मंगलवार, नवंबर 20, 2012

यही सत्य हैं.....

आज बहुत दिनों के बाद ब्लॉग पर आया हूँ ।अपनी एक पुरानी  रचना ले कर , जो मेरी पसंद की हैं ।
आशा करता हूँ आपको भी पसंद आएगी ।

 यही सत्य हैं....

झाँक कर देखा खिड़की से
उमड़ते हुए बादलों को
दौड़ कर आँगन में आया | 
और आकाश में बादलों का एक झुंड पाया | 
और शुरू हो गया तलाश का,
एक अंतहीन सिलसिला
अचानक खिल उठा चेहरा |
और प्रसन्न हुआ अंतर्मन
क्योंकि मिल गयी थी मुझे ,
मुन्नी की गुड़िया और पत्नी का कंगन
फिर अचानक कुछ सोंच कर डर गया ।
यथार्थ के धरातल पर गिर गया |
दौड़ कर अन्दर आया
बंद कर ली खिड़की और दरवाजे
कहीं भिगो न दे यह,
मेरे तन का एकमात्र कपड़ा |


18 टिप्‍पणियां:

  1. आपको पढने में वाकई एक अलग ही सुख देने वाला है
    बहुत सुंदर
    क्या कहने

    उत्तर देंहटाएं
  2. सुन्दर भावपूर्ण अभिव्यक्ति...

    उत्तर देंहटाएं
  3. स्वागतम-
    आभार पुन: पढवाने के लिए ।।

    उत्तर देंहटाएं
  4. अत्यंत भावपूर्ण अभिव्यक्ति .....

    उत्तर देंहटाएं
  5. बहुत भाव पूर्ण प्रस्तुति बहुत बहुत बधाई

    उत्तर देंहटाएं
  6. प्रशंसनीय। मेरे नए पोस्ट पर आपका स्वागत है। धन्यवाद।

    उत्तर देंहटाएं
  7. भावनाओं का उमड़ घमड ...
    बहुत खूब ...

    उत्तर देंहटाएं
  8. बहुत खूब .सुन्दर व् सार्थक प्रस्तुति. कमाल का शब्द सँयोजन
    कभी यहाँ भी पधारें और लेखन भाने पर अनुसरण अथवा टिपण्णी के रूप में स्नेह प्रकट करने की कृपा करें |
    http://madan-saxena.blogspot.in/
    http://mmsaxena.blogspot.in/
    http://madanmohansaxena.blogspot.in/
    http://mmsaxena69.blogspot.in/

    उत्तर देंहटाएं