शुक्रवार, अक्तूबर 15, 2010

शोहरत की धूल


जैसे जैसे हमारी पहचान 
 समाज में बढने लगती है |
वैसे वैसे हमारी रिश्तों की,
चादर सिमटने लगती है |
प्रेम और आत्मीयता के फूलों के रंग  ,
अब धुंधले पड़ने लगे है |
क्योंकि उसमें गरीबी और बदहाली के, 
निशान उभरने लगे है |
आज हमें अपनों की शक्लें की
अनजानी लगने लगी है |
क्योंकि आँखों पे चढ़े चश्में पर 
शोहरत की धूल जमने लगी है |

16 टिप्‍पणियां:

  1. इस शोहरत की धूल मे सब एक दिन दब जायेंगे । यह अन्धा कर देती है ।

    उत्तर देंहटाएं
  2. जिन्दगी में हर वक्त संतुलन जरूरी है...सत्य-न्याय-ईमानदारी की राह को छोड़कर क्योकि इस राह पर चलने वालों का संतुलन किसी न किसी वजह से गड्बरा ही जाता है ....तभी लोग आज इस राह से दूर भागतें हैं ..राष्ट्रपति और प्रधानमंत्री जैसे शक्तिशाली पदों पर बैठकर भी ...

    उत्तर देंहटाएं
  3. सही कहा है आपने!
    आज वाकई में रिश्तों की चादर छोटी हो गई है!
    --
    विजयादशमी की शुभकामनाएँ!

    उत्तर देंहटाएं
  4. सुंदर प्रस्तुति...दशहरे की हार्दिक शुभकामनाएं।

    उत्तर देंहटाएं
  5. प्रेम और आत्मीयता के फूलों ,
    अब धुंधले पढने लगे है |
    फूलों नहीं फूल .....
    पढने नहीं पड़ने ....
    टंकण की गलतियां सुनील जी ....
    इससे रचना की उत्कृष्टता कम होती है ....

    उत्तर देंहटाएं
  6. हरकीरत जी आपका सुझाव बिलकुल सही था अब मैंने गलती सुधार ली है

    उत्तर देंहटाएं
  7. यथार्थ तो यही है। बहुत अच्छी प्रस्तुति। राजभाषा हिन्दी के प्रचार-प्रसार में आपका योगदान सराहनीय है।
    बेटी .......प्यारी सी धुन

    उत्तर देंहटाएं
  8. अच्छा है जीवन को बस चंद शब्दों में जान लेना

    उत्तर देंहटाएं
  9. आपके दिल की य बातें बिल्कुल सही हैं।

    उत्तर देंहटाएं