सोमवार, जनवरी 14, 2013

शहीदों का सम्मान

आज जब शहीदों के सम्मान की बात चल रही हैं तो मै अपनी बात चार पंक्तियों में रखना 
चाहता हूँ ।

यदि इन शहीदों का सम्मान चाहिए । 
तो एक युद्ध और  घमासान चाहिए ।
मै कश्मीर सियाचिन नहीं मांगता ,
मुझको तो पूरा पाकिस्तान चाहिए ।

22 टिप्‍पणियां:

  1. हर हिन्दुस्तानी कि यही जोश है लेकिन हुक्मरानों का जोश ठंडा पड़ चूका है !!

    उत्तर देंहटाएं
  2. हर हिन्दुस्तानी की आवाज़...

    उत्तर देंहटाएं
  3. प्रभावशाली ,
    जारी रहें।

    शुभकामना !!!

    आर्यावर्त (समृद्ध भारत की आवाज़)
    आर्यावर्त में समाचार और आलेख प्रकाशन के लिए सीधे संपादक को editor.aaryaavart@gmail.com पर मेल करें।

    उत्तर देंहटाएं
  4. बिल्कुल सहमत हूं

    ईंट का जवाब पत्थर से

    उत्तर देंहटाएं
  5. मुझको तो पूरा पाकिस्तान चाहिए,,,,
    बहुत सुंदर उम्दा प्रस्तुति,,,

    recent post: मातृभूमि,

    उत्तर देंहटाएं
  6. बहुत सुंदर उम्दा प्रस्तुति....

    उत्तर देंहटाएं
  7. हर हिन्दुस्तानी की आवाज़ है यह ...
    खनकती पंक्तियाँ ...

    उत्तर देंहटाएं
  8. वाह ये हुयी ना बात
    हर दिल की आवाज़
    आपकी ये हुंकार फ़ेसबुक पर आपके नाम से लगा रही हूँ उम्मीद है आपको ऐतराज़ नही होगा क्योंकि हर हिन्दुस्तानी के दिल की बात कही है आपने

    उत्तर देंहटाएं
  9. ब्लाग् के नाम की तरह ही दिल को छू लेने वाले विचार
    बहुत ही अच्छी प्रस्तुति,
    मकर संक्रांति की शुभकामनाएं

    उत्तर देंहटाएं
  10. इन चार पंक्तियों में आपने सबके दिल की बात कह दी ....
    प्रभावशाली और सशक्त ..
    सादर !

    उत्तर देंहटाएं
  11. सोच लीजिए...पाकिस्तान के साथ अल कायदा भी आयेगा और तालिबान भी..

    उत्तर देंहटाएं
  12. बहुत अच्छी प्रस्तुति....बहुत बहुत बधाई...

    उत्तर देंहटाएं
  13. इस समय सभी देशवासियों को संतुलन बनाए रखना चाहिए

    उत्तर देंहटाएं