बुधवार, जुलाई 07, 2010

इन आम आदमियों को भूल मत जाना


आम आदमी

तुमको तुम्हारे शहर की
सड़कों पर पड़ी ,
जिन्दा लाशों की कसम
मत डालना तुम ,
इन पर झूठी सहानुभूति का कफ़न
इनको यूँही पड़ा रहने दो
चीखने दो चिल्लाने दो
तुम्हारी सभ्यता की कहानी
इनको ही सुनाने दो
सड़क पर पड़े हुए यह लोग
हमारे बहुत काम आते है |
तभी तो हमारे राजनेता
इनके भूखे नंगे तपते हुए पेटों पर
राजनीति की रोटियां सेंक जाते है |
इनको तरह तरह से 
उपयोग में लाया जाता है |
कभी राम कभी अल्लाह के नाम पर ,
इनका  ही  तो खून बहाया जाता है
और कभी कभी अपनी सियासत,
चमकाने और ताकत दिखाने के लिए
इन आम आदमियों के नाम पर
भारत बंद बुलाया जाता है |
चुनावों के समय हम ,
इनको आम जनता कहते है |
और फिर आने वाले चुनावों तक ,
आम की तरह चूसते रहते है |
यह रोते है तो रोने दो
मत जगाओ, सोने दो |
जिस दिन यह सोता हुआ,
आम आदमी जाग जायेगा ,
उस दिन से संसद का रास्ता
बहुत कठिन  हो जायेगा |

18 टिप्‍पणियां:

  1. बेहतरीन एवं करारा व्यंग करती रचना है। बधाई सुनील जी।

    उत्तर देंहटाएं
  2. व्यंग की बड़ी तेज़धार तलवार चलाई है........बहुत बढ़िया।

    उत्तर देंहटाएं
  3. कुछ तो बात है...अच्छा लगा...

    उत्तर देंहटाएं
  4. जिस दिन यह सोता हुआ,
    आम आदमी जाग जायेगा ,
    उस दिन से संसद का रास्ता
    बहुत कठिन हो जायेगा |
    --
    उसी दिन का इन्तजार है हमें भी!

    उत्तर देंहटाएं
  5. Very good poetry, keeping in changing trends. Now a days Aam Admi is becoming slogan of politicians. Nobody cares him except in elections.
    Aam Admi ko jai ho

    उत्तर देंहटाएं
  6. हालिया राजनिती ऐसी ही शिक्षा दे रही है!... बापू और भगतसींग की कहानियां तो सिनेमा तक ही सीमित रह गई है!...बढिया व्यंग्य पेश किया है आपने...धन्यवाद!

    उत्तर देंहटाएं
  7. बस इसी आम आदमी को ही तो जगाना है……………बहुत सुन्दर सन्देश देती कविता।

    उत्तर देंहटाएं
  8. मत डालना तुम ,
    इन पर झूठी सहानुभूति का कफ़न......
    सही कहा है आप ने....

    किसी की मदद करो तो दिल से करो....
    झूठी सहानुभूति नहीं चाहिए....

    उत्तर देंहटाएं
  9. चुनावों के समय हम ,
    इनको आम जनता कहते है |
    और फिर आने वाले चुनावों तक ,
    आम की तरह चूसते रहते है |..

    Waah...Jabardast vyang likha hai..

    .

    उत्तर देंहटाएं
  10. bhai bahut khoob likha hai aap ne, aisa vyangya jitna teekha hai utana hee haqeeqat ke nazdeek bhee. keep it up is dhaar ko banaye rakhiye

    उत्तर देंहटाएं
  11. जरूरत तो आम आदमी के जागने की है....खूबसूरत रचना

    उत्तर देंहटाएं
  12. waise ye aam aadmi jaagne waala naheen hai Suneel Ji, aur jagane kee jaroorat bhi mujhe samajh naheen aatee... Ye aam aadmi keede-makode jaisa nireeh jeev hai jo bana hee shoshit hone ke liye hai.... Rachna behatareen hai...

    उत्तर देंहटाएं
  13. जिस दिन यह सोता हुआ,
    आम आदमी जाग जायेगा ,
    उस दिन से संसद का रास्ता
    बहुत कठिन हो जायेगा |
    पर मुश्किल तो यही है कि यह जागता ही नहीं है
    बढिया रचना

    उत्तर देंहटाएं