सोमवार, जनवरी 09, 2012

हास्य कवि और उनकी कविता (दूसरी कड़ी )


अक्सर हास्य कवियों पर यह आरोप लगते है कि वह लतीफों को पंक्तिबद्ध करके रचनाएँ लिखते है | मगर मेरा मानना है कि हास्य कवि दोहरी भूमिका निभाता है | इस व्यथित समाज को हँसाने के साथ  साथ सन्देश भी देता है |
चलिए एक आरोप और लगा दीजिये |


चौराहे पर एक बुढ़िया,
भागी चली जा रही थी |
उसके ठीक पीछे ट्रेफ़िक पुलिस,
सीटी बजा रही थी |
पुलिस वाला चिल्लाया ,
अंधी है क्या ,जो देखती नहीं
बहरी है क्या ,जो सीटी की आवाज  नहीं आती
बुढ़िया बोली ना अंधी हूँ ना बहरी
बस हो गयीं बूढ़ी|
यही सीटी की आवाज,
अगर चालीस साल पहले आती |
तो एक ही बार में पलट कर आती |

27 टिप्‍पणियां:

  1. सुंदर अभिव्यक्ति बढ़िया रोचक हास्य रचना,....मजा आ गया
    welcom to--"काव्यान्जलि"--

    उत्तर देंहटाएं
  2. जीवन की स्थितियां हैं यह ....वक़्त - वक़्त की बात है ...!

    उत्तर देंहटाएं
  3. लेकिन लतीफे को पंक्तिबध करके उसको
    कविता का रूप देना कोनसा आसान काम है .
    बहुत खुबसूरत लिखा आपने.

    उत्तर देंहटाएं
  4. :) सही है वक्त-वक्त की बात है। समय मिले कभी तो आयेगा मेरी पोस्ट पर आपका स्वागत है http://mhare-anubhav.blogspot.com/

    उत्तर देंहटाएं
  5. वाह ! बहुत खूब..इसी तरह हंसाते रहें..

    उत्तर देंहटाएं
  6. सुन्दर ,रोचक लेकिन अर्थपूर्ण रचना ....

    उत्तर देंहटाएं
  7. वाह एक और हास्य कविता... मस्त !! :)

    उत्तर देंहटाएं
  8. अकल की अंधी- उसे सीटी सीटी का भी अंतर नहीं मालूम अभी तक। :)

    उत्तर देंहटाएं
  9. वाह बहुत बढ़िया!
    आपकी इस प्रविष्टी की चर्चा कल बुधवार के चर्चा मंच पर भी होगी!
    सूचनार्थ!

    उत्तर देंहटाएं
  10. बहुत सुंदर प्रस्तुति,रोचक मजेदार बेहतरीन रचना
    welcome to new post --काव्यान्जलि--यह कदंम का पेड़--

    उत्तर देंहटाएं
  11. हा हां हां हाह - - - मजेदार.

    उत्तर देंहटाएं
  12. बहुत खूब व्यंग्य भी विनोद भी विद्रूप भी पुलिसिया तंत्र का .

    उत्तर देंहटाएं
  13. बहुत खूब व्यंग्य भी विनोद भी विद्रूप भी पुलिसिया तंत्र का .

    उत्तर देंहटाएं
  14. कविता अच्छी लगी । मेरे नए पोस्ट "लेखनी को थाम सकी इसलिए लेखन ने मुझे थामा": पर आपका बेसब्री से इंतजार रहेगा । धन्यवाद। .

    उत्तर देंहटाएं