठा चेहरा |
और प्रसन्न हुआ अंतर्मन
क्योंकि मिल गयी थी मुझे ,
मुन्नी की गुड़िया और पत्नी का कंगन
फिर अचानक कुछ सोंच कर डर गया
यथार्थ के धरातल पर गिर गया |
दौड़ कर अन्दर आया
बंद कर ली खिड़की और दरवाजे
कहीं भिगो न दे यह
मेरे तन का एकमात्र कपड़ा |

 (एक पुरानी रचना पुनः  प्रकाशित)  


16 टिप्‍पणियां:

  1. बहुत ही गहन चिंतन वाली पोस्ट...
    गद्य को पूर्णता देती कविता भी सोचने को विवश करती है.

    उत्तर देंहटाएं
  2. गहरी बात कह दी आपने। नज़र आती हुये पर भी यकीं नहीं आता।

    उत्तर देंहटाएं
  3. बंद कर ली खिड़की और दरवाजे
    कहीं भिगो न दे यह
    मेरे तन का एकमात्र कपड़ा |
    बहुत खूबसूरत एहसास हैं ...

    उत्तर देंहटाएं
  4. 6/10

    सुन्दर अर्थपूर्ण प्रस्तुति
    अनकही सी रचना जो बहुत कुछ कह गयी.

    उत्तर देंहटाएं
  5. सुनील जी ...आपकी ये रचना बहुत उम्दा है .
    उस्ताद जी भी ऐसा ही मानते है....
    सुनील जी बधाई हो ....... .......

    उत्तर देंहटाएं
  6. बंद कर ली खिड़की और दरवाजे
    कहीं भिगो न दे यह
    मेरे तन का एकमात्र कपड़ा |
    गहरी यादों को शब्दों के बहाव ने ेअच्छी रवानगी दी है। शुभकामनायें।

    उत्तर देंहटाएं
  7. झाँक कर देखा खिड़की से
    उमड़ते हुए बादलों को
    दौड़ कर आँगन में आया |
    और आकाश में बादलों का एक झुंड पाया
    सुंदर भाव लिए अच्छी कविता।

    उत्तर देंहटाएं
  8. .

    प्रभावशाली अभिव्यक्ति !

    .

    उत्तर देंहटाएं
  9. बहुत प्रभावी अभिव्यक्ति!

    उत्तर देंहटाएं
  10. ankahe ehsaason ko sunna padhna achha laga.... vatvriksh ke liye apni rachna bhejen parichay aur tasweer ke saath rasprabha@gmail.com per

    उत्तर देंहटाएं