सोमवार, अगस्त 23, 2010

ख़्वाबों को जीना



माना की ख्वाबों  को जीना ,
 भी कोई बुरी बात नहीं |
मग़र ख्वाबों  के टूटने पे 
टूटना भी सही बात नहीं |


अगर ख्वाबों को ही  जीना तो ,
उनको बदलने का कोई रास्ता निकाल लो |
वरना अपने ख्वाबों को ज़हर ,
देने की आदत भी डाल लो |


25 टिप्‍पणियां:

  1. माना की ख्वाबों को जीना ,
    भी कोई बुरी बात नहीं |
    मग़र ख्वाबों के टूटने पे
    टूटना भी सही बात नहीं |
    Baat to sahi hai,lekin jo tan lage so tan jane! Kabhi,kabhi hoshme aane se pahle hi ham toot jate hain!

    उत्तर देंहटाएं
  2. मग़र ख्वाबों के टूटने पे
    टूटना भी सही बात नहीं |

    सही राह दिखती पंक्तियाँ ....बहुत खूब

    उत्तर देंहटाएं
  3. बहुत ही गहरी बात कही है आपने कम शब्दों में।

    उत्तर देंहटाएं
  4. अच्‍छी अभिव्‍यक्ति .. रक्षाबंधन की बधाई एवं शुभकामनाएं !!

    उत्तर देंहटाएं
  5. khvab fir 2 dekhna is me bura kya hai
    sahare ummid ke hi ye jmana hai
    aap khoob khvab dekh rhe hain ishwr aap ke khvabon ko poora kren meri shubh kamnayenhain
    smprk bnaye rkhe
    dr.vedvyathit@gmail.com

    उत्तर देंहटाएं
  6. Get your book published.. become an author..let the world know of your creativity or else get your own blog book!


    www.hummingwords.in/

    उत्तर देंहटाएं
  7. बहुत अच्छी कविता।

    *** भारतीय एकता के लक्ष्य का साधन हिंदी भाषा का प्रचार है!

    उत्तर देंहटाएं
  8. ख्वाबों के टूटने पे
    टूटना भी सही बात नहीं |


    kai kavitayen padhi aapki ........ek se badhkar ek
    saargarbhit ,saral or sundar
    yakinan daad ki haqdaar ..kubool karen

    उत्तर देंहटाएं
  9. बहुत प्यारी कविता...बधाई.
    ______________________
    "पाखी की दुनिया' में 'मैंने भी नारियल का फल पेड़ से तोडा ...'

    उत्तर देंहटाएं
  10. .
    अगर ख्वाबों को ही जीना तो ,
    उनको बदलने का कोई रास्ता निकाल लो |
    वरना अपने ख्वाबों को ज़हर ,
    देने की आदत भी डाल लो |

    Very stern instruction ! I liked it !
    .

    उत्तर देंहटाएं
  11. बहुत अच्छी कविता।
    :: हंसना स्वास्थ्य के लिए लाभदायक होता है।

    उत्तर देंहटाएं
  12. रक्षाबंधन पर हार्दिक बधाइयाँ एवं शुभकामनायें! बहुत सुन्दर भाव और अभिव्यक्ति के साथ लिखी हुई आपकी ये शानदार रचना काबिले तारीफ़ है! बधाई!
    मेरे ब्लोगों पर आपका स्वागत है !

    उत्तर देंहटाएं
  13. माना की ख्वाबों को जीना ,
    भी कोई बुरी बात नहीं |
    मग़र ख्वाबों के टूटने पे
    टूटना भी सही बात नहीं |
    बहुत ही भावपूर्ण रचना .... प्रस्तुति के लिए बधाई

    उत्तर देंहटाएं
  14. एक मतला और एक शेर.......इतने में ही सब कुछ।

    उत्तर देंहटाएं
  15. A great pen from a creative thinking genius, keep it going bro.

    उत्तर देंहटाएं
  16. सपने देखना और उन सपनों को यथा संभव पूरा करने की चाह मन में होनी चाहिए.

    उत्तर देंहटाएं
  17. khwaabon ko zahar dekar bhi dekh liya kai baar....par wo har baar zindaa ho uthte hain...!!!

    उत्तर देंहटाएं