रविवार, जुलाई 25, 2010

मग़र




सावन की रिमझिम फुहारों  में आप .
अपने जीवन का आनंद लीजिये |
मग़र टूटे मकानों में रहते है जो , 
कुछ उनकी छतों का भी ध्यान कीजिये |
सींचा है तुमने जिस वृक्ष को
आप उसे कल्प वृक्ष नाम दीजिये |
मग़र सूखे दरख्तों के गिर जाने पर
आँधियों को मत इल्जाम  दीजिये |
अपने घरों की बहू बेटियों को
आप देवियों सा सम्मान दीजिये |
मग़र रोटी से तन का जो सौदा करे
कोई उसे दूजा मत नाम दीजिये |
आँखों  से टपके जो आँसू कोई
आप उसे मोतियों  का नाम दीजिये |
मग़र रोटी को रोते हुए बच्चे के 
आँसुओं  को पानी मत मान लीजिये |

17 टिप्‍पणियां:

  1. सही कहा आपने सुनील जी!...अपनों में और परायो में फरक क्यों किया जाए?... अपने दर्द को दर्द समझने वाले दूसरों के दर्द को भी समझें तो अच्छा है... सुंदर कविता,धन्यवाद!

    उत्तर देंहटाएं
  2. सुंदर कविता करते हैं आप जो कि मेरा प्रांत नही है। पर आपने मेरी पोस्ट धुन की पक्की महिलाएँ पर एक टिप्पणी छोडी है। धन्यवाद। खृपया अपना इमेल पता बताएँ।

    उत्तर देंहटाएं
  3. बहुत दिनों बाद इतनी बढ़िया कविता पड़ने को मिली.... गजब का लिखा है

    उत्तर देंहटाएं
  4. "माफ़ी"--बहुत दिनों से आपकी पोस्ट न पढ पाने के लिए ...

    उत्तर देंहटाएं
  5. मग़र रोटी को रोते हुए बच्चे के
    आँसुओं को पानी मत मान लीजिये |

    अंतिम पंक्तियाँ सब पर भारी हैं ......!!

    उत्तर देंहटाएं
  6. हमारीवाणी का लोगो अपने ब्लाग पर लगाकर अपनी पोस्ट हमारीवाणी पर तुरंत प्रदर्शित करें

    हमारीवाणी एक निश्चित समय के अंतराल पर ब्लाग की फीड के द्वारा पुरानी पोस्ट का नवीनीकरण तथा नई पोस्ट प्रदर्शित करता रहता है. परन्तु इस प्रक्रिया में कुछ समय लग सकता है. हमारीवाणी में आपका ब्लाग शामिल है तो आप स्वयं हमारीवाणी पर अपनी ब्लागपोस्ट तुरन्त प्रदर्शित कर सकते हैं.

    इसके लिये आपको नीचे दिए गए लिंक पर जा कर दिया गया कोड अपने ब्लॉग पर लगाना होगा. इसके उपरांत आपके ब्लॉग पर हमारीवाणी का लोगो दिखाई देने लगेगा, जैसे ही आप लोगो पर चटका (click) लगाएंगे, वैसे ही आपके ब्लॉग की फीड हमारीवाणी पर अपडेट हो जाएगी.


    कोड के लिए यंहा क्लिक करे

    उत्तर देंहटाएं
  7. bahut sunder bhavo kee abhivykti..........ek sarthak sandesh detee kavita bahut pasand aaee .

    उत्तर देंहटाएं
  8. उम्दा लिखते है सुनील भाई,आज पहली बार आपके ब्लाग पर आना हुआ। आपकी संवेदना व्यापक है..
    बधाई

    डा.अजीत
    www.shesh-fir.blogspot.com
    www.monkvibes.blogspot.com

    उत्तर देंहटाएं
  9. शानदार व विचारणीय प्रेरक प्रस्तुती ...

    उत्तर देंहटाएं
  10. बहुत सुन्दर प्रस्तुति!

    उत्तर देंहटाएं
  11. सुन्दर प्रस्तुती , माधव के ब्लॉग पर आने के लिए धन्यवाद

    उत्तर देंहटाएं
  12. kudos..sir..d poem has sparked d morbidity n the true veracity of our so calld..the incredible...india n need of tym is to wrk concomitantly..to grapple over d odds,,,n think above the common thoughts...again..too gud..

    उत्तर देंहटाएं
  13. आँखों से टपके जो आँसू कोई
    आप उसे मोतियों का नाम दीजिये |
    मग़र रोटी को रोते हुए बच्चे के
    आँसुओं को पानी मत मान लीजिये |
    Bahut hi sundar lines hai.
    aise hi likhte rahiye.

    उत्तर देंहटाएं