मंगलवार, जुलाई 13, 2010

क्या यही हमारा विकास है

 
माना पगडंडी को सड़क बना कर
हमने विकास का काम किया है |
और रोटी पर बिछी हुई सब्जी को
हमने पिज्ज़ा का नाम दिया है |
अब आँगन तुलसी  को तरसे ,
और बगिया तरसे  फूलों को
लगा के छत पर नागफ़नी को
 उसे रूफ गार्डन नाम दिया है |
दरकिनार कर अपनी प्रतिभा को
 कंप्यूटर को सब कुछ मान लिया है |
चोरी गड़बड़  घोटालों को ,
हमने हैकिंग का नाम दिया है |
अब मेरे घर में जगह नहीं है
अपने बूढ़े- बूढ़े  लोगों की ,
अलग बना कर घर उनका
उसे ओल्डएज होम का नाम दिया है |

17 टिप्‍पणियां:

  1. सही परिभाषा दी है........तथाकथित विकास की।

    उत्तर देंहटाएं
  2. अब मेरे घर में जगह नहीं है
    अपने बूढ़े- बूढ़े लोगों की ,
    अलग बना कर घर उनका
    उसे ओल्डएज होम का नाम दिया है |
    सटीक अभिव्यक्ति। शुभकामनायें

    उत्तर देंहटाएं
  3. good presentation. People are forgetting that they also become old some time. We have to protect our mother earth and parents.
    Keep going.
    K.V.SrinivasaRao
    http://kasturivenkat.blogspot.com

    उत्तर देंहटाएं
  4. अब आँगन तुलसी को तरसे ,
    और बगिया तरसे फूलों को ..

    How beautifully you expressed the bitter reality of life.

    with progress we must not forget the significance of anyone around.

    Beautiful creation !

    उत्तर देंहटाएं
  5. माना पगडंडी को सड़क बना कर
    हमने विकास का काम किया है |
    और रोटी पर बिछी हुई सब्जी को
    हमने पिज्ज़ा का नाम दिया है
    Dard aur saty,dono samete hue hai yah rachana!

    उत्तर देंहटाएं
  6. अपने बूढ़े- बूढ़े लोगों की ,
    अलग बना कर घर उनका
    उसे ओल्डएज होम का नाम दिया है.nice

    उत्तर देंहटाएं
  7. क्या बात है। रोटी को हमने तो पिज्जा का नाम तो दे दिया। पर स्वाद में भाया नहीं। अब क्या करें लोग। रोटी तो बनानी भूल गए हैं।

    उत्तर देंहटाएं
  8. विकास की धज्जी उड़ाती हुयी कविता।

    उत्तर देंहटाएं
  9. और रोटी पर बिछी हुई सब्जी को
    हमने पिज्ज़ा का नाम दिया है |
    अब आँगन तुलसी को तरसे ,
    और बगिया तरसे फूलों को
    लगा के छत पर नागफ़नी को
    उसे रूफ गार्डन नाम दिया है |

    क्या बात है .......
    गज़ब लिखते हैं.....!!

    उत्तर देंहटाएं
  10. बहुत सुंदर..अपनी जड़ों को सहेजने की अच्छी कोशिश.

    उत्तर देंहटाएं
  11. बहुत सुंदर शब्दों में ढाल कर आज के हालात का हवाला दे दिया.

    उत्तर देंहटाएं
  12. अब मेरे घर में जगह नहीं है
    अपने बूढ़े- बूढ़े लोगों की ,
    अलग बना कर घर उनका
    उसे ओल्डएज होम का नाम दिया है |
    बिलकुल सटीक, तथाकथित विकास ने अंततोगत्वा माता-पिता को कहाँ पहुँचाया है ..
    बहुत सुन्दर

    उत्तर देंहटाएं
  13. अब मेरे घर में जगह नहीं है
    अपने बूढ़े- बूढ़े लोगों की ,
    अलग बना कर घर उनका
    उसे ओल्डएज होम का नाम दिया है |

    ...सच ही लिखा आपने...बेहतरीन पोस्ट. कभी हमारे 'शब्द-शिखर' पर भी पधारें.

    उत्तर देंहटाएं
  14. और रोटी पर बिछी हुई सब्जी को
    हमने पिज्जा का नाम दिया है....
    क्या सटीक बात कही है बहुत खूब

    उत्तर देंहटाएं
  15. wat an elasticity of thoughts.....depicts ur ken..kp d gud wrk goin...

    उत्तर देंहटाएं